स्वास्थ्य के लिए अलसी के फायदे और नुकसान - Alsi ke Fayde aur Nuksan

अलसी के फायदे, अलसी का बीज, Alsi ke Fayde

अलसी (alsi ke bij) का कई भारतीय घरों में रोजाना इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि, आज भी अधिकतर लोग इसके बारे में नहीं जानते हैं। दरअसल, अलसी एक प्रकार के छोटे-छोटे बीजों को कहा जाता है, जो कई सारे पोष्टिक तत्वों से भरपूर होते हैं और इसके इन असीम फायदों का आप भी अंदाजा नहीं लगा सकते हैं। कई लोग तो यह भी नहीं जानते हैं कि जिन अलसी के बीजों का इस्तेमाल वो खाद्य पदार्थों में करते हैं वो अलसी के बीज कई तरह की बीमारियों को दूर रखने में कागरग हैं। इस वजह से आज हम आपको अपने इस लेख में अलसी के बीज (अलसी के गुण) के फायदों और नुकसान के बारे में बताने वाले हैं।

Table of Contents

    अलसी क्या होता है? - What is Flaxseed in Hindi

    अलसी (alsi kya hai) एक प्रकार के छोटे-छोटे बीज होते हैं। यह स्वास्थ्य के लिए बेहद ही लाभकारी होते हैं और शरीर पर इनका बेहद ही सकारात्मक प्रभाव होता है। यदि किसी व्यक्ति को प्रोटीन की जरूरत है तो वो अपने आहार में अलसी को शामिल कर सकता है। अलसी एक बहुत ही लोकप्रिय जड़ीबूटी है। अलसी की पहुंच लोगों तक काफी तेजी से बढ़ रही है और इस वजह से आपको ये आसानी से मार्केट में मिल जाएगी। बता दें कि मछली में पाया जाने वाला ओमेगा-3 फैटी एसिड अलसी में भी मौजूद होता है और इस वजह से शाकाहारी लोगों के लिए अलसी किसी वरदान से कम नहीं है।

    अलसी के फायदे - Alsi Khane ke Fayde

    जैसा कि हमने आपको ऊपर भी बताया है, अलसी (अलसी के फायदे) स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होती है। ऊपर से इसमें मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड इसे बाकि सभी आयुर्वेदिक औषधी से अलग और खास बना देता है। ऐसा इसलिए क्योंकि ओमेगा 3 केवल मछली में ही पाया जाता है लेकिन शाकाहारी लोग मछली नहीं खाते हैं। इस वजह से शाकाहारी लोगों के लिए अलसी (अलसी के लाभ) किसी वरदान से कम नहीं है। इसके अलावा अलसी हृदय रोग, बाल, त्वचा, पेट आदि कई चीजों के लिए फायदेमंद होती है। तो चलिए बिना कोई देरी किए आपको अलसी (अलसी का बीज) के इन फायदों के बारे में विस्तार से बताते हैं। 

    महिलाओं के लिए अलसी के फायदे

    अलसी (alsi khane ke fayde), हर प्रकार की हार्मोनल समस्या का एक रामबाड़ इलाज है। इसमें लिगनन्स काफी अधिक मात्रा में पाया जाता है जो एस्ट्रोजन के हाई लेवल को कम करने और कम एस्ट्रोजन के लेवल को कंट्रोल करता है। इसकी मदद से आप मेनोपॉज की समस्या भी दूर होती है। अलसी के सेवन से अनियमित पीरियड की समस्या भी ठीक होती है। इसके अलावा यह महिलाओं के लिए कई अन्य तरीकों से भी फायदेमंद होता है। जैसे सिर दर्द, घबराहट, मूड स्विंग आदि। इसके अलावा पीरियड में अधिक ब्लीडिंग होने पर भी ये उसे कंट्रोल करने में मदद करती है।

