प्राइवेट पार्ट की सफाई का ख्याल कैसे रखें - How to Clean Private Parts in Hindi

How to Clean Private Parts in Hindi, प्राइवेट पार्ट की सफाई, Menstrual Hygiene Tips in Hindi, Personal Hygiene in Hindi

हम अपनी कॉमन ब्यूटी और हेल्थ की दिक्कतें जिस तरह आपस में एक- दूसरे से शेयर कर लेते हैं, उसी तरह से अपनी सेक्सुअल हाईजीन (sexual hygiene) यानि कि अपने प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई से जुड़ी बातें करने में आज भी हिचकिचाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि एक लड़की को अपनी बेहतर सेहत के लिए अपनी सेक्सुअल हेल्थ और वैजाइना यानि कि योनि की साफ-सफाई से जुड़ी बातें जानना कितना जरूरी है। खासतौर पर जिन लड़कियों की शादी होने वाली है या फिर जो शादीशुदा हैं, उन्हें तो अपनी सेक्सुअल हाईजीन का ख्याल रखना बेहद ही जरूरी है। 
दरअसल, हाईजीन का मतलब है स्वस्थ रहने का तरीका। वीमेन प्राइवेट पार्ट में गदंगी की अनदेखी से आपको शारीरिक परेशानियां हो सकती हैं, यही नहीं आप किसी संक्रामक बीमारी की चपेट में भी आ सकते हैं। आइए जानते हैं प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई कैसे करनी चाहिए (how to clean private parts) और फीमेल प्राइवेट पार्ट से जुड़ी किन-किन बेसिक हाईजीन की बातों का ध्यान रखना चाहिए।

Table of Contents

    क्यों जरूरी है प्राइवेट पार्ट की हाईजीन ? - Importance of Personal Hygiene in Hindi

    चाहे पुरुष हो या महिला, हर किसी के लिए प्राइवेट पार्ट की सफाई जरूरी होता है। लेकिन फीमेल प्राइवेट पार्ट की सफाई का ख्याल (importance of personal hygiene) रखना ज्यादा ही जरूरी होता है। क्योंकि महिलाओं के योनि का द्वार बड़ा और खुला होता है, इसीलिए इंफेक्शन होने का खतरा ज्यादा रहता है। खासतौर पर पीरियड के दौरान योनि में संक्रमण (menstrual hygiene) खतरा बढ़ जाता है, इसीलिए सही सेनेटरी पैड्स इस्तेमाल करने व उन्हें टाइम-टाइम पर चेंज करने की सलाह दी जाती है। 
    प्राइवेट पार्ट की सफाई के प्रति लापरवाही के कारण अक्सर महिलाओं को वेजाइनल इंफेक्शन (vaginal infection in hindi) के कारण प्राइवेट पार्ट में जलन, खुजली की समस्या हो जाती है। महिलाओं को अपने जीवन में कभी न कभी इस दर्दनाक स्थिति का सामना करना ही पड़ जाता है। बहुत अधिक खुजली, जलन, दर्द और डिस्चार्ज वैजाइनल इन्फेक्शन के आम लक्षण हैं। वैसे तो इस समस्या का निदान आसानी से किया जा सकता है लेकिन फिर भी वैजिनल इन्फेक्शन (vaginal infection treatment) होने की वजह से महिलाओं को बहुत असहज महसूस होने लगता है और इसके कारण उन्हें अपने दैनिक कार्य करने में भी दिक्कत आती है।

    प्राइवेट पार्ट के हेयर रिमूव करते समय

    प्यूबिक हेयर यानि कि फीमेल प्राइवेट पार्ट के बाल (how to clean private parts) हमेशा साफ रखने चाहिए। क्योंकि ऐसा न करने से बैक्टीरियल इंफेक्शन या उस जगह दाने हो सकते हैं। ध्यान रखें कि आप अगर शेवर से बाल हटा रही हैं तो वो साफ होना चाहिए और अगर किसी क्रीम से तो वो पुरानी नहीं होनी चाहिए। नहीं तो आपको इंफेक्शन हो सकता है। अगर आप पार्लर से बिकनी वैक्स करा रहे हैं तो वहां की बेसिक हाईजीन जरूर चेक कर लें।

    पीरियड्स में हाईजीन का ख्याल कैसे रखें - Menstrual Hygiene Tips in Hindi

    एक्सपर्ट्स का कहना है कि पीरियड्स के दौरान (menstrual hygiene) वैजाइना यानि कि योनि की साफ-सफाई रखना बहुत जरूरी है। अगर पीरियड्स के दौरान अच्छे से देखभाल न की जाए तो इंफेक्शन के अलावा यूटेरस और यौन अंगों से जुड़ी कई गंभीर बीमारियां होने का भी खतरा रहता है। क्योंकि पीरियड्स के दौरान इंफेक्शन की आशंका कई गुना बढ़ सकती है। तो आइए जानते कि पीरियड्स में हाईजीन का ख्याल कैसे रखें -

