home / लाइफस्टाइल
Kesar Khane ke Fayde

केसर के फायदे आपकी सेहत और खूबसूरती के लिए – Kesar ke Fayde

केसर दुनिया के सबसे महंगे मसालों में से एक है। इसे सैफ्रॉन (Saffron) या फिर जाफरान के नाम से भी जाना जाता है। लाल और सुनहरे रंग के इस मसाले की खेती स्पेन, इटली, ग्रीस, तुर्किस्तान, ईरान, चीन और भारत में होती है। भारत में केवल जम्मू (किस्तवार) और कश्मीर (पामपुर) के सीमित क्षेत्रों में ही इसकी पैदावार होती है। केसर यहां के लोगों के लिए वरदान है, क्योंकि इसके फूलों से निकाली जाने वाली केसर की कीमत बाज़ार में तीन से साढ़े तीन लाख रुपए प्रति किलो है। यहां की केसर हल्की, पतली, लाल रंग वाली, कमल की तरह सुन्दर और बेहद खुशबूदार होती है।

0

केसर न सिर्फ स्वास्थ्य बल्कि खूबसूरती के लिए भी वरदान है। इसे खाने में रंग की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं। केसर के भारत में कई नाम हैं। जैसे- हिंदी में केसर, बंगाली में जाफरान, तमिल में कुमकुमप्पू, तमिल में कुमकुमा पुब्बा और अरबी में जियाफ्रान। इसमें विटामिन ए, फोलिक एसिड, तांबा, पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन, ज़िंक, मैग्नीशियम आदि कई पोषक तत्व पाये जाते हैं। ये सभी तत्व मिलकर इसे सेहत व खूबसूरती के लिए फायदेमंद बनाते हैं। (kesar khane ke fayde) इसके अलावा केसर में कई औषधीय गुण भी पाये जाते हैं। इसके गुणों के कारण ही इसे सभी मसालों में सर्वोत्तम माना जाता है। जानिए केसर के फायदे (kesar ke fayde) जिनसे आप अपने जीवन में बहुत बदलाव ला सकते हैं।

नींद न आने की शिकायत को दूर करे

केसर के फायदे प्रेग्नेंसी में

केसर कितना खाना चाहिए

केसर के नुकसान – Kesar ke Nuksan

Kesar Kya Hota Hai – केसर क्या है

केसर खाने के फायदे

केसर (kesar kya hota hai) एक बहुत ही लोकप्रिय मसाला है, जिसे क्रोकस सैटाइवस नाम के फूल से निकाला जाता है। केसर का वैज्ञानिक नाम क्रोकस सैटाइवस है और इसका प्रयोग मसाले और कलर एजेंट के रूप में किया जाता है। दिखने में यह बिल्कुल छोटे-छोटे लाल रंग के धागों जैसा होता है और अलग-अलग भाषाओं में इसे अलग-अलग नामों से जाना जाता है, जैसे कि हिंदी में केसर, बंगाली में जाफरान, तमिल में कुमकुमापू, तेलुगु में कुमकुमा पुब्बा आदि। हमें उम्मीद है कि केसर क्या है आपको यह पढ़ कर समझ आ गया होगा। इतना ही नहीं केसर का इस्तेमाल व्यंजनों में भी किया जाता है। कुछ व्यंजनों और पेय पदार्थों का स्वाद केसर के बिना अधूरा सा लगता है। जैसे- खीर, लस्सी, बिरयानी, फिरनी आदि। थोड़ी सी केसर इन सभी के स्वाद में ढेर सारा इज़ाफा कर देती है। इसके अलावा दूध में केसर मिलाकर पीना तो स्वास्थ के लिए फायदेमंद होता ही है। मगर जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं कि लंबे समय तक केसर का सेवन सेहत के लिए हानिकारक होता है। मगर कभी- कभी इसका स्वाद लेने में कोई बुराई नहीं हैं।

Types of Kesar in Hindi – केसर के प्रकार

Kesar khane ke fayde in Hindi

वैसे तो केसर के कई प्रकार (केसर के प्रकार) होते हैं लेकिन इनमें 4 प्रकार ही अहम हैं जो इस तरह से हैं-

