home / पैरेंटिंग
ब्रेस्ट पेन में गोभी का पत्ता

ब्रेस्ट पेन में लगाएं गोभी का पत्ता, तुरंत मिलेगा आराम

पत्ता गोभी खाने के अनगिनत फायदे होते हैं। कोई इसकी सब्जी खाना पसंद करता है, तो किसी को यह सैलेड में पसंद होती है। कई सारी एग्जॉटिक डिशेज में भी पत्ता गोभी का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि स्तनपान के कारण ब्रेस्ट पेन व सूजन में इसे लगाने से फायदा हो सकता है। लेख में ब्रेस्ट पेन में गोभी का पत्ता कैसे फायदेमंद है व इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है, इसके बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे।

डिलीवरी के बाद स्तनपान से होने वाली परेशानियां

ब्रेस्ट पेन
ब्रेस्टफीडिंग के कारण ब्रेस्ट में पेन

डिलीवरी के बाद शिशु शुरुआती छह महीने सिर्फ माँ के दूध पर निर्भर रहता है। ब्रेस्टमिल्क के माध्यम से ही शिशु को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं। साथ ही इससे माँ और बच्चे के बीच गहरा संबंध बनता है। परंतु, कई बार ब्रेस्टफीडिंग के कारण महिलाओं के निप्पलों में ड्राइनेस, दरार, ब्लीडिंग, मैस्टाइटिस (एक प्रकार का स्तनों में इंफेक्शन) और ब्रेस्‍ट इंगोरजमेंट (अतिरिक्त मात्रा में दूध बनने से ब्रेस्ट में सूजन व दर्द) की परेशानी हो सकती है। ब्रेस्ट में दर्द व सूजन के कारण माँ के लिए शिशु को फीड कराना मुश्किल हो जाता है, लेकिन इसे बंद भी नहीं किया जा सकता है। इसलिए, लेख में आगे ब्रेस्ट पेन व सूजन से राहत पाने के लिए पत्तागोभी के फायदे व इस्तेमाल के बारे में जानेंगे।

ब्रेस्टफीडिंग की वजह से होने वाले ब्रेस्ट पेन में गोभी का पत्ता कैसे फायदेमंद है?

गोभी का पत्ता
ब्रेस्ट पेन के लिए गोभी का पत्ता

पुराने समय से दाइयां शिशु को ब्रेस्टफीडिंग कराने से न्यू मॉम्स में ब्रेस्ट पेन व सूजन की शिकायत के लिए पत्तगोभी का पत्ता लगाने के लिए कहती हैं। इसके पीछे इसमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण को प्रभावी माना जाता है। ये दोनों गुण ब्रेस्ट में पेन व सूजन से राहत दिला सकते हैं। एक शोध में इसे ब्रेस्ट पेन के लिए आइस पैक से ज्यादा प्रभावी पाया गया है। 

ब्रेस्ट पेन के लिए पत्तागोभी लीव्स के इस्तेमाल के फायदे

  • इसका इस्तेमाल करना आसान है।
  • प्राकृतिक और सुरक्षित है।
  • सूजन और दर्द से राहत दिलाता है।

ब्रेस्ट पेन के लिए पत्तागोभी का इस्तेमाल कैसे करें?

पत्तागोभी की पत्तियों में सूदिंग प्रभाव होता है, जो ब्रेस्ट में दर्द व सूजन को कम करता है। इसका इस्तेमाल कैसे करें, नीचे इसके बारे में स्टेप बाय स्टेप जानकारी दे रहे हैं।

  • सबसे पहले पत्तागोभी को फ्रिज में रखकर ठंडा कर लें। 
  • अब इसके ऊपर से एक लेयर पील करके उतार दें।
  • अब दो पत्तियां निकालें और बाकी की गोभी फ्रिज में रख दें।
  • एक कटोरे में ठंडा पानी लें और दोनों पत्तियों को अच्छी तरह साफ करें, जिससे इसमें मिट्टी, केमिकल व पेस्टिसाइड्स न रहे।
  • पत्तियों से पानी निकल जाने के बाद पत्ते पर इस तरह कट लगाएं, जिससे जब आप इसे लगाएं तो यह आपके निप्पल  से टच न हो।
  • अब 15 से 20 मिनट के लिए इसे ब्रेस्ट पर लगाकर लेट जाएं।
  • जब शरीर के तापमान से पत्ता गर्म हो जाए, तो उन्हें रिमूव कर दें।
  • अंत में एक साफ कपड़े से ब्रेस्ट को साफ कर लें।
  • मैस्टाइटिस व ब्रेस्‍ट इंगोरजमेंट के कारण होने वाले दर्द से राहत के लिए दिन में दो बार इसे लगाएं।

ब्रेस्ट पेन के लिए पत्तागोभी का इस्तेमाल करने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

ब्रेस्ट पेन व सूजन से राहत के लिए पत्तागोभी का इस्तेमाल करने से पहले ये जरूरी बातें जान लें:

  • पत्तागोभी ब्रेस्ट पर कोल्ड कंप्रेसर का काम करती है। इससे ब्रेस्ट में सूजन व ब्रेस्ट इंगोरजमेंट (Breast Engorgement) में आराम मिलता है। लेकिन इसका अधिक इस्तेमाल करने से बचें। ब्रेस्ट में सूजन कम होने पर इसका इस्तेमाल बंद कर दें। बहुत ज्यादा इसके इस्तेमाल से ब्रेस्ट मिल्क सप्लाई प्रभावित हो सकती है।
  • जिन महिलाओं को पत्तागोभी से एलर्जी है, वो इसे न लगाएं।
  • पत्तागोभी के पत्ते को कभी भी फटी स्किन व क्रैक निप्पल्स पर न लगाएं

इस लेख को पढ़ने के बाद आपको ब्रेस्ट में होने वाले दर्द व सूजन से राहत पाने के लिए पत्तागोभी के इस्तेमाल से जुड़ी जानकारी मिल गई है। ऐसे में ब्रेस्ट इंगोरजमेंट व मैस्टाइटिस से ग्रसित ब्रेस्टफीडिंग महिलाएं इस उपाय को जरूर आजमाएं। लेख में इससे संबंधित कुछ सावधानियों का भी जिक्र किया गया है, इसका इस्तेमाल करने से पहले इन पर जरूर गौर करें।

चित्र स्रोत: Freepik & Pexel

03 Aug 2022

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text