इस महाशिवरात्रि जाने भारत के कुछ फेमस शिव मंदिर के बारे में - About Shiv Temples in Hindi

About Famous Shiv Temples in Hindi

देवो के देव भगवान शिव की महिमा से कोई भी अछूता नहीं है। इस सृष्टि के रचियता भगवान शिव कभी रुद्र तो कभी भोलेनाथ बन जाते हैं। पुराणों के अनुसार शिव मंदिरों में दर्शन मात्र से सभी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। भगवान शिव के भारत में कई ऐसे मंदिर हैं जो खूबसूरती और रहस्यों से भरे हुए हैं। जिनमें से मुख्य 12 ज्योतिर्लिंग है। भगवान शिव की महिमा अपरंपार है। ऐसा कहा जाता है जो व्यक्ति पूरी सच्ची श्रद्धा भाव से भगवान भोले भंडारी को पूजता है उसकी सभी मनोकामना पूरी हो जाती है। भगवान शिव को महाकाल, शम्भू, नटराज, महादेव,आदियोगी जेसे उनके अलग-अलग नामो जाना जाता है। चलिए आज आपको भगवान शिव के उन फेमस मंदिरों के बारे में बताते हैं जो अपनी भव्यता, सुंदरता और अनोखे इतिहास के लिए जाना जाता है। भगवान शिव के हर मंदिर का अपना अलग-अलग महत्व है। शिव के इन सभी मंदिरों में आस्था और भक्ति लिए सलाना भक्तों का आना जाना लगा रहता है।
इस साल आने वाली महाशिवरात्रि में आप भी भोले के इन मंदिरों में दर्शन करने जाए। इस शिवरात्रि को और खास बनाने के लिए अपने परिजनों दोस्तों और जानने वालों के साथ शेयर करें शिव की कथा, मंत्र और महाशिवरात्रि कोट्स इन हिंदी। 

Table of Contents

    केदारनाथ मंदिर - Kedarnath Temple

    Kedarnath Temple

    उत्तराखंड में स्तिथ केदारनाथ हिमालय श्रृंखला से 3583 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। केदारनाथ 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदाकिनी नदी के पास स्तिथ है। हिन्दू धर्म में केदारनाथ लोकप्रिय व चार धाम स्थलों में से एक है। केदारनाथ पंच केदार बनाने वाले पांच मंदिरों में से एक है। शिव के सच्चे भक्तों के लिए यह धाम बहुत महत्व रखता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार केदारेश्वर ज्योतिर्लिंग के प्राचीन मंदिर का निर्माण पांडवों द्वारा करवाया गया था।

    महाकालेश्वर मंदिर - Mahakaleshwar Temple

    Mahakaleshwar Temple

    उज्जैन को महाकाल की नगरी के नाम से जाना जाता है। मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्तिथ महाकालेश्वर मंदिर को दक्षिणामूर्ति भी कहा जाता है। ज़्यादातर श्रद्धालु यहाँ भस्म आरती देखने के लिए आते हैं। यह पूरी भारत में सबसे अनोखी आरती है, जहाँ महादेव के स्वरूप महाकाल का श्रृंगार मुर्दे की भस्म से होता है। यह भारत के सबसे लोकप्रिय व प्राचीन शिव मंदिरों में से एक है।

    त्र्यम्बकेश्वर मंदिर - Trimbakeshwar Shiva Temple

    Trimbakeshwar Shiva Temple

    नासिक शहर से तकरीबन 20 किमी की दूरी पर शिव का नाम चीन त्र्यम्बकेश्वर मंदिर है। यह मंदिर गोदावरी नदी के तट पर है। मंदिर से जुडी कहानियों के अनुसार इस मंदिर का निर्माण पेशवा बालाजी बाजी राव द्वारा किया गया है। जिसे क्लासिक हेमाडपंथी शैली में बनाया गया है। मंदिर की सुंदरता आपको अपनी ओर आकर्षित करेगी। मंदिर में ज्यादातर काले पत्थर का निर्माण किया गया है जो इसकी लोकप्रियता को बढ़ावा देता है। यहाँ शिव लिंग में भगवान विष्णु, ब्रह्मा और भगवान रुद्र के सभी रूपों का दर्शन एक साथ करने को मिलेगा। मंदिर की मान्यता है की यहाँ हीरे और महंगे रत्नों से जड़े तीन अलग-अलग स्वर्ण मुकुटों के साथ लिंग में सुशोभित हैं।

    जानिए अमरनाथ यात्रा के नियम और अमरनाथ की कथा के बारे में

    रामानाथस्वामी मंदिर - Arulmigu Ramanathaswamy Temple

    Arulmigu Ramanathaswamy Temple

    तमिलनाडु के रामेश्वरम में स्थापित रामानाथस्वामी मंदिर दक्षिण भारत में नहीं बल्कि पूरे भारत में सबसे प्रमुख मंदिरों में से एक है। रामानाथस्वामी मंदिर को हिन्दुओ के लिए चार धाम और भारत में स्थापित 12 जोतिर्लिंगो में से एक माना जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मंडी की स्थापना वहां की गयी है जहाँ  भगवान राम ने ब्राह्मण रावण को मुक्ति देने के पाप से खुद को मुक्त करने के लिए भगवान शिव की पूजा अर्चना की थी। इस स्थान पर भगवान की मूर्ती को भगवान हनुमान द्वारा कैलाश से लाया गया था। यह मंदिर वास्तुकला का अनोखा संगम है। सभी शिव भक्त एक बार यहाँ जरूर आते हैं। 

    अमरनाथ मंदिर - Amarnath Temple

    Amarnath Temple

    शिव की अमरनाथ गुफा के बारे में लगभग हर कोई जानता है। यहाँ स्तिथ बर्फ से बने शिव लिंगम को हिमानी शिवलिंग के नाम से भी जाना जाता है। शिव के भक्तों के ;लिए यह जगह बहुत पावन और मनोरम मानी जाती है। कथाओं के अनुसार भोले शंकर ने माँ पारवती को यही अमर कथा की कहानी सुनाई थी। माना जाता है कि यहाँ आज भी श्रद्धालुओं को कबूतरों का एक जोड़ा दिखाई  पड़ता है जिन्हें अमर पंछी माना जाता है। यह स्थल काफी ऊंचाई पर हैं और पवित्र गुफा तक जाने के लिए ऊबड़-खाबड़ इलाकों से होकर पड़ता है। यहाँ जाने के लिए भक्तों को बहुत साहस चाहिए होता है। 

    भगवान शिव के इन फेमस मंदिरों के अलावा हर व्यक्ति को जीवन में एक बार 12 ज्योतिर्लिंग के दर्शन भी करने चाहिए। नियमित भगवान शिव की पूजा अर्चना करने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है।

    You Might Also Like

    Happy Mahashivratri Wishes 2021 in English
    Happy Mahashivratri Shayari in Hindi
    Ram Navami Status in Hindi