Fitness

सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार – Sardi Jukam ke Gharelu Upay

Archana ChaturvediArchana Chaturvedi  |  Nov 25, 2019
सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार, Sardi Jukam ke Gharelu Upay, जुकाम के घरेलू उपाय, Jukam ka Ilaj

बदलता मौसम और खासतौर पर सर्दियों में खांसी और जुकाम की समस्या होना आम बात है। खांसी और जुकाम आपको बुखार जैसा लगता है और कभी-कभी दर्द भी महसूस होता है। ऐसे मामलों में सिरदर्द, दांत दर्द, बुखार और सांस लेने में समस्या आदि भी हो सकती हैं। बहुत से लोग इस हालत में या तो सामान्य दवाइयां ले लेते हैं या फिर कई तरह के घरेलू नुस्खे आजमाते हैं। वैसे आमतौर पर देखा गया है कि खांसी जुकाम के घरेलू नुस्खे ज्यादा असरदायक होते हैं, लेकिन ज्यादातर लोग इसके लक्षणों, कारणों और उपचार से अंजान होते हैं। 

सेल्फ आइसोलेशन ज़ोन के लिए क्रिएटिव स्किल्स

सर्दी जुकाम होने के कारण – Sardi Jukam ka Karan

ज्यादातर लोग खांसी और नाक बहने को ही सर्दी-जुकाम (sardi jukham) का लक्षण मान लेते हैं, लेकिन उन्हें ये नहीं पता होता है कि सिर्फ ठंड लगने की वजह से नहीं, बल्कि कई अन्य कारणों से भी ये समस्याएं हो जाती हैं। ज्यादातर मामलों में खांसी और जुकाम एक वायरस के कारण होता है। वैसे तो 200 से ज्यादा वायरस इस बीमारी के लिए जिम्मेदार होते हैं, लेकिन उनमें से रेस्पिरेटरी सिनसिशल वायरस, इन्फ्लूएंजा और पैराइनफ्लूएंजा का योगदान कुछ ज्यादा ही रहता है। ये वायरस छूने से और पीड़ित व्यक्ति के साथ संपर्क में आने से भी फैलते हैं। किसी संक्रमित व्यक्ति के छींकने पर ये वायरस हवा के कणों के संपर्क में आते हैं और किसी दूसरे व्यक्ति के सांस लेने पर उसकी सांस के साथ शरीर के अंदर चले जाते हैं।

Sardi Jukam ka Karan

सर्दी जुकाम के लक्षण – Sardi Jukham ke Lakshan

यह आमतौर पर गले में खराश के साथ शुरू होता है। इससे पहले कि ये महसूस हो कि आप इसकी चपेट में आ गए हैं, इसके लक्षण भी दिखने शुरू हो जाते हैं –
  • बहती नाक (नाक से पानी आना)
  • बहुत छींकें आना।
  • थकान होना।
  • गले में खराश होना।
  • खांसी आना।
  • सिर में भारीपन का बने रहना।
  • ठंड लगना।
  • सीने में तकलीफ महसूस होना।
  • सांस लेने में कठिनाई महसूस होना।
  • पूरे शरीर में ऐंठन या दर्द का रहना।
  • आंखों से पानी बहना।
  • साइनस पर दबाव।
आमतौर पर सर्दी के साथ बुखार नहीं आता है, लेकिन अगर ऐसा है तो ये इस बात का संकेत हो सकता है कि आपको फ्लू हो गया है या बैक्टीरियल इंफेक्शन। ये लक्षण आमतौर पर 1 और 3 दिनों के बीच दिखने या महसूस होने शुरू हो जाते हैं। ये समस्या लगभग 3 से 7 दिनों तक रहती हैं। शुरुआत के तीन दिनों में शरीर में कमजोरी बहुत महसूस होती है और दिमाग भी शरीर को बीमार सा महसूस कराता है। 

सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार – Sardi Jukam ke Gharelu Upay

सर्दी-खांसी और जुकाम सामान्य तौर पर सक्रमंण के कारण होता है, इसीलिए इस दौरान खाने-पीने का बहुत ध्यान रखना चाहिए। इससे आप जल्दी ठीक हो सकते हैं। हालांकि ऐसे में खाने-पीने का मन नहीं करता है और नतीजा ये होता है कि शरीर में पानी और जरूरी पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। आइए जानते हैं सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार और इस दौरान क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

