home / वेलनेस
कहीं आपकी खराब आदतों की वजह से दिमाग पर तो नहीं हो रहा नकारात्मक असर, जानें

कहीं आपकी खराब आदतों की वजह से दिमाग पर तो नहीं हो रहा नकारात्मक असर, जानें

हम रोजाना बहुत से काम करते हैं और इनमें से अधिकतर चीजें हम जाने अनजाने में करते हैं और शायद हमें पता भी नहीं होता कि वो चीजें किस तरह से हमारे दिमाग को प्रभावित कर रही हैं और इस वजह से उन्हें रोकने के लिए भी हम कुछ नहीं करते हैं। इस वजह से आज हम अपने इस लेख में आपको कुछ ऐसी चीजें बताने वाले हैं, जो जानेअनजाने में आपके दिमाग को नकारत्मक रूप से प्रभावित कर रही हैं। ऐसे में अगर आप अपने दिमाग को बचाना चाहते हैं तो नीचे दी गई जानकारी आपके बहुत काम आएगी। 

नाश्ता स्किप करना

जो लोग अपना सुबह का नाश्ता स्किप करते हैं उन्हें काफी नुकसान होता है। उनकी बॉडी को नियमित रूप से चीनी और अन्य न्यूट्रिएंट्स चाहिए होते हैं ताकि वो दिनभर एनर्जेटिक रहें और सुबह हम जो नाश्ता करते हैं वो दिनभर एक्टिव रहने में हमारी मदद करता है। ऐसे में यदि आप नियमित रूप से अपना नाश्ता स्किप करते हैं तो ऐसा करना आज ही छोड़ दें क्योंकि इससे आपकी बॉडी में शुगर का स्तर कम होता है और दिमाग को नुकसान पहुंचता है। 

ओवर रिएक्ट करना

हम सभी के साथ आज के समय में समस्या ये है कि हम लोग जल्दी हाइपर हो जाते हैं और आमतौर पर ओवररिएक्ट करते हैं। इस वजह से हमेशा ऐसे में मामलों में अपनी आंखों को बंद करें और शांति से सोचें कि आपने कितनी बार इस तरह से मामलों पर आपने पिछले कुछ दिनों में कितनी बार ओवररिएक्ट किया है। इस वजह से भी आपके दिमाग पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। दरअसल, जब आप चीजों पर ओवररिएक्ट करते हैं तो आपका दिमाग प्रभावित होता है और ब्रेनपावर कम होती है। 

बहुत अधिक चीनी  खाना

एक अन्य कारक जो मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है वह है उच्च मात्रा में चीनी का सेवन करना। यह कुछ ऐसा है जो हम में से ज्यादातर लोग लगभग रोजाना करते हैं लेकिन तथ्य यह है कि बहुत अधिक चीनी अन्य पोषक तत्वों और सूक्ष्म पोषक तत्वों के साथ प्रोटीन के अवशोषण को धीमा या बाधित करके मस्तिष्क के कार्यों को बाधित कर सकती है। यह गंभीर कुपोषण का कारण बन सकता है और मस्तिष्क के विकास को भी धीमा कर सकता है।

आवश्यकता से कम सोना

हम सभी जानते हैं कि नींद की कमी कैसे कई स्वास्थ्य बीमारियों का कारण बनती है। यह मस्तिष्क को अपनी विकास क्षमता खोने और चीजों को आसानी से भूलने के लिए भी जाना जाता है। नींद मस्तिष्क को आराम करने की अनुमति देती है और लंबे समय तक नींद की कमी से मस्तिष्क की कोशिकाओं की मृत्यु हो सकती है। इसके अलावा, यदि आप कोई है जो सिर ढक कर सोते हैं तो हम आपको बता दें कि यह मस्तिष्क की कोशिकाओं के विकास को रोकता है, कार्बन डाइऑक्साइड की एकाग्रता को बढ़ाता है और ऑक्सीजन की मात्रा को कम करता है। इसलिए, इसका आपके दिमाग पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है।

दिमाग पर नकारात्मक प्रभाव डालने वाले अन्य कारक

– यदि आपका शरीर पहले से ही बीमार है, तो अतिरिक्त मेहनत करने, या पढ़ने, या काम करने से मस्तिष्क पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ सकता है।

– इसके अलावा दूसरों से बात न करना या बोलना भी मस्तिष्क की अक्षमता पैदा कर सकता है।

POPxo की सलाह: MyGlamm की ग्लो स्किनकेयर रेंज के साथ रखें अपनी त्वचा का ख्याल।

09 Aug 2021

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text