जानिए कॉन्टूरिंग से जुड़ी हर ज़रूरी बात - Contour Kya Hota Hai

Contour Kya Hota Hai

क्या आपने कभी नोटिस किया है कि एक्ट्रेसेस का फोरहेड, नाक और गाल इतने डिफाइंड कैसे नज़र आते हैं? उनके चेहरे का हर फीचर इतना शार्प क्यों दिखता है? जब भी वे रेड कार्पेट पर आती हैं तो हर बार उनका लुक पहले से भी बेहतर कैसे होता है? कभी आपने सोचा है कि आखिर ऐसी कौन-सी मेकअप आर्ट है, जिससे वे हर बार इतनी खूबसूरत लगती हैं! आज आपके दिमाग में मौजूद इन्हीं सवालों के जवाब देने के लिए हम यहां खुलासा कर रहे हैं इस खास मेकअप आर्ट का, जिसे कहते हैं कॉन्टूरिंग। जी हां, कॉन्टूरिंग की वजह से ही इन एक्ट्रेसेस का चेहरा हर बार और सुंदर लगता है। बता दें, यह मेकअप आर्ट नई नहीं है लेकिन कुछ सालों से इसके वीडियोज़ हमें सोशल मीडिया पर ज्यादा दिखाई दे रहे हैं। चलिए बताते हैं कॉन्टूरिंग के बारे में सब कुछ।

Table of Contents

    कॉन्टूरिंग क्या है? - What is Contouring in Hindi?

    कॉन्टूरिंग एक मेकअप स्ट्रैटजी है, जिसमें आपके नैचुरल स्किन टोन पर एक शेड डार्क मेकअप लगाकर ऐसा इल्यूजन क्रिएट किया जाता है, जिससे आपके चेहरे के फीचर शार्प नज़र आने लगें। चेहरे के फीचर्स को शार्प दिखाने के लिए हाईलाइटर का यूज़ भी किया जाता है। इस मेकअप टेक्नीक से आप अपने मनचाहे तरीके से चेहरे के फीचर्स को सुंदर दिखा सकती हैं। अगर आप चाहें तो इस मेकअप आर्ट से अपने गालों, नाक और जॉलाइन को पतला (शार्प) दिखाकर चेहरे की खूबसूरती और बढ़ा सकती हैं।

    कॉन्टूरिंग के लिए जरूरी ब्रश - Contouring Brush

    कॉन्टूरिंग के लिए आपको चार ब्रशेज़ की खासतौर पर जरुरत पड़ेगी। इन्हीं चारों ब्रशेज़ से आप अपने चेहरे को बेहतर तरीके से कॉन्टूर और हाईलाइट कर सकती हैं।

    बड़े एंगल वाला कॉन्टूर ब्रश

    सबसे पहले आपको एक बड़े एंगल वाले कॉन्टूर ब्रश (contouring brush) की जरूरत पड़ेगी। इससे आप अपने चीकबोन्स, टेंपल और जॉलाइन को कॉन्टूर कर पाएंगी।  

    छोटे एंगल वाला कॉन्टूर ब्रश

    बड़े कॉन्टूर ब्रश (contouring brush) के बाद आपको एक छोटे एंगल वाले ब्रश की जरूरत पड़ेगी, जिससे आप अपने ब्रो बोन, जॉलाइन और फोरहेड को अच्छी तरह से कॉन्टूर कर सकेंगी।

    ब्लेंडिंग ब्रश

    कॉन्टूर करने के बाद आपको इसे ब्लेंड करने के लिए एक ब्लेंडिंग ब्रश की जरूरत पड़ेगी। आप चाहें तो ब्लेंड करने के लिए ब्लेंडिंग फोम ब्रश का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। इसकी मदद से भी मेकअप बेहतर तरीके से हो जाता है।

    हाईइलाइटर ब्रश

    आखिरी में आपको सिर्फ एक हाईइलाइटर ब्रश की जरूरत पड़ेगी। इस ब्रश से आप चीकबोन्स, नोज़ और टेंपल एरिया को अच्छे तरीके से हाईलाइट कर सकती हैं।

    चेहरे पर कैसे और कहां करें काॅन्टूरिंग- How to Contour Your Face

    फेस शेप के मुताबिक कॉन्टूरिंग को समझने और उसके ब्रश के बारे में जानने के बाद अब बारी है कि अपने गाल, फोरहेड, नोज़ और ब्रो बोन को कॉन्टूर कैसे किया जाए। हम आपको बताते हैं कि इन्हें कैसे करें कॉन्टूर।

