home / xSEO
Dill Seeds in Hindi

Dill Seeds in Hindi – जानिए सोआ के बीज खाने के फायदे और नुकसान

आयुर्वेद में न सिर्फ जड़ी बूटी बल्कि उसके बीज भी काफी मायने रखते हैं। फिर चाहे वो सूरजमुखी के बीज के फायदे हों, चिया बीज के फायदे हों या फिर अलसी के बीज के फायदे हों। इन्हीं में से एक हैं सोआ के बीज। डिल को हिंदी में सोआ के नाम से भी जाना जाता है, यह एक ऐसी जड़ी-बूटी है जो न केवल आपके भोजन में स्वाद बढ़ाती है बल्कि आपको स्वस्थ रखने में भी मदद करती है। भारतीय करी में एक विशेष घटक, सोआ के बीज मुख्य रूप से खाद्य पदार्थों में तीखे और स्वादिष्ट स्वाद के लिए उपयोग किए जाते हैं। पत्तियों से लेकर बीजों तक इस्तेमाल किया जाने वाला यह पौधा आपके पाचन तंत्र को नियमित करने से लेकर आपकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और रक्तचाप को नियंत्रित करने तक, आपके शरीर के लिए बहुत अच्छा कार्य करता है। हम यहां आपको dill seeds in hindi सोआ के बीज के फायदे के बारे में बता रहे हैं। 

सोआ के बीज खाने के फायदे

1- पाचन में सुधार करता है
2- अच्छी नींद में करे मदद
3- हड्डियों को मजबूत बनाये
4- दस्त को रोके
5- डायबिटीज़ में फायदेमंद
6- इम्युनिटी मजबूत बनाये
7- हिचकी रोकने में मददगार

डिल एक वार्षिक या बारहमासी शाकाहारी पौधा है (जिस क्षेत्र में यह बढ़ता है उसके आधार पर)। सोआ का वैज्ञानिक नाम एनेथम ग्रेवोलेंस है। यह एक छोटा पौधा है, जो 40-60 सेमी की ऊंचाई तक बढ़ता है और अजवाइन परिवार से संबंधित है। सोआ के पौधे का तना पतला होता है और पत्तियाँ अंत में धागे जैसी संरचनाओं में विभाजित हो जाती हैं। इस पौधे के फूलों का रंग सफेद से लेकर पीले तक होता है और बीच में कुछ भी हो सकता है। यह दुनिया भर के व्यंजनों में इसकी सुगंध के लिए और इसके औषधीय गुणों के कारण व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। सोआ की तरह ही सोआ के बीज के फायदे भी हैं, जो हम आपको यहां बता रहे हैं। 

Dill Seeds in Hindi

पाचन में सुधार करता है

डिल एक ऐपेटाइज़र है। यह खाने की इच्छा को बढ़ाने में मदद करता है जिससे आप भोजन का अधिक आनंद ले सकते हैं। साथ ही यह आपके पाचन तंत्र के कामकाज में सुधार करता है और आपकी आंतों को भी साफ करता है। सोआ के बीज आवश्यक तेल पाचक रस और पित्त के स्राव को उत्तेजित और सक्रिय करते हैं। यह शरीर को पोषक तत्वों को आसानी से अवशोषित करने में मदद करता है। इसके अलावा, सोआ का तेल आंतों को चिकना करता है, जिससे मल पास करते समय दर्द नहीं होता है। वैसे तो पाचन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय भी उपलब्ध हैं लेकिन सोआ के बीज इन्हीं में से एक हैं। 

अच्छी नींद में करे मदद 

अनिद्रा इन दिनों लोगों में एक आम बीमारी है, खासतौर पर स्मार्ट फ़ोन और सोशल मीडिया आने के बाद यह कुछ ज्यादा ही बढ़ गयी है। सोआ के बीज इस समस्या को दूर करने में मदद कर सकते हैं, यह सुनिश्चित करते हैं आपको रात की अच्छी नींद मिले। विटामिन बी जैसे एंजाइम और विटामिन से भरपूर, सोआ एक शामक के रूप में कार्य करता है, शरीर को आराम देता है और नींद में मदद करता है।

हड्डियों को मजबूत बनाये 

जब हड्डियां कमज़ोर महसूस होने लगें तो कैल्शियम की कमी के लक्षण नज़र आने लगते हैं। सोआ में कैल्शियम का अच्छा अनुपात होता है, जो विशेष रूप से ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित लोगों में भंगुर हड्डियों से बचने के लिए आवश्यक है। यह हड्डियों के उपचार की प्रक्रिया को तेज करने में भी मदद करता है और इसलिए दूध का एक बेहतरीन विकल्प भी है। यह हड्डियों के नुकसान और अस्थि खनिज घनत्व में कमी को रोकता है। यह हड्डियों के की मरम्मत करने के साथ उनके विकास में मदद करता है। 