  1. सरगोल केसर
  2. सुपर नगीन केसर
  3. नगीन केसर
  4. पोशल केसर

Kesar Khane ke Fayde – केसर खाने के फायदे

केसर खाना (kesar ke fayde in hindi) स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। आपको भी अपने डेली रूटीन में केसर को शामिल करना चाहिए। ऐसा इसलिए नहीं क्योंकि हम कर रहे हैं बल्कि इसलिए क्योंकि कई शोधों में भी पाया गया है कि केसर खाने के काफी फायदे होते हैं। यह प्रेग्नेंसी से लेकर त्वचा और कई अन्य चीजों तक को दूर करने में मदद करता है। तो चलिए आपको डिटेल में केसर खाने के फायदे (kesar khane ke fayde in hindi) बताते हैं।

Kesar khane se kya hota hai

याददाश्त के लिए

केसर याददाश्त दुरुस्त रखने के लिए काफी असरकारक होती है, क्योंकि ये हमारे मस्तिष्क यानि दिमाग को बल देती है। ये न सिर्फ हमारे सीखने और याद करने की क्षमता को बढ़ाती है बल्कि बढ़ती उम्र के साथ होने वाले अल्ज़ाइमर और स्मरण शक्ति की अन्य बीमारियों से भी दूर रखती है। स्मरण शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय में केसर बहुत ही लाभदायक है। याददाश्त बढ़ाने के लिए रोज़ाना केसर वाला दूध या फिर चाय जिसे कश्मीरी कहवा भी कहा जाता है, पी सकते हैं। केसर में मौजूद क्रोसिन और एथनॉलिक मूड को काफी हद तक ठीक रखने में मदद होते हैं और यह शीज़ोफ्रेनिया से ग्रसित मरीजों के इलाज में भी काफी फायदेमंद साबित होती है।

पाचन के लिए

केसर हमारी पाचन शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करती है। ये पेट में होने वाली गैस और एसिडिटी के उपचार में भी फायदा पहुंचाती है। यह पेट में दर्द और अल्सर आदि बीमारियों को दूर कर हमारे शरीर को रोग मुक्त बनाती है। पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए रोज़ सुबह एक कप केसर की चाय पिएं। यह सेहत के लिए केसर के फायदे (kesar ke fayde in hindi) हैं।

अस्थमा में फायदेमंद

पुराने समय से केसर का उपयोग (kesar ka upyog) अस्थमा के इलाज में भी किया जाता है। ये अस्थमा के रोगी को स्वस्थ रूप से सांस लेने में मदद करती है। बदलते मौसम में अस्थमा की बीमारी से पीड़ित लोगों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में केसर वाला दूध पीने से अस्थमा की समस्या धीरे- धीरे कम होने लगती है। ये फेफड़ों में सूजन और जलन को कम करती है। साथ ही हवा को फेफड़ों में अच्छे से पास होने में मदद करती है। आयुर्वेद में भी अस्थमा के इलाज में केसर का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। अस्थमा अटैक होने की आशंका को दूर करने के लिए केसर की चाय पिएं।  हालांकि अस्थमा के इलाज में इसके प्रभाव सीमित हैं इसलिए डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।

नींद न आने की शिकायत को दूर करे

आजकल की लाइफस्टाइल में नींद न आने की समस्या लोगों में बढ़ती जा रही है। रात- रात भर स्मार्टफोन का  इस्तेमाल और काम का तनाव नींद में सबसे बड़ी बाधा बनते हैं। ज्यादातर युवा तो सुबह के 4-5 बजे तक मोबाइल में या तो गेम्स खेलते रहते हैं या फिर वीडियोज़ देखते रहते हैं। ये सभी नींद न आने का सबसे बड़ा करण बनते हैं। केसर अनिद्रा यानि नींद न आने की शिकायत को भी दूर करती है। दरअसल, केसर इंसोम्निया और डिप्रेशन जैसी समस्याओं को दूर करने में फायदेमंद साबित होती है। केसर में पाया जाने वाला क्रोसिन आंखों की नॉन-रैपिड गति को कम करता है और अच्छी नींद लाने में मदद करता है। इससे अनिद्रा से जूझ रहे लोगों को काफी फायदा होता है और नींद न आने की वजह से होने वाली कई बीमारियां भी ठीक हो जाती हैं। इसके लिए रोज़ रात को सोने से पहले एक ग्लास गर्म दूध में चुटकी भर केसर मिलाकर 5 मिनट के लिए रख दें। उसके बाद दूध पी लें। आप चाहें तो इसमें मिठास लाने के लिए शहद भी डाल सकते हैं।

