home / Sex Education
सेक्स एक्सपर्ट के मुताबिक जानें क्या है फीमेल इजेकुलेशन का सच – The Truth About Female Ejaculation

सेक्स एक्सपर्ट के मुताबिक जानें क्या है फीमेल इजेकुलेशन का सच – The Truth About Female Ejaculation

एक सेक्स थेरेपिस्ट डॉ. पाैम स्पर ने बताया कि करीब एक तिहाई महिलाओं ने अपनी जिंदगी के एक खास मुकाम पर इसे महसूस किया है। यह कुछ ऐसा है, जिसके बारे में हम सभी ने सुना है – और कुछ ने भी देखा भी है – लेकिन क्या फीमेल एजेकुलेशन वास्तविक है? यदि आपने हाल ही में कोई पोर्न देखा है (ईमानदारी से बताएं) तो शायद आप इससे अजनबी नहीं होंगी। 

क्या सिर्फ कल्पना है यह?

पोर्न फिल्मों (Porn Film) में महिला इजेकुलेशन या स्खलन (ejaculation) काफी अच्छी तरह से दिखाया जाता है, लेकिन इसका अनुभव बहुत कम ही महिलाएं करती हैं। “शी-जैकुलेशन” वास्तव में कॉमन नहीं है – यह सिर्फ कुछ लोगों की कल्पना मात्र है। यहां यह नहीं कहा जा रहा है कि ऐसा होता ही नहीं है। सेक्स एक्सपर्ट डॉ पाम स्पर के मुताबिक करीब एक तिहाई महिलाएं अपने जीवन में किसी न किसी समय इसका अनुभव करती हैं। उन्होंने बताया, “फीमेल इजेकुलेशन यानि महिला स्खलन – या स्क्वरटिंग – अब पोर्न का प्रमुख हिस्सा है, क्योंकि लोग इससे काफी प्रभावित होते हैं, लेकिन वास्तव में यह उतना कॉमन नहीं है। हो सकता है कि महिलाएं इसे स्वीकार न करें – लेकिन अधिकांश महिला इजेकुलेशन वास्तव में पेशाब होती है।

ADVERTISEMENT

most-romantic-irotic-bollywood-songs

पेशाब होने की उम्मीद

उन्होंने कहा, “महिला जनसंख्या की करीब एक तिहाई महिलाओं का कहना है कि शायद जीवन में केवल एक बार उन्होंने ‘स्क्वरटिंग’ (squirting) का अनुभव किया है। “यही वह जगह है, जहां सेक्स या ऑर्गैज़्म (orgasm) के दौरान फ्लूड (पानी जैसा) योनि ( vagina) से बाहर निकलता है। अगर यह वही है, जिसे आप उस दौरान अनुभव करते हैं, तो योनि से निकले इस तरल पदार्थ के आपका पेशाब ( pee) होने की अधिक उम्मीद है।” “हालांकि इस बारे में बहुत सारे शोध नहीं हुए हैं, लेकिन ज्यादातर मामलों को देखते हुए यही समझ आता है कि मूत्र ही इजेकुलेट होता है यानि निकलता है,” पाम ने कहा।

ADVERTISEMENT

शी-जेकुलेशन और क्लाइमेक्स

शी-जेकुलेशन एक महिला को क्लाइमेक्स तक ले जाता है, लेकिन कई बार यह ब्लैडर पर ज्यादा दबाव पड़ने से भी होता है। तो स्क्वरटिंग हमेशा तभी होती है जब महिला का ब्लैडर ऑर्गैज़्म के वक्त खाली होता है। “कुछ मामलों में इजेकुलेशन में अन्य स्वाभाविक रूप से बनने वाले बॉडी केमिकल्स भी शामिल होते हैं। “सेक्सोलॉजिस्ट्स का कहना है कि महिलाओं को खास सेंसेशन वाले अनुभव के लिए ‘शी-जेकुलेशन’ वाले पोर्न को नहीं खरीदना चाहिए। “कुछ महिलाएं ने कहा कि जब ऐसा होता है तो वे अधिक गहन सेक्स का अनुभव करती हैं, जबकि कुछ ने कहा कि उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।”

इसे भी देखें – जानें, फीमेल सेक्स स्पॉट क्लिटोरिस और जी- स्पॉट संबंधी मिथकों का सच

ADVERTISEMENT

क्यों होता है ऐसा 

when partner sucks your boobs 9813142

कोई महिला सेक्स करते वक्त पेशाब क्यों करती है? इसका जवाब है – मूत्र असंयम है – लेकिन ऐसी कई बातें हैं जो इसकी वजह हो सकती हैं। महिलाओं में मूत्र संबंधी असंयम असामान्य नहीं है, खासकर जब आपकी उम्र बढ़ रही हो। इससे पीड़ित करीब 60 प्रतिशत महिलाएं जब सेक्स करती हैं तो वीर्य लीक करती हैं। किसी महिला को मूत्र असंयम का सामना कई वजह से करना पड़ता है। आयु, रजोनिवृत्ति (menopause), गर्भावस्था (pregnancy) और प्रसव (childbirth) की वजह से श्रोणि तल (pelvic floor) कमजोर हो सकता है, जिससे उन्हें अपने पेशाब पर कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है।

ADVERTISEMENT

पेल्विक फ्लोर का व्यायाम

इसका मुकाबला करने के साथ वैजाइना की कसावट और फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए हर महिला को रोज पेल्विक फ्लोर का व्यायाम करना चाहिए, ताकि आपकी वैजाइना की मांसपेशियां मजबूत बनी रहें। कई बार अधिक वजन होने से मांसपेशियों पर अतिरिक्त तनाव भी हो सकता है, इसलिए आपको खुद को स्वस्थ बीएमआई रेंज में रखना भी जरूरी है। किसी महिला के असंयम (incontinence) का अनुभव करने की इसकी एक और वजह यह भी हो सकती है कि जब वह सेक्स कर रही हो, तब इससे उसके ब्लैडर पर दबाव पड़े। 

यह भी पढ़ें – 

ADVERTISEMENT

काफी खतरनाक है ऑर्गैज़्म जैसी फीलिंग के लिए ‘पीगैज़्म’ का नया ट्रेंड

लव मैरिज और अरेंज मैरिज के सेक्स में होता है क्या अंतर

ADVERTISEMENT

फर्स्ट टाइम सेक्स के लिए टॉप 7 सेक्स पोज़ीशन!

सेक्स के दौरान हर लड़की के मन में आते हैं ये 15 ख्याल

ADVERTISEMENT

लड़कों को बेड में अच्छी लगती हैं ये चीजें

हर लड़की को होती हैं ब्लो जॉब से जुड़ी ये परेशानियां

ADVERTISEMENT

व्हाइट डिस्चार्ज के बारे में ज़रूरी बातें

01 Oct 2018

Read More

read more articles like this
good points

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text