Advertisement

पैरेंटिंग

नवजात शिशु की मालिश के लिए इन तरीकों से बनाएं घर पर तेल

Supriya SrivastavaSupriya Srivastava  |  Jan 13, 2021
Baby Massage, बच्चे की मालिश, मालिश, Massage, Baby Oil, Mustard Oil

Advertisement

बच्चे की शुरुआती परवरिश का बेहद अहम हिस्सा है बच्चे की मालिश (Baby Massage)। बच्चे की हड्ड़ियों को मजबूत बनाने में मालिश (Massage) का बहुत बड़ा हाथ होता है। नवजात शिशु के लिए जितना ज़रूरी मां का दूध होता है उतनी ही ज़रूरी होती है, मालिश (Massage)। घर के बड़े-बुज़ुर्ग दिन में 5 बार बच्चे की मालिश (Baby Massage) की सलाह देते हैं। मगर दिन में कम से कम दो बार बच्चे की मालिश (Baby Massage) ज़रूर करें। हालांकि सर्दियों में 1 बार मालिश (Massage) ही काफी होती है। मालिश से बच्चे को आराम मिलता है, जिससे उसे अच्‍छी नींद आती है। ऐसे में हर नई मां इस बात को लेकर असमंजस में रहती है कि बच्चे की मालिश (Baby Massage) के लिए कौन सा तेल (Oil) सबसे बेहतर होता है। 
वैसे तो बाज़ार में बच्चे की मालिश (Baby Massage) के लिए कई तेल (Baby Oil) मौजूद हैं। मगर उनमें मिला हुआ केमिकल बच्चे की नाज़ुक त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है। बच्चे की मालिश (Baby Massage) ऐसे तेल (Baby Oil) से करनी चाहिए, जिससे न सिर्फ उसकी हड्डियां मजबूत हों बल्कि बदलते मौसम के साथ वो तेल (Baby Oil) बच्चे को खांसी-ज़ुकाम जैसी बीमारियों बचा सके। हम यहां आपको घर पर तेल (Home made baby oil) बनाने के तरीके बता रहे हैं।

1- बच्चे के लिए सरसों का तेल (Mustard Oil) की मालिश सबसे बेहतर होती है। कुछ लोगों का मनना है कि सरसों का तेल (Mustard Oil) से बच्चे की मालिश (Baby Massage) करने पर उसका रंग सांवला होने लगता है। यह धारणा बिलकुल गलत है। बच्चे का रंग जैसा है, वैसा ही रहेगा। बल्कि सरसों का तेल (Mustard Oil) नवजात शिशु की हड्डियों को मजबूत बनाता है। 
2- अगर बच्चे को सर्दी हो गई है तो सरसों का तेल (Mustard Oil) में थोड़ी सी अजवाइन और 2 लहसुन के छोटे-छोटे टुकड़े करके मिला लें। अब इस तेल तो गैस पर तब तक गर्म करें, जब तक कि अजवाइन और लहसुन पक न जाएं। अब इसे हल्का गुनगुना होने तक रख दें। बाद में हल्के गुनगुने तेल से बच्चे की मालिश (Baby Massage) करें। 

3- कहते हैं बच्चे को उसकी पहली सर्दी में काफी बचा कर रखना पड़ता है। क्योंकि छोटे बच्चे का इम्यून सिस्टम ज्यादा अच्छा नहीं होता इसलिए बच्चे को जल्दी खांसी-ज़ुकाम हो जाता है। ऐसे में बेहतर होगा आप सर्दी के मौसम में बच्चे की मालिश जायफल के साथ करें। इसे बनाने के लिए सरसों के तेल में एक जायफल डालकर तेल को  गरम कर लें। आप देखेंगे कि जायफल धीरे-धीरे तेल पर उतरने लगी है। अब इस तेल को हल्का गुनगुना होने पर बच्चे की मालिश करें। 
4- सबसे पहले गैस में एक पैन को गर्म कर लीजिये। अब उसमें लगभग 200 ग्राम तिल का तेल डालें। तेल अच्छी तरह से गरम होने के बाद उसमें थोड़े से रतनजोत की छाल और 4-5 लौंग क्रश करके डालेंगे। रतनजोत मिलते ही  लाल होने लगेगा। अब इसमें 1 मुट्ठी तुलसी का पत्ता डालें। अब गैस बंद करने के बाद इसमें कपूर मिलाएं। सभी मिश्रण को छानकर तेल एक कटोरे में पलट लें। ठंडा होने के बाद इसे बोतल में भर कर रख लें। 

5- घी भी बच्चे की मालिश के लिए एक बेहतर उपाय है। अगर बेबी को धूप में रहने की वजह से सन-टैन हो गया है तो घी से मालिश करें। आप चाहें तो सर्दियों के मौसम में घी में भी जायफल को मिलाकर बच्चे की मालिश कर सकती हैं। 
6- बच्चे की मालिश (Baby Massage) करने के लिए नारियल तेल भी अच्छा ऑप्शन है। नारियल के तेल में एंटी-फंगल व एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। बेबी की नाज़ुक त्वचा के लिए यह काफी अच्छा साबित हो सकता है।

POPxo की सलाह: MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!