कैंसर के लिए

केसर में कैंसर जैसी घातक बीमारी के बचाव के गुण भी पाए जाते हैं। एक अध्ययन के मुताबिक केसर कैंसर के खतरे को रोकने में काफी सहायक है। केसर में मौजूद क्रोसिन कैंसर सेल को बढ़ने से रोकता है। इसके अलावा यह ब्रेस्ट कैंसर, स्किन कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर से भी हमारी सुरक्षा करती है। साथ ही ये ल्यूकेमिया यानि ब्लड कैंसर के खतरे को भी कम करती है। इसका नियमित सेवन ट्यूमर के विकास को रोकने में मददगार साबित होती है।

केसर के फायदे प्रेग्नेंसी में

Kesar is beneficial for pregnant women

वैसे तो प्रेगनेंसी के दौरान केसर का उपयोग कम से कम करने की सलाह दी जाती है, लेकिन कुछ मामलों में इसका थोड़ा सेवन किया जा सकता है। प्रेगनेंट महिला को पेट में गैस और सूजन होना आम बात है। केसर प्रेगनेंसी के दौरान पेट में होने वाली ऐंठन, गैस और सूजन को कम करने में मदद करती है। इसके अलावा किसी भी तरह की चिंता और डिप्रेशन को भी दूर करती है। केसर वाला दूध पीने से ये सभी समस्याएं खत्म होती हैं।

जब एक महिला प्रेगनेंट होती है, तो उस दौरान उसे काफी मूड स्विंग्स से होकर भी गुज़रना पड़ता है। इसी का परिणाम है चिंता और डिप्रेशन। गर्भावस्था में थोड़ी मात्रा में केसर का सेवन करना लाभदायक होता है, क्योंकि केसर एक एंटी- डिप्रेशन के रूप में भी काम करती है। मगर ध्यान रहे, प्रेगनेंसी के समय इसका अधिक सेवन कतई न करें। इसका दूध बनाने के लिए 1 केसर के रेशे को गर्म दूध के साथ ले सकते हैं। यदि आप दूध नहीं पी पाती हैं, तो आप इसे किसी सूप या गर्म पानी में डालकर ले सकती हैं। हालांकि बेहतर होगा कि इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह ज़रूर ले लें।

त्वचा के लिए केसर के फायदे

केसर सिर्फ सेहत के लिए ही नहीं बल्कि त्वचा में रौनक के लाने के लिए भी फायदेमंद होती है। (kesar benefits in hindi) केसर से बने फेस पैक त्‍वचा का सांवलापन दूर कर उसमें निखार लाते हैं। सर्दियों के मौसम में खासतौर पर त्वचा का ध्यान रखना ज़रूरी हो जाता है। इसके लिए दूध में केसर मिलाकर चेहरे पर लगाएं। ऐसा करने पर त्वचा में नमी बरकरार रहती है और रंग भी निखरता है। केसर का फेस पैक बनाने के लिए एक कटोरी में दूध और थोड़ा सा केसर डालकर रख दें। फिर थोड़ी देर बाद कॉटन की मदद से इसे चेहरे पर लगाएं। पैक सूख जाने के बाद इसे पानी से धो लें। बेहतर परिणामों के लिए इस फेस पैक को रोज़ाना या फिर कम से कम हफ्ते में दो बार लगा सकती हैं।

इसके अलावा त्वचा पर होने वाले दाग- धब्बे भी एक आम समस्या है। बेदाग चेहरा पाने के लिए केसर और पपीते से पैक बना सकते हैं। केसर में मौजूद प्राकृतिक एंटी-बैक्टीरियल और एक्सफोलिएटिंग गुण प्रदूषण से होने वाले बैक्टीरिया को दूर कर त्वचा को बेदाग व चमकदार बनाते हैं। इसके अलावा पपीते में विटामिन सी और एंटीऑक्‍सीडेंट के गुण पाए जाते हैं जो त्‍वचा के लिये बहुत अच्‍छे होते हैं। इस पैक को बनाने के लिए पका पपीता लेकर उसे मिक्सी में पीस लें। फिर उसमें दूध, शहद और केसर मिला लें। इसको चेहरे पर 10-15 मिनट के लिये लगाकर ठंडे पानी से धो लें।

