home / पैरेंटिंग
बच्चों में अंगूठा चूसने की आदत

बच्चों में अंगूठा चूसने के पीछे आखिर क्या है वजह, जानें कैसे छुड़ाएं ये आदत

जब बच्चा पैदा होता है, तो अपने साथ कुछ आदतें लेकर आता है। इनमें से एक है अँगूठा पीना। आपने अक्सर बच्चों को अँगूठा पीते या चूसते देखा होगा। यह आदत बच्चों में नेचुरल रूप से आती है। कुछ बच्चों में अंगूठा चूसने की वजह भूख का संकेत माना जाता है, तो कुछ बच्चे आराम महसूस करने के लिए इसे पीते हैं। आज हम बच्चों की इसी आदत के बारे में आपको विस्तार से जानकारी देंगे। लेख में जानें बच्चों में अंगूठा पीने के कारण और इसे दूर करने के उपाय।

क्या बच्चों में अंगूठा चूसने की आदत नॉर्मल है? (Thumb Sucking, Good or Bad for Baby in Hindi)

जब बच्चा छोटा होता है, तो उनमें अंगूठे को चूसने की आदत बेहद नॉर्मल और हेल्दी मानी जाती है। आमतौर पर दो से चार साल की उम्र में बच्चे अंगूठा पीना छोड़ देते हैं। हालांकि, कुछ बच्चों में अंगूठा चूसने की वजह से दांत और जबड़े पर बुरा असर पड़ सकता है । 

इसलिए, जितनी जल्दी बच्चे इस आदत को छोड़ देते हैं उनके दांत और मसूड़ों की बनावट में किसी तरह की रुकावट उत्पन्न नहीं होती है। बच्चे के जब पक्के दांत आने का समय हो और तब भी बच्चा अंगूठा पीता है तो इससे दांतों के टेढ़े आने की संभावना अधिक होती है। इसलिए बच्चे को अगर अंगूठा पीने की आदत है तो माता-पिता को समय पर उनकी इस आदत को कंट्रोल करना होगा। 

बच्चों में अंगूठा पीने की आदत क्यों होती है? (Why do Children Suck their Thumb in Hindi)

हर बच्चे में अंगूठा चूसने की आदत के पीछे कारण अलग-अलग हो सकते हैं। नीचे इसी से जुड़ी जानकारी शेयर कर रहे हैं।

बच्चों में अंगूठा चूसने की आदत
बच्चों में अंगूठा चूसने का आदत
  • कुछ बच्चे अंगूठा पीने से खुश और सुरक्षित महसूस करते हैं।
  • जब बच्चा बहुत थक जाता है, तो आराम करने के लिए भी अंगूठा पी सकता है।
  • खुद को शांत करने व अच्छी नींद के लिए भी कई बच्चो में अंगूठा चूसने की आदत होती है।
  • भूख लगने पर कुछ बच्चे अंगूठा चूसने लगते हैं। 
  • बोरियत को दूर करने व अपना मन लगाने के लिए कुछ बच्चों को अंगूठा पीना अच्छा लगता है।
  • बच्चों में अंगूठा चूसने के कारण में तनाव व एंग्जायटी भी शामिल हैं।

बच्चों में अंगूठा चूसने के नुकसान (Problems Caused by Thumb Sucking in Kids in Hindi)

जैसा कि लेख में आपने ऊपर जाना कि बच्चों में अंगूठा चूसना नॉर्मल है। लेकिन वक्त रहते इसे न रोका जाए तो इसके कुछ दुष्परिणाम हो सकते हैं। नीचे इसी से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं।

  • बच्चों द्वारा अंगूठा पीने की आदत से उनके दांतों की बनावट खराब हो सकती है। जैसे दांतों का टेड़ा-मेड़ा होना व दांत अंदर की तरफ धंस जाना आदि। वहीं, कई दफा दांत अपनी जगह से खिसक सकते हैं। 
  • अंगूठा चूसने की आदत के कारण कई बार बच्चों के हाथों की हड्डी पर असर पड़ सकता है। एक शोध से मालूम होता है कि बहुत ज्यादा अंगूठा पीने से हड्डी के बढ़ने व हड्डी के अपनी जगह से खिसकने की संभावना अधिक होती है।
  • कई बार बच्चे के अंगूठा पीने की आदत से पैरोनीचिया इंफेक्शन हो सकता है। यह संक्रमण नाखूनों की जड़ में होता है।
  • कई शोध से मालूम होता है कि यदि बच्चे ने 4 साल की उम्र तक अंगूठे को चूसना नहीं छोड़ा, तो इससे उन्हें साफ बोलने में परेशानी हो सकती है। कुछ बच्चों में तोतलेपन की समस्या हो सकती है।

बच्चों में अंगूठा चूसने की आदत को दूर करने के उपाय

यदि आपका बच्चा अंगूठा पीता है, तो निम्नलिखित उपाय के जरिए आप उसकी इस आदत को छुड़ा सकते हैं:

अंगूठा पीने के कारण
शावर के बाद बेबी
  • अगर बच्चा अभी छोटा है, तो उसके हाथ में गलव्स पहनाएं। इससे बच्चे में धीरे-धीरे अंगूठा पीने की आदत दूर हो जाएगी।
  • छोटे बच्चों में इस आदत को छुड़ाने के लिए यह घरेलू तरीका अपनाया जा सकता है। उनके अंगूठे पर कुछ कड़वी चीज लगाएं। ऐसी चीज लगाएं जो उनके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक न हो। इससे बच्चा जब भी अंगूठा मुंह में लेगा तो उसे मुंह का टेस्ट खराब  हो जाएगा। धीरे-धीरे वह खुद अंगूठा पीना छोड़ देगा।
  • छोटे बच्चे जब भी अंगूठा पी रहे हो उनके हाथ में खिलौना देकर उनका ध्यान भटकाएं। 
  • अगर बच्चा इतना बड़ा है कि वो आपकी बात समझ सकता है तो उन्हें अंगूठे को चूसने से होने वाले नुकसान के बारे में समझाएं। 
  • अगर आपका बच्चा भूख लगने पर अंगूठा पीता है। तो अपने बच्चे को हर कुछ देर में कुछ न कुछ खिलाती-पिलाती रहें। बच्चे को कभी भी ज्यादा देर तक भूखा न छोड़ें।
  • बच्चे के अंगूठा पीने के पीछे का कारण जानने का प्रयास करें। कुछ बच्चों में तनाव के कारण यह आदत होती है। ऐसे में उनकी परेशानी को समझने व दूर करने का प्रयास करें। 

इस लेख को पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि छोटे बच्चों में अंगूठा चूसना चिंता का विषय नहीं है। बशर्ते उनकी इस आदत पर समय से कंट्रोल कर लिया जाए तो। इसलिए, आपका बच्चा भी अंगूठा पीता है, तो ध्यान रखें उसके पक्के दांत आने से पहले उसकी ये आदत दूर हो जाए। अगर लेख में दिए गए उपायों को आजमाने के बाद भी बच्चे की यह आदत दूर नहीं हो रही है, तो इसे लेकर बाल चिकित्सक से परामर्श करना बेहतर होगा।

चित्र स्रोत: Freepik

18 May 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text