    • पीरियड के समय (menstrual hygiene) सैनिटरी पैड, पैंटी लाइनर या टैम्पून आदि को जरूरत से ज्यादा लंबे समय तक इस्तेमाल न करें। हर 6 घंटे में इन्हें बदल लेना चाहिए। भूलकर भी पूरे दिन सिर्फ एक ही पैड में ना गुजारें। क्योंकि इससे आपको योनि में जलन, संक्रमण व खुजली की समस्या हो सकती है।
    • जब भी यूरिन करें उसके बाद योनि को पानी से वॉश कर सही तरह से क्लीन (how to clean private parts) करें। यह सभी हानिकारक जीवाणुओं को हटाने में मदद करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि आपके जननांग साफ हैं। 
    • पीरियड के दौरान इस्तेमाल होने वाले कपड़े और बेडशीट को धोना बिल्कुल भी न भूलें। यही नहीं आपको अपनी अंडवि‍यर भी बदलते रहना चाहिए जिससे आप संक्रमण और खुजली से बच सकें।
    • पीरियड्स के दौरान (menstrual hygiene) इस्तेमाल होने वाली अंडरवियर अलग रखें। इसे डिटॉल की मदद से धोएं। इन्‍हें तभी पहने जब आप पीरियड्स पर हों।
    • पीरियड्स के दिनों में शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए। इससे आपके पार्टनर में संक्रमण फैल सकता है।
    • पीरियड के दौरान गुनगुने पानी से नहाना चाहिए। इससे थकान तो दूर होती ही है साथ ही पीरियड की वजह से शरीर में आने वाली बदबू भी दूर हो जाती है। 

    सेक्शुअल हाइजीन टिप्स - Sexual Hygiene Tips in Hindi

    साफ-सफाई का महत्व हमें बचपन से ही सिखाया जाता है। लेकिन आज भी हमारे देश में सेक्शुअल हाइजीन के बारे में बात नहीं होती है। हालांकि सेक्शुअल हाइजीन भी उतनी ही जरूरी है, जितनी दूसरी तरह की साफ-सफाई। क्योंकि सेक्शुअल हाइजीन (sexual hygiene) को इग्नोर करने से कई तरह के गंभीर संक्रमण और सेक्शुअल प्रॉब्लम्स तक हो सकती हैं। इससे आपकी सेक्स लाइफ तक प्रभावित हो सकती है। यदि आपको अपनी और अपने पार्टनर की सेहत का ख्याल है, तो सेक्सुअल हाइजीन (sexual hygiene Tips) से जुड़ी इन बातों को ध्यान में जरूर रखें और लोगों को भी एजुकेट करें।

    • सेक्स से पहले अगर आपको बाथरूम जाने की जरूरत महसूस होती है तो भूलकर भी इसे रोकें नहीं। क्योंकि ऐसा करने से ब्लै़डर में मौजूद बैक्टीरिया निकल जाते है और इंफेक्शन की आशंका नहीं रहती है। 
    • अपने पार्टनर को ये बताना चाहिए कि वो सेक्स के बाद अपने  प्राइवेट पार्ट्स को धोते समय फोरस्किन को हटा कर धोएं। इससे अंदर जमे स्पर्म से इंफेक्शन का खतरा नहीं रहता है। 
    • वैजाइना के आसपास ज्यादा परफ्यूम लगाने से या सेक्स के दौरान ल्यूब्रीकेंट्स का इस्तेमाल करने की वजह से एलर्जी होने की आशंका बढ़ जाती है जिससे वैजाइनल डिस्चार्ज होने की आशंका बढ़ जाती है। 
    • लड़कियों के प्राइवेट पार्ट का pH एसिडिक होता है जबकि लड़कों का pH इसका उल्टा यानि बेसिक होता है। जिससे वैजाइना का pH बिगड़ जाता है और UTI जैसी दिक्कतें हो जाती हैं। इसीलिए सेक्स करने के बाद जितनी जल्दी हो सके, वैजाइना को पानी से अच्छी तरह से साफ कर (how to lighten vaginal area) लेना चाहिए। लेकिन अगर आप बेबी कंसीव करने का प्लान कर रहे हैं तो ऐसा मत करें।
    • फिजिकल रिलेशन बनाते समय अगर जलन हो रही है तो कुछ दिन दूरी बना कर रखें।
    • सेक्स करने से पहले और बाद में हाथों और नाखूनों को अच्छी तरह से पानी और साबुन से धो लेना चाहिए। गंदे हाथों से प्राइवेट पार्ट को छूने से इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है।
    • वैजाइना के आसपास साबुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। क्योंकि इससे वैजाइना और आसपास (how to clean private parts) के अच्छे बैक्टीरिया खत्म हो सकते हैं जोकि स्किन इंफेक्शन रोकने में मददगार होते हैं।
    • सेक्स के बाद या फिर नॉर्मल भी हमेशा अपने वीमेन प्राइवेट पार्ट (how to lighten vaginal area) को आगे से पीछे की ओर ही धोना चाहिए। पीछे से आगे की ओर नहीं। क्योंकि पानी के साथ गुदा के बैक्टीरिया वैजाइना तक पहुंच कर नुकसान पहुंचा सकते हैं।
    • अगर आपको लगता है कि प्राइवेट पार्ट में जलन या फिर अन्य किसी तरह का कोई भी इंफेक्शन है तो डॉक्टर को जरूर दिखाएं।