मुंहासे दूर करने के लिए

ऑयली त्वचा वालों की सबसे बड़ी समस्या होती है, उनके चेहरे पर निकलने वाले मुंहासे। केसर आपकी इस समस्या से निजात दिलाने में भी कारगर है। केसर और चंदन पाउडर से बने फेस पैक ऑयली स्किन वालों के लिए काफी फायदेमंद होते हैं।। इसके अलावा ये आपकी स्किन पर होने वाले सनटैन को दूर करने का भी काम करती है। इस पैक को बनाने के लिए आप एक कटोरी में थोड़ा सा दूध लेकर उसमें केसर के कुछ रेशे और आधा चम्‍मच चंदर पाउडर मिला लें। आप चाहें तो इसमें शहद भी मिला सकते हैं। फिर इस पैक को अपने चेहरे पर लगाकर 5 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर चेहरे को धो लें।

झुर्रियों को कम करने के लिए

केसर में मौजूद एंटी- ऑक्सीडेंट गुण आपकी स्किन पर उम्र से पहले आने वाली झुर्रियों को रोकते हैं। यदि शहद और बादाम में केसर मिलाकर लगाई जाए तो ये काफी हद तक एजिंग के निशानों को दूर कर सकती है। इसका पैक बनाने के लिए सबसे पहले रात भर बादाम को पानी में भिगोकर रख लीलिए। सुबह इन भीगे हुए बादामों का पेस्ट बना लीजिए। अब इस पेस्ट में शहद, नींबू का रस और गुनगुने पानी में भीगी हुई थोड़ी से केसर मिलाकर पैक तैयार कर लीजिए। इस पैक को चेहरे और गर्दन पर लगाएं व सूखने के बाद इसे पानी से धो लें। इस पैक को लगाने से कुछ दिन में ही झुर्रियों की समस्‍या कम होने लगेगी।

आंखों के लिए केसर के फायदे

केसर (kesar khane se kya hota hai) यानि की सैफ्रॉन आपकी आंखों की रोशनी के लिए भी बहुत ही उपयोगी होता है और इससे आपकी आंखों की रोशनी में भी सुधार होता है। केसर में काफी सारे एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जो एएमडी (बढ़ती उम्र से जुड़ा नेत्र रोग) पर प्रभाव दिखाता है। साथ ही इसमें मौजूद एंटीइंफ्लामेटरी गुण रेटिना स्ट्रेस से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। इतना ही नहीं एक शोध में पता चला है कि केसर में मौजूद कंपाउंड क्रोसेटिन प्रोलिफेरेटिव विटेरियोनेटिनोपैथी पीवीआर की समस्या के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। दरअसल, यह रेटीना में होने वाली एक गंभीर समस्या है।

गठिए के लिए केसर के फायदे

गठिया ऐसा रोग है जिसमें आपके जोड़ों में सूजन और दर्द हो सकता है। ऐसे में अगर आप इस समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो केसर (saffron khane ke fayde) इसमें आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। एक शोध में पाया गया है कि केसर में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो गठिए के कारण होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में मदद करते हैं।

Kesar Wala Doodh ke Fayde – केसर दूध के फायदे

Kesar Wala Doodh ke Fayde

केसर वाला दूध (kesar dudh pine ke fayde) पीने के काफी फायदे होते हैं और इनके बारे में हम आपको नीचे डिटेल में बताएंगे-

  • केसर वाला दूध (kesar wala doodh ke fayde) प्रेग्नेंट महिलाओं और उनके बेबी के लिए बहुत ही अच्छा होता है। इसे पीना उनके लिए बहुत ही उपयोगी होता है।
  • केसर में एंटी-बैक्टीयिरल गुण होते हैं और इस वजह से त्वचा के लिए भी केसर वाला दूध (केसर दूध के फायदे) बहुत ही उपयोगी होता है। 
  • यदि पीरियड्स के दौरान आपके पेट में बहुत अधिक दर्द होता है और इसे दूर करने के लिए आप दवाइयों का सहारा लेती हैं तो उसकी जगह आप चाहें तो केसर वाला दूध पी सकती हैं। 
  • इतना ही नहीं यह आपकी हड्डियों को भी मजबूत बनाता है और इस वजह से महिलाओं को रात में सोने से पहले केसर वाला दूध पीना चाहिए।

