लॉकडाउन के दौरान तनाव कम करने के लिए पढ़िए ये खास टिप्स | POPxo

लॉकडाउन के दौरान तनाव कम करने के लिए पढ़िए ये खास टिप्स

लॉकडाउन के दौरान तनाव कम करने के लिए पढ़िए ये खास टिप्स

कोरोनावायरस की वजह से पूरी दुनिया थम सी गई है। स्कूल-कॉलेज से लेकर ऑफिसेस, फैक्ट्रीज़ और कई प्राइवेट हॉस्पिटल्स तक में ताला पड़ा हुआ है। भारत में भी एक महीने के अंदर पॉज़िटिव केसेस की संख्या 12 हज़ार तक पहुंच चुकी है। ऐसे में सरकार को 21 दिन के लॉकडाउन को बढ़ाकर 40 दिन का करना पड़ गया है। इस लॉकडाउन के ज़रिए कोरोनावायरस (coronavirus) के हॉटस्पॉट्स को पहचानकर उसके रोकथाम की तैयारी की जा रही है। जहां एक तरफ कोरोनावायरस के कहर को कम करने की कोशिश की जा रही है, वहीं दूसरी तरफ लगातार घर में ही रहने की वजह से लोग तनाव का शिकार हो रहे हैं।

क्यों हो रहा है स्ट्रेस

देश के ज्यादातर लोग मार्च से अपने घरों में कैद हैं, जिसकी वजह से वे एंग्ज़ायटी का शिकार हो रहे हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, वे अपने दोस्तों व अन्य करीबी लोगों से मुलाकात नहीं कर पा रहे हैं और जिम/अन्य रीक्रिएशनल सेंटर्स पर भी समय नहीं बिता रहे हैं। बात सिर्फ ये भी नहीं है, अलग-अलग क्षेत्रों में कार्यरत लोग अपने भविष्य को लेकर भी चिंतित हैं। कोई सैलरी में कटौती की समस्या को झेल रहा है तो किसी की नौकरी ही दांव पर लगी हुई है।

ऐसे में उनका परेशान होना वाज़िब है। हालांकि, इस एंग्ज़ायटी (anxiety) का फिलहाल कोई सॉल्यूशन भी नहीं है, सिवाय इसके कि आप जहां भी हैं, यह सोचकर खुश रहिए कि स्वस्थ और सलामत तो हैं।

स्ट्रेस कम करने के टिप्स

सेल्फ क्वारंटाइन के दौरान जो स्थितियां हमारे सामने उत्पन्न हो रही हैं, उनसे हमें खुद ही जूझना है। टीवी चैनल्स, न्यूज़पेपर्स और वेबसाइट्स पर कोरोनावायरस की नेगेटिव खबरों को लगातार पढ़ने से भी लोग तनाव महसूस कर रहे हैं। यह सब कुछ हमारी फि़ज़िकल हेल्थ के साथ ही मेंटल हेल्थ के लिए भी काफी नुकसानदायक साबित हो रहा है। ऐसे में डॉक्सऐप (DocsApp) की हेड ऑफ मेडिकल ऑपरेशंस, डॉ. गौरी कुलकर्णी कुछ खास टिप्स बता रही हैं, जिनकी मदद से इस स्ट्रेस (stress) को कुछ हद तक कम किया जा सकता है।

1. स्वस्थ रूटीन अपनाएं
आप घर में हैं मगर इसका यह मतलब नहीं होना चाहिए कि आप अपना पुराना रूटीन भूल जाएं। कोशिश करें कि आप सुबह टाइम पर जगें और प्री क्वॉरंटाइन वाले दिनों की तरह रात को भी टाइम पर सोएं। अच्छा खाना खाइए, घर पर ही एक्सरसाइज़ करिए और रोज़ाना नहाइए भी। अपने टाइमटेबल को ऐसा सेट करिए जो आपको सारा दिन व्यस्त रखे। इससे मन में नेगेटिव ख्याल नहीं आएंगे और आप स्ट्रेस से बच जाएंगे।

2. माइंड-बॉडी कनेक्शन
अपने दिमाग को पॉज़िटिव बातों की तरफ फोकस करें। सोशल मीडिया पर चलने वाली एंटी सोशल लड़ाइयों से दूर रहें और नॉर्मल लाइफ में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करें। चूंकि इस समय आप जिम या पार्क मे एक्सरसाइज़ करने के लिए नहीं जा सकते हैं इसलिए घर पर ही रहकर योग, डांस, एरोबिक्स आदि करने की कोशिश करें। घर पर भी वही एक्सरसाइज़ करिए, जिसमें आपका मन लगे।

3. न्यूज़ से सम्मानजनक दूरी
माना कि इस समय देश की आधी से ज्यादा जनता बार-बार अपना फोन रिफ्रेश करके कोरोनावायरस अपडेट्स को चेक करने में व्यस्त है पर अगर आप तनाव से बचना चाहते हैं तो अपनी यह हैबिट भी बदलनी होगी। बाहर की दुनिया में इस समय जितनी भी हलचल बनी हुई है, उसे अपने घर तक मत आने दीजिए। बेहतर होगा कि ऐसे लोगों से बातें की जाएं जिनकी सोच सकारात्मक हो।

4. खुद को पैम्पर करें
दिन-रात ऑफिस में व्यस्त रहने वाले लोग अक्सर शिकायत करते हैं कि उन्हें खुद के लिए समय नहीं मिल पाता है। वे अपने दोस्तों तक से बातें करने के लिए फ़ुरसत के लमहे तलाशते रह जाते थे। क्वारंटाइन के इस समय को अपने लिए वरदान समझिए और सेल्फ केयर की एक्टिविटीज़ में व्यस्त रहिए। यह समय दोबारा नहीं मिलने वाला है, बस यही सोचकर अपनी इस मी टाइम को भरपूर एंजॉय करिए।

5. खुद को माफ करिए
आमतौर पर स्ट्रेस या डिप्रेशन के हालात में ज्यादातर लोग कुछ नया करने की जुगाड़ करने लगते हैं। वे खुद को काम में व्यस्त रखने की कोशिश में लग जाते हैं। कोरोनावायरस लॉकडाउन में आप ज्यादा कुछ नया नहीं कर सकते हैं और इसलिए आप जहां हैं, जिस हालत में हैं, बस वहीं खुश रहने की कोशिश करिए। खुद को किसी भी बात के लिए गिल्टी मत मानिए। आखिर खुद को माफ करना भी बहुत ज़रूरी है।

हमेशा याद रखिए, हालात हमेशा एक जैसे नहीं रहते हैं। दुख के यही पल बहुत जल्द फिर से सुख वाले हो जाएंगे। अगर आप ज्यादा परेशान हैं तो किसी दोस्त, फैमिली मेंबर या काउंसलर की मदद लेने से हिचकिचाइएगा मत। डर को कम करने के लिए आपका खुश रहना और दूसरों को मोटिवेट रखना बहुत ज़रूरी है।
इनपुट्स - डॉक्सऐप (DocsApp) की हेड ऑफ मेडिकल ऑपरेशंस, डॉ. गौरी कुलकर्णी