‘पंचायत’ या ‘फोर मोर शॉट्स प्लीज़’... पसंद के हिसाब से देख लीजिए कोई भी वेबसीरीज़

‘पंचायत’ या ‘फोर मोर शॉट्स प्लीज़’... पसंद के हिसाब से देख लीजिए कोई भी वेबसीरीज़

देश भर में बढ़ रहे कोरोनावायरस के खतरे की वजह से तमाम इंडस्ट्रीज़ समेत एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री पर भी लॉकडाउन का साया मंडरा रहा है। ऐसे में न तो नई फिल्में रिलीज़ हो रही हैं और न ही टीवी सीरियल्स का कोई नया एपिसोड टेलीकास्ट किया जा रहा है। अगर टीवी पर रिपीट हो रहे सीरियल्स या पुरानी फिल्मों को देखकर बोर हो चुके हों तो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म एमेज़ॉन प्राइम ने लॉकडाउन के दौरान दो नई वेबसीरीज़ रिलीज़ की हैं, जिन्हें देखकर आप अपनी बोरियत को कुछ कम कर सकते हैं।

क्यों देखें वेबसीरीज़?

लॉकडाउन के दौरान टीवी या थिएटर्स में कुछ भी फ्रेश कॉन्टेंट रिलीज़ करने की अनुमति नहीं है। हर तरह की शूटिंग को रोक दिया गया है और टीवी पर भी पुराने प्रचलित धारावाहिकों के एपिसोड्स को दोबारा टेलीकास्ट किया जा रहा है। ऑडियंस में ऐसे बहुत से लोग होंगे, जिन्हें ये रिपीट टेलीकास्ट्स देखने में बिल्कुल भी मज़ा नहीं आ रहा होगा, ऐसे में वे एमेज़ॉन प्राइम पर ‘पंचायत’ (Panchayat) और ‘फोर मोर शॉट्स प्लीज़’ (Four More Shots Please) जैसी वेबसीरीज़ (webseries) देख सकते हैं।

 ये हाल ही में रिलीज़ हुई हैं और अपनी कास्ट और स्टोरी लाइन के चलते काफी लोकप्रिय भी हो रही हैं। ये दोनों ही वेबसीरीज़ बिल्कुल अलग ज़ोनर की हैं और आपके मूड एंड टाइप की भी। पढ़िए इन दोनों वेबसीरीज़ का रिव्यू।

फोर मोर शॉट्स प्लीज़

कास्ट - वेबसीरीज़ ‘फोर मोर शॉट्स प्लीज़’ (Four More Shots Please) सीज़न 2 4 मॉडर्न फ्रेंड्स की कहानी है। दामिनी रिज़वी रॉय (सयानी गुप्ता) एक जर्नलिस्ट है, जो सच को सामने लाने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है, उमंग सिंह (बानी जे) एक फिटनेस ट्रेनर है, जो अपने परिवार से अलग रह रही है, अंजना मेनन (कीर्ति कुल्हारी) एक सीनियर लॉयर होने के साथ ही सिंगल मॉम भी है और इस गैंग की सबसे कम उम्र वाली सदस्य सिद्धि पटेल (मानवी गागरू) अपनी आइडेंटिटी को तलाशने की कोशिश में है।

इनके अलावा लीज़ा रे, मिलिंद सोमण, नील भूपलम, प्रतीक बब्बर, अंकुर राठी, पारस तोमर, सिमोन सिंह, अमृता पुरी, सपना पब्बी, राजीव सिद्धार्थ, समीर कोचर, प्रबल पंजाबी, शिबानी दांडेकर, पदमा दामोदरन, मोनिका डोगरा, मोहित चौहान, निमिषा मेहता और गौरव शर्मा भी अहम किरदारों में हैं।

स्टोरी - ये चारों एक बार में मिलती हैं, जहां का बारटेंडर हैंडसम जेह वाडिया (प्रतीक बब्बर) है। फर्स्ट सीज़न में काफी ट्रैजिक एंड पर खत्म हुई यह स्टोरी सीज़न 2 में सही रफ्तार पकड़ती है। ये चारों फ्रेंड्स अपनी आइडेंटिटी तलाशने और बनाने के साथ ही किस तरह हर परिस्थिति में एक-दूसरे का साथ निभाती हैं, यह देखने लायक है। हमेशा एक-दूसरे को मोटिवेट करना और एक-दूसरे के लिए दुनिया से भिड़ जाने वाला ज़ज़्बा देखकर आपको लॉकडाउन में अपनी गर्ल्स गैंग की याद दिला देगा।