    गालों की कॉन्टूरिंग

    गालों की कॉन्टूरिंग (Cheek Contouring) करने का सबसे आसान नियम है कि फोटो में दिखाए गए तरीके से गालों को डिवाइड कर उन्हें कॉन्टूर करना शुरू करें। इसके लिए आपको होंठों से लेकर कानों तक एक लाइन क्रिएट करनी होगी और इसी लाइन से कॉन्टूरिंग करना शुरू करें। कॉन्टूर करने के बाद हाईलाइटर का इस्तेमाल करें, आप चाहें तो हाईलाइटर से पहले ब्लश का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। यह हाईलाइटर कॉन्टूर लाइन से ऊपर ब्लश एरिया पर लगेगा।

    फोरहेड की कॉन्टूरिंग

    फोरहेड को कॉन्टूर (Forehead Contouring) करने के दो नियम हैं। पहला, अगर आपको अपना फोरहेड छोटा दिखाना है तो बालों की तरह एक राउंड लेयर में कॉन्टूर करें। हालांकि अगर आपका फोरहेड पहले से ही छोटा है और आपको उसे बड़ा दिखाना है तो टी ज़ोन एरिया पर सिर्फ हाईलाइटर लगाएं और कॉन्टूर को अवॉइड करें। फोरहेड को पतला (narrow) दिखाने के लिए आपको ब्रो बोन के ऊपर भी कॉन्टूर करना होगा।

    नाक की कॉन्टूरिंग

    कॉन्टूरिंग मेकअप आर्ट में सबसे ज्यादा पॉपुलर नोज़ (नाक) कॉन्टूरिंग ही है। चेहरे के नाक वाले हिस्से से पूरे चेहरे के फीचर्स अच्छी तरह से हाईलाइट हो जाते हैं। नोज़ कॉन्टूरिंग (Nose Contouring) के लिए सबसे पहले तो कॉन्टूर पाउडर से नोज़ पर और आंखों से लेकर नोज़ पॉइंट तक लाइन ड्रॉ करें (आपको अपनी नाक को जितना पतला दिखाना हो, उसी के हिसाब से लाइन ड्रॉ करें)। जैसा कि आप फोटो में भी देख सकती हैं, लाइन ड्रॉ करने के बाद उसे अच्छी तरह से ब्लेंडिंग ब्रश की सहायता से ब्लेंड करें। इसके बाद हाईलाइटर का इस्तेमाल करें।

    ब्रो बोन की कॉन्टूरिंग

    ब्रो बोन को कॉन्टूर करने के लिए उसे हाईलाइट करना ज़रूरी है। इंडियन स्किन टोन में ब्रो बोन वाला एरिया बाकी चेहरे के मुकाबले गहरा होता है। इसलिए ब्रो बोन को हाईलाइटर से हाईलाइट करें और फिर उसके ऊपरी हिस्से को कॉन्टूर करें। आपका हाईलाइटर स्किन टोन से दो पॉइंट लाइट होना चाहिए।

