home / पैरेंटिंग
शिशुओं के फटे होंठ

बच्चों के होठों के लिए साधारण जेली या तेल के मुकाबले कितना बेस्ट है लिप बाम, जानें

बच्चों की स्किन बहुत ही कोमल और मुलायम होती है और उससे भी ज्यादा सॉफ्ट होते हैं उनके पिंक-पिंक क्यूट से लिप्स। ऐसे में बच्चों के होठों का ख्याल रखना भी पेरेंट्स की जिम्मेदारी होती है। जिस तरह महिलाएं अपने होठों को सॉफ्ट व पिंक बनाए रखने के लिए लिप बाम अप्लाई करती हैं, ठीक उसी तरह शिशुओं के फटे होंठ की केयर के लिए भी लिप बाम उतना ही जरूरी होता है। 

अधिकतर माएं बच्चों के होठों को सॉफ्ट बनाए रखने के लिए दूध की मलाई, साधारण जेली और तेल आदि अप्लाई करती हैं। लेकिन क्या आप जानती हैं कि इन सब चीजों की तुलना में बच्चों के होठों पर लिप बाम लगाना कितना फायदेमंद हो सकता है। इस लेख में हमारा फोकस बस इस बात पर रहेगा कि साधारण जेली और तेल के मुकाबले बच्चों के होठों के लिए लिप बाम कितना बेस्ट है। 

शिशुओं के फटे होंठ के लिए लिप बाम क्यों है खास?

शिशुओं के फटे होंठ
शिशु के ड्राई लिप्स

बच्चों के फटे होंठों के लिए माँ तरह-तरह के प्रोडक्ट्स व घरेलू उपायों का सहारा लेती हैं, जिसके बारे में नीचे विस्तार से चर्चा करेंगे।

वैसलीन जेली: बच्चों के फटे होंठों के लिए ज्यादातर महिलाएं वैसलीन जेली का इस्तेमाल करती हैं। यह लिप्स को स्मूद तो बनाता है, परंतु यह होंठों की रंगत को गाढ़ा व काला कर सकता है। इसके पीछे इसमें मौजूद वैसलून को वजह माना गया है। 

नारियल तेल: शिशुओं के फटे होंठों के लिए नारियल तेल का इस्तेमाल भी बहुत कॉमन है। परंतु, शुद्ध नारियल तेल मिलना आज के समय में बहुत मुश्किल है। 

लिप बाम: शिशुओं के फटे होंठों की समस्या को ध्यान में रखते हुए लिप बाम को खास तैयार किया गया है। इसमें वो सारे इंग्रीडिएंट्स होते हैं, जो बच्चों के होंठों को सॉफ्ट बनाने में सहायक हो सकते हैं। साथ ही बाजार में यह अलग-अलग फ्लेवर में मौजूद हैं, जो बच्चों को काफी पसंद आते हैं।

नीचे बेबी लिप बाम से जुड़ी कुछ विशेषताओं के बारे में बता रहे हैं:

  • बाजार में नवजात शिशुओं के लिए खास लिप बाम उपलब्ध हैं, जिसे उनकी त्वचा को ध्यान में रखते हुए खास तैयार किया गया है।
  • शिशुओं की कोमल त्वचा के लिए बेबी लिप बाम सौम्य होते हैं।
  • बेबी लिप बाम में उन केमिकल्स को नहीं मिलाया जाता जो बड़ों के लिप बाम में होते हैं।
  • बेबी लिप बाम में किसी तरह के टॉक्सिन, मिनरल ऑयल, पैट्रोकेमिल और सिंथेटिक फ्रेगनेंस का इस्तेमाल नहीं होता है।
  • बच्चों के लिप बाम को बनाने के लिए प्राकृतिक घटकों का इस्तेमाल किया जाता है। जैसे बेबी चकरा के नरिशिंग लिप बाम को ओर्गेनिक कैस्टर ऑयल, ओर्गेनिक कोकोनट ऑयल, बीस वैक्स, शीया बटर, ओर्गेनिक ऑलिव ऑयल, ओर्गेनिक जोजोबा ऑयल, स्ट्रॉबेरी ऑयल, विटामिन-ई, बीटरूट एक्सट्रैक्ट आदि से तैयार किया गया है।

शिशुओं के लिए लिप बाम का चयन करते समय बरतें ये सावधानियां

शिशुओं के फटे होंठों की समस्या से राहत दिलाने के लिए लिप बाम खरीदते समय नीचे दी गई बातों का विशेष ख्याल रखने की जरूरत होती है:

शिशुओं के फटे होंठ
फटे होंठ
  • कई महिलाएं बड़ों के होंठों पर उपयोग किए जाने वाला लिप बाम शिशु के लिए इस्तेमाल करती हैं। ऐसा नहीं करना चाहिए। इनमें ऐसे कई केमिकल हो सकते हैं, जो बच्चों की नाजुक त्वचा को नुसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए, बच्चों के लिए हमेशा बेबी-सेफ लिप बाम का चयन करें।
  • बच्चों के लिए बनाए गए लिप बाम को कई सेफ्टी टेस्ट को पास करना होता है। जैसे बेबी चकरा का नरिशिंग लिप बाम डर्मेटोलॉजिस्ट द्वारा टेस्टेड है।
  • अपने शिशु के होठों पर बेबी लिपबाम का उपयोग करने से पहले एक बार चिकितस्क से सलाह लें।

आशा करते हैं इस लेख को पढ़ने के बाद आप बच्चों के फटे होंठों के लिए लिप बाम कैसे बेहतर है, इससे अच्छे से वाकिफ हो गए होंगे। अगर अब बच्चा फटे होंठों से परेशान होता है, तो लिपबाम से करें इस समस्या को दूर।

Image Sources: Freepik/Pexel

18 Apr 2022

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text