home / एस्ट्रो वर्ल्ड
भारत के इन 5 मंदिरों में पुरुषों को जाने की नहीं है इजाज़त, जानिए इसके पीछे क्या है वजह

भारत के इन 5 मंदिरों में पुरुषों को जाने की नहीं है इजाज़त, जानिए इसके पीछे क्या है वजह

 

0

 

आपने शायद सब्रीमाला मंदिर का नाम सुना होगा, जहां महिलाओं को जानें की इजाज़त नहीं थी। हालांकि, शायद इसके बाद भी आपने भारत के उन 5 मंदिरों (Temples) के बारे में नहीं सुना होगा, जहां पर पुरुषों (Men) को जाने की इजाज़त नहीं है। तो चलिए आपको इन मंदिरों के बारे में विस्तार से बताते हैं और इसके पीछे के कारण को जानने की कोशिश करते हैं। तिरुपति बालाजी की कहानी

इन 5 मंदिरों में पुरुषों को जाने की नहीं है इजाज़त – Temples Where Men are Not Allowed in Hindi

ब्रह्मजी मंदिर पुष्कर

 

पुष्कर में स्थित यह मंदिर भगवान ब्रह्मा के सबसे प्रमुख मंदिरों में से एक है। हालांकि, विवाहित पुरुषों को इस मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भगवान ब्रह्मा ने पुष्कर झील में एक यज्ञ किया था जिसे उन्हें अपनी पत्नी देवी सरस्वती के साथ करना था, लेकिन उन्हें इस आयोजन में देर हो गई और उन्होंने देवी गायत्री से शादी कर ली। इस वजह से देवी सरस्वती ने मंदिर को श्राप दिया कि, यदि कोई शादीशुदा पुरुष इस मंदिर में जाता है तो उसकी शादीशुदा ज़िंदगी में कई तरह की परेशानियां आएंगी।

अम्मन मंदिर, विजयनगरी

कन्याकुमारी में स्थित, कुमारी अम्मन मंदिर के गर्भगृह में मां भगवती दुर्गा हैं। यह स्थान वही कहा जाता है जहां माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए तपस्या की थी। इस मंदिर में कन्या मां भगवती दुर्गा की पूजा केवल महिलाएं ही करती हैं। हालांकि, संन्यासियों को अनुमति है लेकिन केवल मंदिर के द्वार तक और किसी अन्य विवाहित पुरुष को इस मंदिर के परिसर के अंदर जाने की अनुमति नहीं है।

दुर्गा माता मंदिर, मुजफ्फरपुर

बिहार में स्थित, यह मंदिर किसी विशेष समय के दौरान पुरुषों को परिसर के अंदर जाने की अनुमति नहीं देता है, जब देवी को मासिक धर्म कहा जाता है। यहां तक कि नियमित दिनों में पूजा करने वाले पुरुष पुजारियों को भी इस दौरान अनुमति नहीं है और मंदिर केवल महिलाओं के लिए खुलता है। यह केवल आखिरी बार होता है जब इस मंदिर के दरवाजे सभी के लिए खुलते हैं और भक्त पूजा करने के लिए अंदर जाते हैं।

चक्कुलथुकावु मंदिर, केरल

केरल राज्य में स्थित यह मंदिर देवी भगवती को समर्पित है। इस मंदिर में, पुरुषों को वर्ष के एक विशिष्ट समय के दौरान प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। नारी पूजा हर साल दिसंबर के पहले शुक्रवार के दौरान आयोजित की जाती है जहां पुरुष पुजारी उन सभी महिला भक्तों के पैर धोते हैं जो 10 दिनों से उपवास कर रही हैं। इस दिन को धनु कहा जाता है और इस दिन केवल महिलाएं ही मंदिर में प्रवेश कर सकती हैं। इस दिन महिलाएं बड़ी संख्या में पूजा करने के लिए एकत्रित होती हैं।

कामरूप कामख्या मंदिर, असम

सूची में सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक यह है। असम के पश्चिम गुवाहाटी में नीलाचल पहाड़ियों में बसा यह मंदिर अपने अंबुबाची मेले के लिए प्रसिद्ध है। यह मेला हर साल आयोजित किया जाता है और दुनिया भर से बहुत सारे भक्त इस भव्य समारोह का हिस्सा बनने आते हैं। इस मेले के दौरान, सभी के लिए मुख्य द्वार बंद रहता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि उस समय देवी को मासिक धर्म हो रहा था। इस समय केवल महिला पुजारियों को ही मंदिर में प्रवेश की अनुमति है।
POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शानदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!
23 Jun 2021

Read More

read more articles like this
good points logo

good points text