इसके साथ ही रिलेशनशिप में उलझना भी इनकी ज़िंदगी में काफी कॉमन ऐस्पेक्ट है। अगर आपका भी कोई गर्ल्स गैंग है तो आप इस वेबसीरीज़ (webseries) को बहुत एंजॉय करेंगी। 

कीप इन माइंड - यह एक बेहद मॉडर्न सीरीज़ है। इसमें ड्रिंक्स, ट्रिप्स, लिव इन रिलेशनशिप्स, अनवेड प्रेगनेंसी से लेकर ओपन मैरिज सिस्टम तक सब कुछ है।

पंचायत

कास्ट - वेबसीरीज़ ‘पंचायत’ (Panchayat) ग्रामीण पृष्ठभूमि पर रची-बसी एक शॉर्ट एंड सिंपल कहानी है। इसकी कास्ट से लेकर कहानी और कॉमेडी पंचेस तक, सब कुछ बहुत लाजवाब है। अभिषेक त्रिपाठी (जितेंद्र कुमार) एक नवयुवक है, जिसने कॉलेज की पढ़ाई के साथ ग्राम पंचायत के सचिव का फॉर्म भी भर दिया था। कॉलेज से अच्छा प्लेसमेंट न मिलने पर वह गांव आ जाता है। बृज भूषण दुबे (रघुवीर यादव) प्रधान पति हैं, जो अपनी पत्नी मंजू देवी (नीना गुप्ता) की जगह पर फुलेरा गांव की प्रधानी संभालते हैं। उनका साथ देते हैं उप प्रधान प्रह्लाद पांडे (फैसल मलिक) और ग्राम सहायक विकास (चंदन रॉय)।

इनके अलावा प्रतीक (बिस्वपति सरकार), मंगल (सुबेंधु चक्रवर्ती), बिंदेश्वर (सुशील टंडन), रिंकी (पूजा सिंह), परमेश्वर (श्रीकांत वर्मा), वीरेंद्र गुप्ता (राजेश जैस), गणेश (आसिफ खान) आदि भी अहम भूमिकाओं में हैं।

स्टोरी - शहरी जीवन जीने का आदी अभिषेक जब ग्राम पंचायत का सचिव बनकर फुलेरा गांव पहुंचता है तो उसे वहां कुछ भी अच्छा नहीं लगता है। ग्राम प्रधान पति, उप प्रधान और ग्राम सहायक उसे अपनापन महसूस करवाने की काफी कोशिशें करते हैं, मगर उसे वहां रचने-बसने में काफी दिक्कतें आती हैं। 8 एपिसोड्स की पंचायत के हर एपिसोड में एक नई कहानी है, जो उसी एपिसोड में खत्म हो जाती है। दूल्हे गणेश के तौर पर आसिफ खान ने गजब का काम किया है। अपने छोटे से रोल में वे बिल्कुल छा गए हैं।

टीवीएफ की सीरीज़ की तरह बिस्वपति सरकार ने पंचायत (Panchayat) में भी अपना जादू बिखेरा है।

नीना गुप्ता ने हर बार की तरह इस बार भी काबिलेतारीफ अभिनय किया है और अंत तक प्रधान के अपने दायित्वों को समझा भी है। रघुवीर यादव का किरदार काफी बेहतरीन रचा गया है।

जीतू भइया का एंग्री यंग मैन वाला लुक काफी कमाल का है और सही सीख देने वाला भी।

कीप इन माइंड - यह वेबसीरीज़ (webseries) ग्रामीण पृष्ठभूमि पर रची गई है मगर फिर भी इससे कनेक्ट कर पाना मुश्किल नहीं है। लास्ट एपिसोड में छिपा सरप्राइज़ एलीमेंट लास्ट मोमेंट तक आपके चेहरे पर मुस्कुराहट को बरकरार रखेगा।