    भुनी हुई अलसी खाने के फायदे

    भुनी हुई अलसी (flax seeds benefits in hindi) आपके स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी होती है। इसे कढ़ाई में हल्का भूरा होने तक भुन लें और भी दरदार पीस लें। इसके बाद आप भोजन के बाद इसका सेवन कर सकते हैं। मधुमेह से ग्रस्त लोगों को इसका सेवन करने से काफी फायदा होता है। प्रतिदिन भुनी हुई अलसी काने से उनका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल रहता है और पेट से संबंधित परेशानियां भी दूर रहती हैं। इसके अलावा भुनी हुई अलसी खाने से गले और छाती के दर्द, सूजन और निमोनिया आदि के दर्द में भी आराम मिलता है।

    अलसी भिगोकर खाने के फायदे

    अलसी alsi ke beej ke fayde) में विटामिन, मिनरल, ओमेगा-3 फैटी एसिड होते हैं और इसके अलावा इसमें फाइबर भी होता है। यदि आप रोज रात को अलसी भिगोकर रख देते हैं और सुबह खाते हैं तो उससे इसमें मौजूद सभी हानिकारक फाइटिक एसिड निकल जाते हैं। भीगी हुई अलसी का सेवन करने से शरीर में मौजूद दूषित पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और आपका शरीर हेल्दी बना रहता है। 
    ऐसे भिगोएं अलसी
    शाम को 1 लीटर उबले हुए पानी में 3 चम्मच अलसी के बीज भिगो लें और रात भर के लिए रख दें। सुबह इनका पानी निकाल कर इसे खा लें।

    खाली पेट अलसी खाने के फायदे

    खाली पेट अलसी खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि खाली पेट अलसी खाने से उसके गुण अच्छी तरह से शरीर में अवशोषित हो जाते हैं। अलसी खाने का सबसे बड़ा फायदा ये है कि इससे आपका वजन कम होता है। अलसी में कार्ब कम होता है और अधिक मात्रा में अमीनो एसिड होता है, जो वजन घटाने में सहायक होता है। इसके अलावा इसकी तासीर गर्म होने से ये व्यक्ति के शुगर लेवल को भी कंट्रोल रखता है। खाली पेट अलसी खाने से आपका पाचन तंत्र भी स्वस्थ रहता है और आपका पेट भी नियमित रूप से साफ होता रहता है।

    कोलेस्ट्रॉल में अलसी के फायदे

    अलसी (alsi seeds benefits in hindi) कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में भी उपयोगी होती है। यदि आप इसका नियमित रूप से सेवन करते हैं तो आपके शरीर का बैड कोलेस्ट्रॉल अपने आप ही कम होने लग जाता है और गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है। बता दें कोलेस्ट्रॉल हृदय स्वास्थ्य के लिए बहुत ही जरूरी होता है और इस वजह से अलसी केवल कोलेस्ट्रॉल को कम ही नहीं करता बल्कि आपके हृदय के स्वास्थ्य के लिए भी उपयोगी होती है।

    अलसी के फायदे बालों के लिए

    अलसी (flax seeds benefits in hindi) के बीज बालों को मजबूत और घना बनाने में मदद करते हैं। अलसी के बीज में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड और विटामिन बी बालों को बढ़ने में मदद करता है। इसके अलावा फ्लैक्सीड में मौजूद विटामिन ई रेडिकल्स को दूर करते हैं और बालों को मजबूत बनाते हैं। बालों के लिए आप तीन तरीकों से अलसी के बीजों का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप अलसी के बीज का हेयर मास्क लगा सकते हैं। या फिर अलसी के बीज की हेल्द ड्रिंक बना सकते हैं। इसके अलावा आप चाहें तो अलसी के बीज का तेल भी लगा सकती हैं। 

    हृदय रोग के लिए

    अलसी का नियमित रूप से सेवन करने से दिल से संबंधित कई बीमारियां दूर रहती हैं। बूरे रंग के इन बीजों में काफी अधिक मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं, जो हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड रक्तचाप को सामान्य रखने में मदद करते हैं। साथ ही ये दिल की धड़कनों को भी सामान्य रखते हैं। इसके अलावा फ्लैक्ससीड में मौजूद फाइबर खराब कोलेस्ट्रॉल को दूर करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है।