    कॉन्टूरिंग करने से पहले के टिप्स - Contouring Tips For Beginners

    कॉन्टूर करना कोई रॉकेट साइंस नहीं है, मेकअप पसंद करने वाली हर लड़की आसानी से कॉन्टूरिंग सीख सकती है। कॉन्टूरिंग का प्रोसेस शुरू करने से पहले ये टिप्स ज़रूर पढ़ लें।
    1. कॉन्टूरिंग करने के लिए आपको बहुत सारी कॉन्टूरिंग किट्स की जरूरत नहीं है, बेसिक शुरुआत अपने आईशैडो पैलेट से ही करें। कॉन्टूरिंग की सही समझ हो जाने के बाद ही इससे जुड़े प्रोडक्ट्स में इन्वेस्ट करें।
    2. कॉन्टूरिंग के लिए हमेशा मैट किट (क्रीम या पाउडर) का इस्तेमाल करें। कॉन्टूरिंग किट मैट ही आएगी लेकिन अगर आप उससे पहले किसी शैडो पैलेट से कॉन्टूरिंग करना चाहती हैं तो देख लें कि वह शिमरी न हो। इससे आपको नैचुरल ग्लो वाला लुक मिलेगा।
    3. ज़रूरी नहीं है कि कॉन्टूरिंग के लिए कॉन्टूरिंग स्टिक और पैलेट एक साथ खरीदा जाए। पहले आप उन दोनों में से किसी एक का ही इस्तेमाल करें।
    4. कॉन्टूरिंग के लिए डार्क स्टिक को हमेशा ऊपर की तरफ ब्लेंड करें। चीकबोन्स को कॉन्टूर करते वक्त लड़कियां अक्सर यह गलती कर जाती हैं।
    5. बेस्ट कॉन्टूरिंग के लिए हाईलाइटेड एरिया पर सबसे पहले हाईलाइटर लगाकर ब्लेंड करें। उसके बाद कॉन्टूर स्टिक का इस्तेमाल करें। इससे चेहरा डार्क नहीं लगेगा और फीचर्स भी काफी शार्प नज़र आएंगे।
    6. कई बार लड़कियां अपनी जॉ लाइन पर कॉन्टूरिंग करना भूल जाती हैं। फोरहेड, ब्रो बोन, चीक बोन्स और नोज़ के साथ-साथ जॉ लाइन को भी ज़रूर कॉन्टूर करें। तभी चेहरे के सारे फीचर्स शार्प नज़र आएंगे।
    7. कई लड़कियां क्रीम कॉन्टूर करने के बाद चेहरे पर ब्रॉन्ज़र लगाती हैं। हालांकि ऐसा करने पर आप महसूस करेंगी कि आपके चीकबोन्स पर जगह-जगह डार्क पैचेस बन गए हैं। इससे बचने के लिए क्रीम कॉन्टूर की जगह पाउडर कॉन्टूर का इस्तेमाल करें।
    8. कई बार सही कॉन्टूरिंग के बावजूद चेहरा डार्क लगता है तो इसे ठीक करने के लिए हाईलाइट करने वाले एरिया पर ट्रांसल्यूसेंट पाउडर लगाएं। इससे चेहरा डार्क नहीं लगेगा।
    9. अगर आपको कॉन्टूरिंग करने के बाद चेहरे के चार मुख्य फीचर्स, फोरहेड, टेंपल, चीक बोन्स और नोज़ पर मनचाहा लुक न मिले तो उसे हाईलाइटर और ब्रॉन्ज़र से करेक्ट कर सकती हैं। लेकिन याद रहे कि इसका इस्तेमाल बहुत ही कम करें क्योंकि हाईलाइटर और ब्रॉन्ज़र, दोनों ही शिमरी लुक देते हैं। इसका ज्यादा इस्तेमाल स्किन से नैचुरल ग्लो खत्म कर सकता है।
    10. हाईलाइटर का इस्तेमाल करते वक्त कई लड़कियां इसे सर्कुलर मोशन में चेहरे पर लगाती हैं, जो कि गलत है। आप हाईलाइटर को गालों से कानों की तरफ ले जाते हुए लगाएं। इससे चेहरा अच्छी तरह से हाईलाइट होगा।  

    कॉन्टूरिंग के लिए प्रोडक्ट्स - Products For Contouring

    जैसे मेकअप करना एक कला है, वैसे ही मेकअप किट खरीदना भी किसी कला से कम नहीं है। मेकअप किट्स हमेशा अपने स्किन टोन, बजट और ज़रूरत के हिसाब से ही खरीदने चाहिए। कॉन्टूरिंग करने के लिए आपको एक अच्छी कॉन्टूरिंग किट की जरूरत पड़ेगी। बेस्ट कॉन्टूरिंग किट को खरीदने की आपकी मुश्किल को आसान करने के लिए हमने कॉन्टूरिंग किट्स के बेस्ट ब्रैंड्स की लिस्ट बनाई है।
    1. वेट एन वाइल्ड मेगाग्लो कॉन्टूरिंग पैलेट, कीमत - 499 रुपये
    2. मेकअप रिवॉल्यूशन अल्ट्रा स्कल्प्ट एंड कॉन्टूर किट, कीमत - 850 रुपये
    3. के ब्यूटी कॉन्टूर स्टिक - कैरेमल फोकस, कीमत - 599 रुपये
    4. कलरबार फ्लॉलेस टच कॉन्टूर एंड हाईलाइटर - न्यूट्रल, कीमत - 680 रुपये
    5. एल.ए. गर्ल प्रो कॉन्टूर पाउडर, कीमत - 675 रुपये
    6. स्मैशबॉक्स द कैली कॉन्टूर पैलेट, कीमत - 3750 रुपये
    7. मिस क्लेयर अल्ट्रा ग्लो कॉन्टूर एंड हाईलाइटर मेकअप पैलेट, कीमत - 525 रुपये
    8. मेकअप रिवॉल्यूशन एचडी प्रो क्रीम कॉन्टूर, कीमत - 1850 रुपये
    9. मिलानी कलर हार्मनी ब्लश पैलेट, कीमत - 1508 रुपये
    10. फोकैल्योर कलर मिक्स हाईलाइटर पाउडर, कीमत - 637 रुपये

    कॉन्टूरिंग से जुड़े कुछ सवाल-जवाब FAQ's

    सवाल - अपने चेहरे के किस हिस्से को कॉन्टूर करना है और किसको हाईलाइट?
    जवाब - कॉन्टूरिंग का सिर्फ एक ही मकसद है, आपके चेहरे के हर फीचर को शार्प दिखाना। इसलिए आपको अपने गालों, नाक, जॉ लाइन और फोरहेड को कॉन्टूर करना होगा तो वहीं, अपने टी ज़ोन, अंडर आई एरिया और होंठों के नीचे वाले एरिया को हाईलाइट करना होगा। यहां दी गई फोटो देखकर आप कॉन्टूर और हाईलाइट एरिया को समझ जाएंगी।