Shahad aur Kesar ke Fayde – शहद और केसर के फायदे

शहद और केसर के फायदे

केवल केसर वाला दूध (kesar ke fayde bataen) नहीं बल्कि शहद और केसर (शहद और केसर के फायदे) भी कई तरह से स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। इसके कई फायदे होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  •  यदि आपको सर्दी या जुखाम हो गया है तो इसमें आप शहद और केसर का सेवन कर सकते हैं। मौसम बदलने की वजह से अक्सर लोगों को सर्दी-जुखाम हो जाता है और ऐसे में अगर आप चुटकी भर केसर और एक चम्मच शहद डालकर गर्म दूध पीते हैं तो आपको बहुत ही फायदा होता है।
  •  सिरदर्द दूर करने के लिए भी आप केसर और शहद का सेवन कर सकते हं। वैसे तो सिरदर्द होने के कई कारण होते हैं लेकिन माना जाता है कि इसके लिए शहद और केसर बहुत ही फायदेमंद होता है। 
  •  इतना ही नहीं यह पांचन तंत्रिका के लिए भी बहुत ही अच्छा होता है। केसर में एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटीइंफ्लामेट्री गुण पाए जाते हैं जो पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद होते हैं। 
  •  यदि आपको नींद नहीं आती है तो भी आप केसर और शहद का सेवन  कर सकते हैं। एक रिसर्च की मानें तो केसर में क्रोसीन नामक तत्व पाया जाता है जो आपकी नींद बढ़ाने में मदद करता है और इसके लिए फायदेमंद होता है।

Kesar Kitna Khana Chahiye – केसर कितना खाना चाहिए

Kesar kitna khana chahiye

केसर की मात्रा (kesar kitna khana chahiye) का ध्यान रखना भी आपके लिए जरूरी है क्योंकि केसर काफी गर्म होता है। इस वजह से यदि आप जरूरत से अधिक मात्रा में इसका सेवन करते हैं तो आपको नुकसान पहुंच सकता है। तो चलिए आपको बताते हैं कि कितनी मात्रा में इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

– आप यदि एक गिलास दूध में इसे डाल रहे हैं तो चुटकी भर केसर पाउडर या फिर इसके तीन-चार धागे काफी हैं।

– यदि आपको अल्जाइमर है तो फिर आप एक दिन में दो बार 15 एमजी केसर की खुराक ले सकते हैं। हालांकि, ऐसा करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें।

केसर का चयन करने का तरीका

केसर का चयन करने का तरीका

यदि आप मार्केट से केसर खरीदने जा रहे हैं या फिर आपको केसर खरीदना है लेकिन आप नहीं जानते हैं कि सही केसर का चयन कैसे करें तो आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए-

  • केसर केवल लाल रंग का होता है
  • केसर के धागे सूखे और छूने में भंगूर होने चाहिए
  • केसर की सुगंध मजबूत और ताजी होती है, यह कभी भी बासी नहीं होती

Kesar ke Nuksan – केसर के नुकसान

केसर के नुकसान

हर चीज़ के फायदे और नुकसान होते हैं, केसर के भी हैं। गुणों की खान केसर स्वास्थ्य के लिए अगर फायदेमंद है, तो नुकसानदायक भी है। आइए जानते हैं, केसर के नुकसान…

  • केसर के फायदों के साथ इसके नुकसान (kesar ke fayde aur nuksan) भी हैं। इसमें कैल्शियम भी होता है और अगर आप अधिक मात्रा में इसका सेवन करते हैं तो आपको कब्ज की दिक्कत हो सकती है।
  • इसमें भरपूर मात्रा में पोटैशियम भी जाता है और इस वजह से जरूरत से ज्यादा सेवन करने के कारण आपको हाइपरकैल्शियम की दिक्कत हो सकती है। इस वजह से आपके सीने में दर्द, सांस लेने में दिक्कत आदि हो सकता है।
  • अगर आप गर्भावस्था की पहली तिमाही में इसका सेवन करते हैं तो इससे गर्भाशय उत्तेजित हो सकता है, जो बाद में गर्भपात का कारण भी बन सकता है।