    वजन घटाने के लिए

    अलसी में फाइबर, ओमेगा-3 फैटी एसिड और लिगनेन होता है, जो वजन घटाने में काफी सहायक होता है। इसमें मौजूद फाइबर से आपका पेट अधिक समय तक भरा रहता है और आपको कम भूख लगती है। इस वजह से आप कम खाना खाते हैं और आपका वजन कम होने लगता है। इसके अलावा अलसी में विटामिन बी, पोटैशियम, मैग्नीशियम और जस्ता भी होता है। ये सभी तत्व भी वजन घटाने में लाभकारी होते हैं। ऐसे में अगर आप सही में इस सर्दियों में अपना वजन घटाना चाहते हैं तो आपको अलसी को अपनी डाइट में जरूर शामिल कर लेना चाहिए।

    मधुमेह के लिए

    टाइप 2 मधुमेह के लिए अलसी काफी उपयोगी होती है। यह टाइप 2 शुगर के पेशेंट की रक्त शर्करा में सुधार करती है। जानकारी के मुताबिक, जो लोग 12 हफ्तों तक अलसी के सप्लीमेंट का सेवन करते हैं उनकी रक्त शर्करा में सकारात्मक प्रभाव होता है। इसके अलावा अलसी में मौजूद फाइबर और प्रोटीन ब्लड शुगर स्तर को बेहतर करता है। 

    पाचन तंत्रिका के लिए

    अलसी आपकी पाचन तंत्रिका के लिए भी बेहतरीन होती है। यह आपके पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याओं को दूर करता है। इसका नियमित रूप से सेवन करने से आपके पेट से संबंधित परेशानियां ठीक हो जाती हैं। उदाहरण के लिए कब्ज या फिर गैस आदि की समस्याएं इसके सेवन से दूर होती हैं।

    कैंसर के खतरे को कम करने के लिए

    जानकारी के मुताबिक, अलसी के बीज कैंसर के जोखिम को कम करने में प्रभावी हैं। अलसी के बीज ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट और पेट के कैंसर के जोखिम को कम करती है। अलसी के बीज में लिगनन का अधिक स्तर होता है। यह स्तन में कैंसर के लिए जिम्मेदार एन्जाइम से रक्षा प्रदान करता है। इसके अलावा अलसी के बीज के पाउडर और तेल में भी काफी अधिक मात्रा में लिगनन होता है।

    अलसी के तेल का उपयोग कैसे करें - Alsi ke Tel

    अलसी के तेल ( flax oil ke fayde) का उपयोग भी कई सारी चीजों के लिए किया जाता है। जैसे कि भुनी हुई अलसी या फिर सामान्य तौर पर अलसी का सेवन किया जाता है। साथ ही अलसी का तेल भी उतना ही लाभकारी होता है, जितना की सामान्य तौर पर अलसी का सेवन करना होता है। अलसी का तेल भी कई समस्याओं को दूर रखने में आपकी मदद करता है। यहां नीचे हम आपको अलसी के तेल के कुछ उपयोगों के बारे में आपको बताने वाले हैं।
    - अलसी के तेल का इस्तेमाल कैंसर से बचाता है। यह स्तन कैंसर, पेट के कैंसर आदि को होने से रोकता है।
    - अलसी का तेल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी मदद करता है। इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और गुड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है।
    - सूजन के लिए भी अलसी का तेल बहुत ही लाभकारी होता है। यदि आपके आतों के भीतर सूजन है तो अलसी के तेल के नियमित सेवन से ये कम होती है। साथ ही इसमें अधिक मात्रा में म्यूसिलेज भी होता है।
    - अलसी के तेल से नियमित रूप से मालिश करने पर गठिया जैसी समस्याएं भी कम होती हैं। यह जोड़ों में होने वाले दर्द में राहत दिलाता है।
    - अलसी का तेल वजन घटाने में भी मदद करता है। आप इसे अपने आहार के साथ ले सकते हैं।

