home / पैरेंटिंग
एक्सपर्ट से जानिए योग द्वारा कैसे दूर करें बच्चों के हकलाने की समस्या

एक्सपर्ट से जानिए योग द्वारा कैसे दूर करें बच्चों के हकलाने की समस्या

हकलाने की समस्या का निदान एक न्यूरोलॉजिकल स्थिति के रूप में किया जा सकता है जिससे बोलना शारीरिक रूप से कठिन हो जाता है। हकलाना वही स्थिति है जहां लक्षणों में बार-बार शब्द, ध्वनियों या शब्दों पर अटक जाना शामिल है। ये स्थिति तनाव का कारण बनती है क्योंकि जिस किसी को ये समस्या है वो बोलने के लिए काफी संघर्ष करता है।

एक शोध के अनुसार, लगभग 8% बच्चों में कभी न कभी हकलाने की समस्या होती है, लेकिन अधिकांश सही से बात करेंगे। यह वंशागत हो सकता है या भाषण बाधाओं के कारण, या बच्चे के पालन-पोषण में कमी या फिर किसी हादसे के कारण हो सकता है। लगभग 3% वयस्कों को आजीवन स्थिति के रूप में इसका सामना करना पड़ सकता है। हकलाना मुख्य रूप से पुरुषों को प्रभावित करने वाला माना जाता है। अगर किसी बच्चे को शुरूआती तौर में हकलाने की दिक्कत हो रही है तो उसे योग अपना लेना चाहिए। आइए जानते हैं अक्षर योग के संस्थापक ग्रैंड मास्टर अक्षर (Master Akshar) जी से कि बच्चों में हकलाने की समस्या को कम करने के लिये योग को चिकित्सा के रूप में किस तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है।

उज्जयी प्राणायाम

• किसी भी आरामदायक आसन में बैठें (जैसे सुखासन, अर्धपद्मासन या पद्मासन)

• पीठ को सीधा करें और आँखें बंद करें

• बाईं हथेली को घुटने पर ऊपर की ओर रखें (प्राप्ति मुद्रा में)

•  गले को सिकोड़ें और नाक से सांस लें

• जैसे ही हम श्वास लेते हैं, हमें एक श्रव्य ध्वनि बनानी चाहिए

• फेफड़ों को धीरे-धीरे हवा से भरने के बाद,  होंठों से ‘O’ आकार बनाएं और इससे सांस छोड़ें

 हम इस श्वास तकनीक का अभ्यास दिन में पांच मिनट के लिए शुरू कर सकते हैं और धीरे-धीरे इसे समय के साथ बढ़ा सकते हैं।

हकलाने के लिए सूर्य नमस्कार

जिन बच्चों में हकलाने की समस्या है उनमें सुधार के लिए नियमित रूप से सूर्य नमस्कार का अभ्यास किया जाना चाहिए। सूर्य नमस्कार आदर्श रूप से सुबह जल्दी किया जाना चाहिए क्योंकि यह समग्र स्वास्थ्य और कल्याण के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। 

इन योग आसन का नियमित रूप से करें अभ्यास –

1. पश्चिमोत्तानासन – 

•  पैरों को आगे की ओर खींचकर शुरू करें

• सांस छोड़ें, आगे झुकें और ऊपरी शरीर को  निचले शरीर पर रखें।

• अपने घुटनों को अपनी नाक से छूने की कोशिश करें।

2. पादहस्तासन –

• समस्तीथी में खड़े होकर शुरुआत करें

• सांस छोड़ें और धीरे से अपने ऊपरी शरीर को कूल्हों से नीचे झुकाएं और नाक को घुटनों तक स्पर्श करें

• हथेलियों को पैरों के दोनों ओर रखें

• शुरुआत के रूप में,घुटनों को थोड़ा मोड़कर पेट को अपनी जांघों पर रख सकते हैं और उंगलियों या हथेलियों को नीचे रख सकते हैं।

• अभ्यास के साथ, धीरे-धीरे घुटनों को सीधा करें और छाती को जांघों से छूने की कोशिश करें

3. अधोमुखी श्वानासन –

• घुटने और कोहनी के बल शुरू करें, सुनिश्चित करें कि हथेलियां कंधों के नीचे हों और घुटने कूल्हों के नीचे हों

•  हथेलियों और पैर की उंगलियों से धक्का देकर श्रोणि को ऊपर उठाएं

• घुटनों और कोहनियों को सीधा करते हुए  शरीर को उल्टा ‘V’ आकार दें

• हथेलियों को कंधे की चौड़ाई से अलग रखा जाना चाहिए

• पैरों को करीब लाएं

• शरीर के वजन को पैरों और हथेलियों के बीच वितरित किया जाना चाहिए

• ध्यान पैर की उंगलियों पर रखें

4. हलासन –

•  शरीर के बगल में हथेलियों के साथ  पीठ के बल लेटें

•  पैरों को ऊपर उठाने के लिए हथेलियों को फर्श पर दबाएं और उन्हें सिर के पीछे छोड़ दें

• जरूरत पड़ने पर पीठ को सहारा देने के लिए हथेलियों का इस्तेमाल करें

चिकित्सा अनुसंधान और वैज्ञानिक इस तथ्य की पुष्टि करते हैं कि हकलाना और बच्चे की बौद्धिक क्षमता के बीच कोई संबंध नहीं है। हकलाना मुख्य रूप से एक न्यूरोलॉजिकल स्थिति है और आमतौर पर, हर कोई अलग-अलग डिग्री तक हकलाता है। हालांकि, स्पीच थेरेपी और योगाभ्यास के साथ, जैसे-जैसे वे बड़े होते जाते हैं, स्थिति में सुधार हो सकता है।

ये भी पढ़ें –
योगा एक्सपर्ट से जानिए कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए सबसे प्रभावी योगासन कौन सा है
डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए बेस्ट हैं ये 5 योगासन
एक्सपर्ट से जानिए फेफड़ों को हेल्दी रखने के लिए कौन-से योगासन करने चाहिए
पेट की चर्बी को कम करने के लिए बेस्ट हैं ये योगासन
क्या देर रात तक आपको भी नहीं आती है नींद? तो सोने से पहले ट्राई करें बस ये एक योगासन

MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

03 Dec 2021

Read More

read more articles like this

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text