दस्त को रोके 

अपच और रोगाणुओं की गतिविधियाँ दस्त का कारण बनने वाले दो कारण हैं। डिल के बीज फ्लेवोनोइड्स और मोनोटेरपेन्स से भरे होते हैं जो बहुत शक्तिशाली एंटी बैक्टीरियल एजेंट के रूप में कार्य करते हैं; अपने पाचन गुणों के साथ, सोआ के बीज पेट की ख़राबी के लिए एक बेहतरीन उपाय हैं। यह न केवल संक्रमण से छुटकारा पाने में मदद करता है, बल्कि आपके पाचन तंत्र के कामकाज को बहाल करने में भी मदद करता है और आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। सोआ का सेवन दस्त के लिए एक उपचारात्मक और बेहतरीन उपाय है।

डायबिटीज़ में फायदेमंद 

कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के कारण होने वाले मधुमेह के मामलों में, डिल सीरम लिपिड और इंसुलिन के स्तर में उतार-चढ़ाव को कम करने में अच्छा काम करता है। यह मधुमेह की स्थिति को नियंत्रण में लाने में मदद करता है। इसलिए आपके रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए सोआ के बीज का सेवन एक स्वस्थ पौष्टिक तरीका है। आप चाहें तो सीधा सोआ का सेवन भी कर सकते हैं या इसका जूस बना सकते हैं, यहां तक कि अचार में इस्तेमाल होने वाली डिल भी ले सकते हैं, जो आपको स्थानीय बाजारों में आसानी से मिल जाएगी। 

इम्युनिटी मजबूत बनाये 

डिल एक बहुत अच्छी रोगाणुरोधी जड़ी बूटी है। इसे इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय में भी शामिल किया जा सकता है। यह आंतरिक अंगों में संक्रमण के साथ-साथ बाहरी कट, घाव और खुली चोटों को रोकने में मदद करता है। सोआ का यह गुण शरीर को विभिन्न संक्रमणों से लड़ने में मदद करता है और एक प्रतिरक्षा प्रणाली तैयार करता है, जो अधिक माइक्रोबियल संक्रमणों से निपटने के लिए मजबूत और सक्षम है।

हिचकी रोकने में मददगार 

हिचकी काफी कष्टप्रद हो सकती है। इसके पीछे मुख्य कारण फंसी हुई गैस है जो भोजन नली में बार-बार ऊपर की ओर जाने की कोशिश करती है। अक्सर यह कुछ एलर्जी, अति सक्रियता, अतिसंवेदनशीलता और तंत्रिका की खराबी के कारण भी होता है। सुआ का कार्मिनेटिव गुण जो पेट फूलना कम करता है वही कारण है जो हिचकी को रोकता है और गैस को बाहर निकालता है। 

सोआ के बीज के उपयोग

How to Use Dill seeds in Hindi

डिल कीड़े को रोकने में मदद करता है। यह इसे घर पर एक आवश्यक उत्पाद बनाता है। इसका उपयोग अनाज को समय-समय पर स्टोर करने के लिए किया जा सकता है और रासायनिक आधारित जहरीले कीटनाशकों के हानिकारक प्रभावों को भी कम किया जा सकता है। इसका यह गुण बालों की जूं को रोकने और लड़ने के लिए भी इसे अच्छा बनाता है। इस उद्देश्य के लिए डिल यानि सोआ के बीज के अर्क का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा यह दुनिया के विभिन्न व्यंजनों में एक स्वादिष्ट जड़ी बूटी के रूप में एक बहुत ही सामान्य सामग्री है।

सोआ के बीज खाने के नुकसान

शोधकर्ताओं के अनुसार, डिल आम तौर पर सुरक्षित है, लेकिन दुर्लभ स्थितियों में, इससे एलर्जी, उल्टी, दस्त, मौखिक प्रुरिटस, पित्ती और गले में सूजन हो सकती है। जिन लोगों को गाजर से एलर्जी है, उन्हें सोआ से एलर्जी की प्रतिक्रिया का अनुभव हो सकता है। हालांकि जब सोआ त्वचा पर लगाया जाता है, तो कभी-कभी यह त्वचा में जलन पैदा कर सकता है। यह आपको सनबर्न और त्वचा कैंसर के लिए अधिक जोखिम में डाल सकता है। वैसे अभी तक सोआ से एलर्जी के बहुत कम मामले रिकॉर्ड किये गए हैं। आप गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान डॉक्टर की सलाह लेकर एक दवा के रूप में डिल का उपयोग कर सकते हैं। 

सोआ के बीज खाने को लेकर पूछे जाने वाले सवाल-जवाब – FAQ’s

सवाल- सोआ के बीज की तासीर कैसी होती है?

जवाब- सोआ के बीज की तासीर गर्म होती है?

सवाल- क्या डिल वीड और डिल सीड एक ही चीज हैं?

जवाब- नहीं। वे एक ही पौधे से आते हैं, लेकिन डिल वीड ताजे पत्तेदार होते हैं, जो हल्का ताजा स्वाद प्रदान करते हैं। वहीं डिल बीज अधिक तीखे माने जाते हैं।

सवाल-  सोआ रोजाना कितनी मात्रा में खाना चाहिए?

जवाब- सोआ को रोजाना कम मात्रा में खाद्य पदार्थ में शामिल किया जा सकता है।

अगर आपको यहां दिए गए dill seeds in hindi सोआ के बीज के फायदे पसंद आए तो इन्हें अपने दोस्तों व परिवारजनों के साथ शेयर करना न भूलें। 

25 Jul 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text