    प्राइवेट पार्ट का कालापन दूर करने के घरेलू नुस्खे - How to Whiten Private Parts Naturally in Hindi

    ज्यादातर महिलाएं अपने चेहरे को सुंदर बनाने के लिए एक से बढ़कर एक मंहगे ब्यूटी प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन प्राइवेट पार्ट की सफाई (importance of personal hygiene) की तरफ लापरवाही, टाइट अंडरवियर पहनने, ज्यादा पसीने आने, हेयर रिमूविंग क्रीम इस्तेमाल करने और यहां तक कि  हार्मोन संबंधी कई कारणों से भी प्राइवेट पार्ट की स्किन काली पड़ने लगती है। साथ ही इग्नोर करने से ये प्राइवेट पार्ट का कालापन और भी ज्यादा गहरा होने लगता है। कई महिलाएं इस समस्या से बचने के लिए कैमिकल बेस्ड प्रोडक्ट्स का भी इस्तेमाल करती हैं, इससे वैजाइना को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचता है। क्योंकि वैजाइन शरीर का सबसे नाजुक अंग है, इसीलिए वैक्स व अन्य कैमिकल युक्त प्रोडक्ट इस्तेमाल नहीं करने चाहिए। यहां हम आपको प्राइवेट पार्ट का कालापन दूर करने कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बता रहे हैं, जिनके इस्तेमाल से न तो कोई साइड इफेक्ट होगा और न ही आपकी वैजाइना को कोई नुकसान पहुंचेगा। तो आइए जानते हैं प्राइवेट पार्ट का कालापन दूर करने घरेलू नुस्खे (how to lighten vaginal area) - 

    नीम की पत्तियां

    नीम की पत्तियों को एक अच्छा एंटीबैक्टेरियल सोर्स माना जाता है। इसकी वजह से प्राइवेट पार्ट से आते पसीना की बदबू की समस्या भी खत्म हो जाती है और साथ उस जगह का कालापन (lighten vaginal area) भी। इसके लिए नीम की पत्तियों को पीसकर उसका पेस्ट बनाकर प्राइवेट पार्ट के कालेपन पर लगाएं और 5 से 7 मिनट पर पानी से धो लें।

    एलोवेरा

    एलोवेरा का कॉस्मेटिक्स में सबसे ज्यादा प्रयोग होता है। रोजाना एलोवेरा के गूदे को निकालकर रगड़ने से प्राइवेट पार्ट और जांघों का कालापन दूर होता है। 

    जैतून का तेल 

    जैतून का तेल (Olive Oil) झाइयों और स्किन के कालेपन से छुटकारा दिलाने में बहुत कारगर होता है। इसीलिए जैतून का तेल वैजाइना के ऊपर और आस-पास के एरिया में लगाकर रातभर के लिए छोड़ दें। इससे न सिर्फ प्राइवेट पार्ट का कालापन (lighten vaginal area) दूर होगा बल्कि वहां के स्किन की ड्राईनेस भी कम होगी।

    टमाटर 

    टमाटर से आप अपनी स्‍किन की कई ढेर सारी प्रॉबल्‍म दूर कर सकते हैं। बात अगर स्किन के जिद्दी कालेपन की हो तो ऐसे में टमाटर बेहद कारगर होता है। टमाटर की प्यूरी को प्राइवेट पार्ट के कालेपन पर लगाएं। 10 मिनट तक लगा रहने दें और फिर पानी से धो लें। इस नुस्खे को हफ्ते में 3 बार इस्तेमाल करने से स्किन का जिद्दी से जिद्दी कालापन दूर हो जाएगा।