Sardi Jukam ke Gharelu Upay

सर्दी-जुकाम में क्या खाएं –
  • सूप पीएं।
  • दाल का सेवन करें।
  • खाने में लहसुन और प्याज को शामिल करें।
  • अदरक, लौंग, काली मिर्च और तुलसी की चाय पीएं।
  • तीखा और थोड़ा मसालेदार खाना खाएं।
  • ओट्स खाएं।
  • डेयरी प्रोडक्ट का सेवन में दिन में दो बार जरूर करें।
सर्दी-जुकाम में क्या न खाएं –
  • प्रोसेस्ड या फास्ट फूड बिल्कुल भी न खाएं।
  • फ्रिज से निकली ठंडी चीजें न खाएं।
  • शराब और धूम्रपान का सेवन न करें।
  • मैदे से बनी हुई चीजें न खाएं।
  • बिना डॉक्टर के पूछे किसी भी तरह की एंटीबायोटिक्स न लें।

जुकाम के घरेलू उपाय – Jukam ka Ilaj

खांसी-जुकाम में शरीर टूटने सा लगता है। ऐसा लगता है कि बस अब कोई जल्दी से चमत्कार हो जाए और इस समस्या से छुटकारा मिल जाए। इससे राहत पाने के लिए लोग कई तरह की दवाइयों का सहारा लेते हैं। इन दवाइयों से तुरंत आराम तो मिल जाता है, लेकिन सेहत पर इसका बहुत गलत असर पड़ता है। बड़े-बुजुर्ग कहते हैं कि जुकाम के घरेलू उपाय ज्यादा असरदायक होते हैं और वह भी बिना किसी साइड इफेक्ट के। आइए जानते हैं खांसी जुकाम के घरेलू नुस्खे कौन से अपनाने चाहिए –

Jukam ka Ilaj

  • अगर आपकी खांसी ठीक नहीं हो रही है तो रात में सोने से पहले 4-5 बादाम और 3-4 काली मिर्च को एक साथ खाकर सो जाएं, जल्द आराम मिलेगा।
  • अगर जुकाम में तुरंत आराम चाहिए तो रूमाल में 1-2 छोटी इलाइची लपेट कर सूंघने से राहत मिलती है। यही नहीं, इलाइची की चाय पीने से खांसी-जुकाम दोनों में ही आराम मिलता है।
  • सर्दी-जुकाम होने पर सरसों के तेल में 2-3 लहसुन की कलियां पका कर तेल को ठंडा कर लें। फिर इस तेल की दो-दो बूंदें सुबह-शाम नाक में डालें। इससे बंद नाक खुल जाएगी और जुकाम से छुटकारा मिलेगा।
  • हल्दी बहुत ही गुणकारी होती है और वह सर्दी-जुकाम (sardi jukham) के लिए औषधि का काम करती है। रात में सोने से पहले 1 गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पीएं। इससे आराम मिलता है। 
  • जुकाम ठीक न हो रहा हो तो सूखी हल्दी का धुंआ सूंघने से तुरंत राहत मिलती है।
  • खांसी के दौरान गले में खराश होना आम बात है। इससे छुटकारा पाने के लिए तुलसी के 2-4 पत्ते चबाने से आराम मिलता है। आप चाहें तो तुलसी की चाय भी पी सकते हैं।
  • अदरक के टुकड़े को छील कर उसे शहद के साथ मिलाकर चबाएं। इससे सर्दी-जुकाम में बहुत आराम मिलता है और ये बहुत ही फायदेमंद भी होता है।
  • पुराने समय से खांसी को ठीक करने का एक टोटका चला आ रहा है। कहा जाता है कि शहद चाटने से ही खांसी भाग जाती है और ये काफी कारगर फॉर्मूला भी है, इसीलिए रोजाना 2 बार शहद चाटें और इसके बाद 1 घंटे तक पानी न पीएं।
  • लहसुन को क्रश करके उसे पानी में उबाल लें या फिर सूप में डालकर काढ़े की तरह पीने से भी सर्दी-जुकाम (sardi jukham) में आराम मिलता है।
  • सूखी हो या कफ, दोनों ही प्रकार की खांसी के इलाज में नमक मिला पानी पिएं। साथ ही इससे गरारे यानी गार्गल भी करें। इससे गला तर जाता है और गर्माहट मिलने से बाकी परेशानियां भी दूर हो जाती हैं।
  • सिर दर्द, जुकाम ,बुखार, खांसी होने पर हर्बल चाय पीएं। इससे शरीर को गर्माहट मिलती है और यह बीमारियों को भी दूर रखती है।
  • खांसी-जुकाम में नॉर्मल पानी से बेहतर गुनगुने पानी का सेवन है। इससे गले में जमा कफ भी खुलेगा और शरीर को बेहतर भी महसूस होगा।
  • खांसी-जुकाम में आंवला भी बहुत फायदा करता है, क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भी होते हैं, जो आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।
  • अनार के जूस में अदरक और पिपली का पाउडर डालकर पीने से सर्दी-खांसी में आराम मिलता है।
  • अगर आपको बहुत ज्यादा बलगम के साथ खांसी आ रही है तो काली मिर्च को देसी घी या फिर मलाई के साथ मिलाकर खाएं। असर आपको जल्द ही नजर आ जाएगा।
  • प्याज भी सर्दी-जुकाम में दवाई का काम करती है। जी हां, खाने में जितना हो सके, प्याज का इस्तेमाल करें। सूखी खांसी हो या फिर कफ, प्याज के रस में शहद मिलाकर पीने से तुरंत राहत मिलती है।
  • अलसी के बीजों को उबाल लें और फिर उसमें नींबू का रस और थोड़ा सा शहद मिलाकर सेवन करें। 
  • 10 ग्राम दानामेथी, 15 ग्राम काली मिर्च, 50 ग्राम शक्कर या बूरा, 100 ग्राम बादाम गिरी लें। इन सभी को पीसकर पाउडर तैयार कर लें। रोजाना गर्म दूध से रात को सोते समय एक चम्मच ये पाउडर लेने से खांसी, बलगम और जुकाम सभी में लाभ होता है। 
  • 10 ग्राम गेहूं की भूसी, 5 लौंग, थोड़ा नमक लें और सभी को पानी में मिलाकर इसे उबालकर काढ़ा बनाएं। एक कप काढ़ा पीने से लाभ मिलेगा।
  • कलौंजी और जैतून के तेल को बराबर मात्रा में लेकर अच्छी तरह मिलाएं और इसकी बूंदें नाक में टपकाएं। इससे बंद नाक खुलने से आराम मिलेगा।
  • सूखी खांसी में कफ पैदा करने के लिए मुलेठी को 1 चम्मच शहद के साथ दिन में 3 बार चाटें। इससे नलिका साफ होती है और गले, नाक और कान को भी आराम मिलता है।
  • जुकाम की वजह से नाक बंद हो गई है तो उसे खोलने के लिए कपूर की टिक्की को किसी रूमाल में लपेटकर बार-बार सूंघें।
  • कलौंजी के बीजों को तवे पर सेंक लें और इसे कपड़े में लपेट कर सूंघें। इससे जकड़े गले और जुकाम में राहत मिलेगी।
  • एक गिलास उबलते हुए पानी में एक नींबू का रस और शहद मिलाकर रात को सोते समय पीने से जुकाम में लाभ होता है।
  • खजूर को एक-डेढ़ गिलास पानी में अच्छे से उबालकर पीएं। इससे सर्दी और जुकाम में बहुत राहत मिलती है।