प्रेगनेंसी में भी नुकसानदायक

प्रेगनेंट महिलाओं के लिए केसर का ज्यादा सेवन नुकसानदायक हो सकता है। बच्चे को दूध पिलाने वाली मांओं को भी केसर का सेवन करने से परहेज करना चाहिए। दरअसल, अधिक मात्रा में केसर का सेवन गर्भाशय को संकुचित कर सकता है, जिससे प्रेगनेंट महिला के मिसकैरेज होने का खतरा बना रहता है। डॉक्टर भी प्रेगनेंट महिलाओं को केसर का सेवन न करने की सलाह देते हैं। बाजार में धड़ल्ले से नकली केसर की बिकती है, जिसमें केमिकल के ज़रिए कलर मिलाया जाता है। ये कलर ब्रेस्ट फीडिंग कराने पर दूध के जरिए बच्चे के शरीर में चला जाता है, जो उसकी सेहत के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है। कोशिश करें कि ऐसे समय में केसर के सेवन से बच कर ही रहें।

त्वचा का पीला पड़ना

अगर आप दिन में ज्यादा केसर का सेवन करते हैं, तो ये आपकी सेहत के साथ त्वचा के लिए भी नुकसानदायक हो सकता है। इस वजह से आपकी त्वचा और आंखें पीली पड़ जाती हैं और आपको पीलिया एवं फूड पाॅइज़निंग जैसी बीमारियां हो सकती हैं। इसके अलावा जिन लोगों के केसर से एलर्जी है, वो किसी भी रूप में इसका सेवन न करें। इसीलिए केसर के फायदे (kesar ke fayde) और नुकसान जानना बहुत जरुरी है।

केसर से जुड़ें सवाल जवाब – FAQ’s

1 ग्राम केसर की कीमत?

शुद्ध 1 ग्राम केसर की कीमत 590 रुपये से शुरू हो सकती है।

क्या केसर खराब होता है?

यदि आप केसर को सही तरीके से स्टोर नहीं करते हैं तो हो सकता है कि केसर खराब हो जाए। इसलिए आपको इसे सही तरीके से स्टोर करना चाहिए।

केसर शुद्ध है ये कैसे पता चलता है?

यदि आपको केसर की शुद्धता जाननी है तो आपको इसकी तेज सुगंध, छूने में भुरभुरा होना और इसके गेहरे लाल रंग से आप ये जान सकते हैं।

केसर को स्टोर करने का सबसे अच्छा तरीका

आपको केसर को एयर टाइट डिब्बे में बंद करके किसी सूखी और अंधेरी जगह पर रखना चाहिए।

क्या मैं रोजाना केसर वाला दूध पी सकता हूं?

हां, आप चाहें तो रोज केसर वाला दूध पी सकते हैं।

क्या चाय में केसर डाल सकते हैं?

हां, बिल्कुल आप केसर वाली चाय बना कर पी सकते हैं।

केसर इतना मेहंगा क्यों है?

ऐसा इसलिए क्योंकि केसर की खेती में मशीनों का बहुत ही कम इस्तेमाल किया जाता है और फूलों से धागों को निकालने लिए हाथों का ही इस्तेमाल किया जाता है। इतना ही नहीं एक फूल से केसर के केवल 3 धागे ही निकलते हैं। इस वजह से केसर इतना मेहंगा मिलता है।

ये भी पढ़ें :

Benefits Of Apricot in Hindi – आप यदि खाबूनी के फायदों के बारे में जानना चाहते हैं तो यहां दिए गए लिंक पर इसके बारे में डिटेल में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Haldi Doodh Ke Fayde – हल्दी वाला दूध पीने के फायदों के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप यह लेख पढ़ सकते हैं।

Immunity Kaise Badhaye –  अगर आप अपनी इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग करना चाहते हैं या फिर बढ़ाना चाहते हैं तो यहां दिए गए तरीके आपके बहुत काम आएंगे।

25 Feb 2019

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text