    नारियल का तेल

    गुनगुने नारियल के तेल में 1 चम्मच शहद मिलाकर वैजाइना के ऊपर आस-पास के एरिया में 10 मिनट तक लगाकर छोड़ दें। इसके बाद गुलाब जल से इसे साफ कर लें। हफ्ते में ऐसा 3 से 4 बार करने से प्राइवेट पार्ट का कालापन (lighten vaginal area) दूर होने लगेगा।

    आलू

    आलू एक नेचुरल ब्लीच और एंटी-इरिटेंट है, जिसके कारण आपके प्राइवेट पार्ट का कालापन तो दूर होगा ही, साथ ही पसीने के कारण होने वाली खुजली और इरिटेशन भी खत्म होती है। इसके लिए आलू को दो पार्ट में काटकर 1 हिस्से से 5 मिनट तक सर्कुलर मोशन में वैजाइना पर रब करें। फिर पानी से धो लें।

    प्राइवेट पार्ट की सफाई से जुड़े सवाल-जवाब - FAQ’s

    किस कपड़े के अंडरगारमेंट्स सही होते हैं?

    प्राइवेट पार्ट को स्वस्थ रखने के लिए हमेशा कॉटन के अंडरवियर चुनें। रेशमी या सिंथेटिक कपड़े के अंडरवियर से आपको रैशेज हो सकते हैं। ध्यान रखें अंडरगारमेंट हमेशा साफ और सूखे हुए ही पहनने चाहिए। और सबसे जरूरी बात ये कि हर 3 से 6 महीने में अंडरवियर का स्टॉक बदलते रहें। क्योंकि न चाहते हुए भी आपके अंडरगारमेंट गंदे ही रह जाते हैं, जिससे नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया पनप सकते हैं और इंफेक्शन पैदा कर सकते हैं। इस बात का भी ध्यान रखें कि टाइट अंडरवियर (sexual hygiene) बिल्कुल भी न पहनें। इससे पसीना बाहर नहीं निकल पाता और नमी की वजह से गलत बैक्टीरिया बढ़ जाते हैं।

    प्राइवेट पार्ट में जलन से कैसे छुटकारा पाएं?

    प्राइवेट पार्ट में जलन की समस्या ज्यादा नम और गर्म स्थिति में होती है। अगर आपकी वैजाइनल के क्षेत्र में गर्मी बनी रहेगी तो आपको संक्रमण की समस्या हो सकती है। इसीलिए योनि में जलन के दौरान खूब पानी पीने और दही खाने की सलाह दी जाती है। अगर आप चाहती हैं कि आपको इस तरह की समस्या न हो तो ठंडे पानी से ही स्नान करें और अगर आप गर्म पानी का इस्तेमाल करती भी हैं तो उसके बाद हमेशा ढीले कपड़े ही पहनें।

    क्या यूरिन में जलन होना एक तरह का योनि संक्रमण है

    कम पानी पीने की वजह कभी कभार यूरिन में जलन महसूस होती है। लेकिन कभी-कभी यह जलन इतनी ज्यादा बढ़ जाती है कि आप तिलमिला उठते हैं। ये एक तरह का योनि संक्रमण ही होता है। इसीलिए तेज जलन महसूस होने पर डॉक्टर का परामर्श जरूर लें।

    जननांग में खुजली के घरेलू उपाय क्या है?

    अक्‍सर महिलाओं को जननांग में खुजली होने की समस्‍या (vaginal infection in hind) होती ही है। प्राइवेट पार्ट में खुजली के उपाय (vaginal infection treatment) की बात करें तो एप्पल साइडर विनेगर यानि कि सेब का सिरका काफी कारगर साबित होता है। क्योंकि इसमें एंटी बैक्टेरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं। इसके लिए 2 चम्मच विनगर को एक गिलास पानी में मिलाएं और इसे रोज़ पियें। या फिर एक चम्मच एप्‍पल साइडर वेनिगर को 1 कप गर्म पानी में मिलाएं और इससे अपने गुप्त अंगों को धोएं (how to clean private parts)।

    POPxo की सलाह :  MYGLAMM के ये शनदार बेस्ट नैचुरल सैनिटाइजिंग प्रोडक्ट की मदद से घर के बाहर और अंदर दोनों ही जगह को रखें साफ और संक्रमण से सुरक्षित!

    Beauty

    Ultimate Germ Defence 35 Sanitizing Wipes + 30 Sanitizing Towels + 4 Moisturizing Hand Sanitizers

    INR 999 AT MyGlamm