सर्दी जुकाम से जुड़े सवाल जवाब

khansi ka ilaj

नॉर्मल खांसी और काली खांसी में क्या अंतर है?

एक्सपर्ट्स की मानें तो काली खांसी और सामान्य खांसी में फर्क करना आसान नहीं है, क्योंकि दोनों के लक्षण लगभग एक जैसे ही होते हैं। बस अंतर यही है कि काली खांसी दो-तीन हफ्ते से भी ज्यादा लंबे समय तक बनी रहती है।

क्या सर्दी-जुकाम में सिर धोकर नहीं नहाना चाहिए?

कोशिश करनी चाहिए कि सर्दी-जुकाम के दौरान कम से कम एक हफ्ते तक सर न धोएं। अगर बहुत जरूरी है तो गुनगुने पानी से सिर धो लें, लेकिन बहुत ज्यादा देर तक बालों को गीला रहने न दें। ऐसे में समस्या ज्यादा बढ़ सकती है। 

 क्या जुकाम में कोई दवा लेनी चाहिए ?

वैसे तो ये समस्या ज्यादातर अपने-आप ही ठीक हो जाती है, लेकिन अगर आपको ज्यादा परेशानी हो रही है तो दवाएं ले सकते हैं। बिना डॉक्टर के परामर्श के ली गई दवा को खाने से पहले उसके पैकेट पर दिए गए निर्देशों को जरूर पढ़ लें।

अगर किसी को लंबे समय से खांसी की समस्या है तो उसे क्या करना चाहिए?

हालांकि यह साबित हो चुका है कि तीन हफ्ते से ज्यादा खांसी होने पर टीबी की जांच करवा लेनी चाहिए, क्योंकि लापरवाही बरतने से खांसी बढ़कर टीबी का रूप ले सकती है।

… अब आएगा अपना वाला खास फील क्योंकि POPxo आ गया है 6 भाषाओं में … तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा – अंग्रेजीहिन्दीतमिलतेलुगूबांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।