    अलसी के उपयोग - Alsi ka Upyog

    अब आप अलसी (alsi ke tel ke fayde) के लाभों के बारे में जान चुके हैं तो ये भी जान लीजिए कि आप किस तरह से इसका उपयोग कर सकते हैं। यदि आप सीधे अलसी के बीज का सेवन करते हैं तो हो सकता है कि ये बिना पचे ही आपके शरीर से बाहर भी निकल जाए और इस वजह से यह जानना बहुत ही जरूरी है कि अलसी का उपयोग कैसे किया जाना चाहिए। साथ ही अगर आप चाहते हैं कि अलसी के आपके शरीर को अधिक से अधिक लाभ मिलें तो ये जानना भी बेहद जरूरी है कि इसे किस समय खाया जाना चाहिए।
    - अलसी के सेवन का सबसे अच्छा तरीका इसका पाउडर बना लेना है। इससे आप आसानी से इसे खा सकते हैं और आपको इसके सभी पोषक तत्व भी प्राप्त होते हैं।
    - इसके अलावा आप 10 मिनट के लिए अलसी के बीजों को भिगो कर भी खा सकते हैं। हालांकि, यदि आप ठंडे पानी में अलसी के बीज भिगोते हैं तो उन्हें कम से कम तीन घटों के लिए भिगोएं।
    - आप चाहें तो अलसी के लड्डू बना कर भी इनका सेवन कर सकते हैं।
    - आप नाश्ते, स्मूदी या फिर सलाद के साथ भी अलसी खा सकते हैं।
    - आप अलसी के पाउडर को दलिये या फिर दही में डालकर भी खा सकते हैं।
    - अलसी के सेवन का सबसे अच्छा वक्त सुबह का है। इस वजह से हो सके तो अलसी को सुबह नाश्ते के साथ खाएं।

    अलसी के नुकसान - Alsi ke Nuksan

    वैसे तो अलसी (अलसी के नुकसान) स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी होती है लेकिन कई बार जरूरत से अधिक सेवन किए जाने के कारण यह आपके लिए नुकसानदायक भी हो जाती है। अलसी के अधिक सेवन के कुछ नुकसान इस प्रकार हैं।
    - अलसी भले ही कब्ज की समस्या को दूर करने में मदद करती है लेकिन यदि आप इसका अधिक सेवन करते हैं तो इससे आपको अधिक कब्ज की समस्या भी हो सकती है।
    - यदि आप खून पतला करने वाली दवा का सेवन करते वक्त अलसी का अधिक सेवन करती हैं तो पीरियड्स के दौरान आपको अधिक ब्लीडिंग होने की समस्या हो सकती है।
    - अलसी का अधिक सेवन करने से दस्त या डायरिया भी हो सकता है।
    - यदि आप अलसी का सीधा अधिक सेवन करते हैं तो इससे आपके शरीर में ओमेगा 6 फैटी एसिड की कमी भी हो सकती है।

    अलसी के बीज से जुड़े सवाल और जवाब - FAQ’s

    1. अलसी कितनी खाएं?

    यदि आप अलसी को पाउडर के रूप में खाते हैं तो आप एक चम्मच अलसी का सेवन कर सकते हैं। वहीं यदि बीज के रूप में करते हैं तो डेढ चम्मच अलसी काफी होती है।

    2. अलसी कब और कैसे खाएं?

    आप अलसी को आहार में मिला कर खा सकते हैं। आप चाहें तो इसे दूध के साथ भी खा सकते हैं। अलसी को आप सुबह खाली पेट खा सकते हैं या दिन के किसी अन्य समय भी खा सकते हैं।

    3. अलसी का सेवन किस रोग में व कैसे करें?

    अलसी का सेवन आप शुगर, पेट की समस्या, पाचन तंत्रिका आदि के लिए के लिए कर सकते हैं।

    4. क्या अलसी गर्म होती है?

    जी हां, अलसी की तासीर गर्म होती है और इस वजह से इसका अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए।

    5. अलसी का पाउडर कैसे बनाये?

    अलसी का पाउडर बनाने के लिए आप पहले अलसी को भून लें और फिर आप मिक्सी में पीस लें। बस आपका अलसी का पाउडर तैयार है। आप इसे आहार में डाल कर खा सकते हैं या फिर दूध के साथ भी ले सकते हैं।

    POPxo की सलाह : MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

    Beauty

    Ultimate Germ Defence 35 Sanitizing Wipes + 30 Sanitizing Towels + 4 Moisturizing Hand Sanitizers

    INR 999 AT MyGlamm