महिलाएं होती हैं ज्यादा डिप्रेशन की शिकार, इन तरीकों से निकले उदासी से बाहर

Women and Depression Tips

महिलाऐं अपने जीवन में कई तरीके के किरदार निभाती हैं - वो दोस्त होती हैं, मां भी होती हैं, बेटी भी होती हैं, पत्नी भी होती हैं और बहु भी होती है। जीवन में बहुत सारे ऐसे मौके आते हैं जब कोई बात उनके मन को या हृदय को ठेस पहुंचती है जिसकी वजह से महिलाऐं डिप्रेशन का शिकार (Women and Depression) हो जाती हैं। 
डिप्रेशन कई तरह के होते हैं जैसे पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर, पोस्ट परचम डिप्रेशन, प्रे मेंस्ट्रुअल डिप्रेशन जैसे ही कई तरह के मैसिव डिप्रेशन होते हैं जो काफी लम्बे आरसे तक महिलाओं के जीवन में बने रहते हैं। बहुत बार महिलाओं को अपनी निजी ज़िन्दगी के कामों को करते और अपनी अनगिनत ज़िम्मेदारियों को निभाते हुए ये मालूम ही नहीं पड़ता है की वे डिप्रेशन से जूझ रही हैं। उनके लिए इससे बहार निकल आना काफी कठिन होता है। तो सबसे बड़ा सवाल यह है की महिलाएं किस तरीके से इस डिप्रेशन से बहार आ सकती हैं। 

महिलाएं और डिप्रेशन Women and Depression Tips in Hindi

मनोचिकित्सक से मिलें

इसके अलावा अगर महिलाओं को लगता है की उनका जो डिप्रेशन है वो ज़्यादा लम्बे समय तक चल रहा है तो उन्हें निश्चित तौर पर मेडिकल सहायता लेनी चाहिए। उन्हें एक मनोचिकित्सक से मिलना चाहिए, उनसे अपनी बाटें बांटनी चाहिए, अपने मन की दशा बतानी चाहिए जिससे वे उन्हें सही सलाह दे सकें और उन्हें डिप्रेशन से बहार आने में सहायता कर सकें। ऐसे चिकित्सकों के पास मन को और दिमाग को शांत करने की थेरेपी होती हैं और वे महिलाओं को उनकी स्तिथि के अनुसार दवाइयां दे सकते हैं। 

बातों को शेयर करना सीखें

महिलाओं को ये समझने की बहुत आवश्यकता है की अगर उन्हें ऐसा लगता है की उनके जीवन में खुशियों की कमी है, निराशापन ज़्यादा है, उदासीनता ज़्यादा है, तो किसी भी तरीके से वे यह कोशिश करें की वे इस बारे में अपने करीबी लोगों से, जिन पर उन्हें विश्वास है, उनसे बात करें। वे अपना दुःख उनके साथ बाटें। ऐसा करने से उनका मन हल्का होगा और उनका जो दर्द है वो बहार निकल पाएगा। 

दोस्त बनाएं

इसके अलावा महिलाऐं अपने दोस्तों से ज़रूर बात करें। वे अपने दोस्त बढ़ाएं, उनके साथ बहार जाएं। महिलाएं अपने आस पास देखें, अपनी सोसाइटी में देखें की किन लोगों से बात करके उनका मन बहलता है, उनसे बात करके उनको अच्छा महसूस होगा। 

काम से लें ब्रेक

इसके अलावा वे अपने परिवार को लेकर या अपने दोस्तों को साथ छुट्टियों पर जा सकती हैं। कुछ दिन रोज़ाना कामों से ब्रेक लेना काफी फायदेमंद होता है। इससे हमारा मन ताज़ा हो जाता है।

खुद को दें समय

अपने लिए समय निकलना भी बहुत ज़रूर है। महिलाएं खुद का ख्याल रखें, अपनी स्किन का ख्याल रखें, पौष्टिक खाना खाएं, योग करें, कसरत करें, मैडिटेशन करें। निश्चित तौर पर यह चीज़ें आपको सुखद अनुभव देंगी। खुद पर बहुत ध्यान देने से डिप्रेशन जल्दी से जल्दी ठीक हो सकता है। आमतौर पर हम देखते हैं की पारिवारिक ज़िम्मेदारियों और प्रोफेशनल ज़िम्मेदारियों की वजह से महिलाएं अपने जीवन पर ध्यान देना बंद कर देती हैं, वे ऐसा करना भूल जाती हैं। इसलिए यह बहुत ज़रूरी है की आप अपना ख्याल रखें और अपने मन का भी ख्याल रखें।
(लेख साभार - शिवांग माथुर, मोटिवेशनल स्पीकर)

Beauty

Ultimate Germ Defence 35 Sanitizing Wipes + 30 Sanitizing Towels + 4 Moisturizing Hand Sanitizers

INR 999 AT MyGlamm