Advertisement

पैरेंटिंग

बच्चों को खुद पर भरोसा करना और आत्मनिर्भर बनना कैसे सिखाएं, जानिए कुछ टिप्स

Supriya SrivastavaSupriya Srivastava  |  Jan 25, 2021
Kids, Independent, Self Confidence

Advertisement

जितना हम अपने बच्चों के लिए करना चाहते हैं उतना ही उन्हें आत्मनिर्भर भी बनाना चाहते हैं। बच्चों का आत्मनिर्भर बनना बेहद ज़रूरी है। इससे वे कम उम्र में ही अपने काम खुद करना सीख जाते हैं और छोटी-छोटी चीज़ों के लिए माता-पिता पर निर्भर नहीं रहते। आत्मनिर्भर या स्वतंत्र बच्चों की परवरिश के साथ अच्छी बात यह है कि वे अपने आप समस्या का समाधान करना सीख जाते हैं। आत्मनिर्भर बनना एक जीवन-कौशल है, जिसे हर माता-पिता को अपने बच्चों को सिखाने की ज़रूरत है। यह प्रक्रिया तभी से शुरू हो जाती है जब आपका बच्चा अपने पैरों पर चलना शुरू कर देता है। हम आपको कुछ ऐसी टिप्स बता रहे हैं, जो बच्चे को आत्मनिर्भर बनाने में आपकी मदद करेंगें।

उन्हें खुद चुनाव करने दें

जब बच्चे को खुद के लिए निर्णय लेने का अवसर मिलता है तो वे खुश होते हैं। शुरुआत उन्हें छोटे-छोटे चुनाव के साथ करने दें। जैसे कि वे क्या कपड़े पहनना चाहते हैं और उनके साथ कौन से शूज़ मैच करना चाहते हैं। इसके अलावा रेस्टोरेंट में मेन्यू से खुद अपने लिए खाने का चुनाव करने देना और रात में वे किस बुक से स्टोरी पढ़ना चाहते हैं, ये बताने देना। यही निर्णय लेने की क्षमता न केवल उनमें आत्मविश्वास का निर्माण करती है, बल्कि उन्हें बड़े काम करने के लिए प्रेरित भी करती है।

उन्हें घर में काम सौंपें

माता-पिता के रूप में, हम अक्सर घर के काम खुद करना चाहते हैं और अपने बच्चे से कोई काम नहीं करवाना चाहते। ऐसा करके हम कहीं न कहीं अपने बच्चों को यह विश्वास दिला देते हैं कि हम हमेशा उनके बाद सफाई करने के लिए हैं। इसे रोकने की जरूरत है क्योंकि यह माता-पिता के रूप में सबसे बड़ी गलती है। स्वतंत्र बच्चों की परवरिश का एक हिस्सा उन्हें यह अहसास कराना भी है कि वे जिस घर में रहते हैं, उसके लिए वे उतने ही ज़िम्मेदार हैं। बच्चे घर के काम की छोटी-छोटी ज़िम्मेदारियां लेने में मदद कर सकते हैं, खासकर अपने सामान और अपने कमरे की देखभाल करके। उदाहरण के लिए, सुबह में उनका बिस्तर उन्हें खुद बनाने देना, एक शानदार शुरुआत हो सकती है। अपने बच्चे को टीनएज में आने से पहले कपड़े धोने या अपनी अलमारी को साफ करने के लिए, खाने की टेबल लगाने के लिए या सलाद तैयार करने के लिए कहें।

एक कदम वापस लें

माता-पिता के रूप में, हम अपने बच्चों की सुरक्षा करते हैं और उन्हें नुकसान से बचाने के लिए उनके लिए सब कुछ करते हैं। हालांकि, कभी-कभी एक कदम वापस लेना और बच्चों को उनकी उम्र के हिसाब से गतिविधियों के लिए नियंत्रण देना सबसे अच्छा होता है। अपने बच्चे, अपने टीनएज बच्चे का मार्गदर्शन करें, लेकिन बच्चों को उम्र के हिसाब से काम करने दें। उदाहरण के लिए, यदि आपका बच्चा खाना पकाने में रुचि दिखाता है, तो उन्हें स्पष्ट निर्देश देकर उनकी मदद करें, न कि उन्हें किचन में जाने से ही मना कर दें। हम हमेशा उनके चारों ओर रहने वाले नहीं हैं इसलिए जितना अधिक वे सीखेंगे, खुद की देखभाल कर सकेंगे।

एक रूटीन सेट करें और इसे फॉलो करें

बच्चों का एक रुटीन सेट करें और उन्हें उसे फॉलो करना सिखाएं। एक बार जब बच्चे अच्छी तरह से एक पैटर्न में सेट हो जाते हैं, तो उनके लिए रोजमर्रा के कामों को पहचानना आसान हो जाता है, जो आगे चलकर उन्हें खुद काम करने के लिए प्रोत्साहित करता है। उदाहरण के लिए उनके खेलने और पड़ने का समय निश्चित करें और उन्हें उस रूटीन को फॉलो करने के लिए कहें। 

POPxo की सलाह: MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!