लॉकडाउन से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग तक 2020 ने लोगों को सिखाएं ये 5 नए शब्द

लॉकडाउन से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग तक 2020 ने लोगों को सिखाएं ये 5 नए शब्द

साल 2020 कई मायनों में लोगों के लिए नई चुनौतियां लेकर आया है। इस साल ने लोगों के जिंदगी देखने के नजरिए को बदल दिया है। साथ ही इस साल ने जाते-जाते लोगों को काफी कुछ नया भी सिखा दिया है। एक ओर जहां पहले लोग साफ-सफाई का ध्यान नहीं रखते थे या फिर काफी अधिक प्रदूषण फैलाते थे, वहीं 2020 में लॉकडाउन के कारण सभी लोग अपने घर में रहने को मजबूर हो गए। इसके बाद पर्यावरण में कुछ बहुत ही सकारात्मक बदलाव भी देखे गए। तो चलिए बिना कोई देरी किए आपको बताते हैं वो 5 शब्द जो लॉकडाउन में लोगों ने सीखे और जिन शब्दों ने लोगों का नजरिया भी बदल दिया है।

2020 में इन 5 शब्दों ने बदली लोगों की जिंदगी- 5 New Words We Learn In 2020

लॉकडाउन

कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी 2020 के मार्च से काफी तेजी से फैलना शुरू हो गई थी और देखते ही देखते यह दुनियाभर के कई देशों में फैल गई। इस वजह से कई देशों को लोगों को घरों में बंद करना पड़ा, जिसे लॉकडाउन (Lockdown) कहा गया। भारत में शायद उस वक्त पहली बार ही लोगों ने लॉकडाउन शब्द सुना और घरों में रहते हुए इसके अर्थ को अच्छी तरह से समझा। ऐसा लोगों की भलाई के लिए ही किया गया था। ऐसा इसलिए किया गया ताकि कोरोनावायरस को फैलने से रोका जा सके।

क्वारंटाइन

क्वारंटाइन (Quarantine) शब्द वैसे तो नया नहीं है और शायद आप में से कई लोगों ने पहले भी इस शब्द को सुना होगा लेकिन इस साल कई अधिक लोगों को इस शब्द के बारे में पता चला है। दरअसल, जब किसी व्यक्ति को बाकि लोगों से दूर किसी कमरे या फिर किसी जगह पर रखा जाता है तो उसे क्वारंटाइन करना कहा जाता है। कोरोनावायरस बीमारी के संपर्क में आने वाले सभी लोगों को क्वारंटाइन में रहने की सलाह दी जा रही है। ऐसा इसलिए ताकि उस शख्स से दूसरे शख्स में यह बीमारी ना फैले।

सोशल डिस्टेंसिंग

सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) भी कोरोनावायरस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए जरूरी है। इस शब्द का मतलब है कि घर से बाहर निकलने के बाद या फिर कहीं भी जाते वक्त दूसरे लोगों से दूरी बना कर रखना। ना ही किसी से हाथ मिलाना और ना ही किसी से गले लगना। सोशल डिस्टेंसिंग को नियम के तौर पर लागू करने का कारण भी लोगों को कोरोनावायरस से बचाना ही था। इसके बाद लोगों ने एक दूसरे से मिलने के लिए नए-नए तरीके खोज लिए हैं।

हैंड सैनिटाइजर

सैनिटाइजिंग शब्द तो आपने भी पहले सुना होगा लेकिन इसका महत्व शायद आपको भी कोरोनावायरस के दौरान ही समझ आया होगा। दरअसल, हैंड सैंनिटाइजर कोविड-19 की वजह से इतने मशहूर हो गए कि कोविड-19 के मामले देश में सामने आते ही इनकी डिमांड झट से बढ़ गई। हालांकि, धीरे-धीरे लोगों को समझ आ गया कि किस तरह से उन्हें हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना है। खैर जो भी हो लेकिन कोविड-19 ने लोगों को हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना भी समझा ही दिया है। 

फेस मास्क

कपड़ों की तरह आज के वक्त में फेस मास्क भी उतना ही जरूरी हो गया है। यहां तक कि देशभर के कई हिस्सों में फेस मास्क ना लगाने पर लोगों को फाइन भी देना पड़ रहा है। फेस मास्क 2020 में लोगों की जीवनशैली का अहम हिस्सा बन गया है।
POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

Beauty

Ultimate Germ Defence 35 Sanitizing Wipes + 30 Sanitizing Towels + 4 Moisturizing Hand Sanitizers

INR 999 AT MyGlamm