    सवाल - कॉन्टूर करते वक्त मेरा चेहरा डार्क लगने लगता है। इसकी क्या वजह है?
    जवाब - इसकी दो वजहें हो सकती हैं। पहली कि आप हाईलाइटर का सही से इस्तेमाल नहीं करती होंगी और दूसरा, कॉन्टूर स्टिक को आप ऊपर-नीचे ब्लेंड करती होंगी। कॉन्टूरिंग का मतलब है चेहरे के फीचर्स को शार्प दिखाना, अगर आप उसी कॉन्टूर स्टिक को पूरे चेहरे पर ब्लेंड कर देंगी तो आपका पूरा चेहरा डार्क ही लगेगा। इसलिए याद रखें कि जहां कॉन्टूर किया है, उसे वहीं ब्लेंड करें और हाईलाइटर का इस्तेमाल पहले करें। हाईलाइटर का इस्तेमाल पहले करके आपको आइडिया हो जाएगा कि अब आपको चेहरा कितना कॉन्टूर करना है।
    सवाल - चीक बोन्स पर कॉन्टूरिंग हमेशा गलत होती है। इसे कैसे ठीक करूं?
    जवाब - इस गलती से बचने के लिए कॉन्टूर करते वक्त आप पाउट बनाएं। पाउट बनाते वक्त चीक्स का जो एरिया अंदर जाता है वहां हाइलाइटर लगाएं और जो एरिया ऊपर आता है, उस पर कॉन्टूरिंग करें। ऐसा करके आपको चीक बोन्स का सही डाइमेंशन पता चल जाएगा।
    सवाल - पाउडर और क्रीम कॉन्टूर में से कौन-सा कॉन्टूर बेहतर है?
    जवाब - अगर आपका चेहरा ऑयली है तो पाउडर कॉन्टूर का इस्तेमाल करें और अगर चेहरा ड्राई है तो क्रीम कॉन्टूर का इस्तेमाल करें। अगर आपके चेहरे का टी ज़ोन ऑयली और साइड्स ड्राई हैं तो आप इन दोनों का इस्तेमाल कर सकती हैं।
    सवाल - क्रीम कॉन्टूर के बाद ब्रॉन्ज़र का इस्तेमाल कैसे करें?
    जवाब - क्रीम कॉन्टूर के बाद ब्रॉन्ज़र लगाने से आपकी स्किन डार्क नज़र आती है और जगह-जगह पैचेस भी दिखते हैं। इसलिए क्रीम कॉन्टूर के बाद ब्रॉन्ज़र को अवॉइड करें। कॉन्टूरिंग को सेट करने के लिए ब्रॉन्ज़र के बजाय ट्रांसल्यूसेंट पाउडर का इस्तेमाल करें। इससे आपके चेहरे पर डार्क पैच नहीं पड़ेंगे।
    सवाल - स्किन के ऑयली होने पर चेहरे को हाईलाइट करने का बेस्ट तरीका क्या है?
    जवाब - आप पाउडर पैलेट से चेहरे को कॉन्टूर करें। फिर चेहरे को सेट और हाईलाइट करने के लिए ट्रांसल्यूसेंट पाउडर का इस्तेमाल करें। इससे चेहरे का ऑयल आपके मेकअप को खराब नहीं करेगा।
    सवाल - क्या ब्लेंडिंग ब्रश से भी कॉन्टूरिंग की जा सकती है?
    जवाब - अगर ब्रश सही नहीं होगा तो आपको अपने हाईलाइटेड पार्ट्स को डिफाइन करने में दिक्कत आएगी। इसी के साथ गलत ब्रश से कॉन्टूर को करेक्ट करने के चक्कर में मेकअप की एक्स्ट्रा लेयर चेहरे को हेवी दिखाएगी। इसलिए हमेशा सही ब्रश का इस्तेमाल करें।
    सवाल - क्या ब्रॉन्ज़र और कॉन्टूरिंग पाउडर एक ही हैं?
    जवाब - ये दोनों अलग-अलग प्रोडक्ट्स हैं। ब्रॉन्ज़र पाउडर से आप चेहरे का हाईलाइट कर सकती हैं और कॉन्टूरिंग पाउडर से चेहरे के फीचर्स को डिफाइन किया जाता है। ब्रॉन्ज़र का इस्तेमाल करने से आर्टिफिशियल सन टैन लुक मिलता है या कह सकते हैं कि ब्रॉन्ज़र से शिमरी ग्लो मिलता है। इसलिए ब्रॉन्ज़र और कॉन्टूरिंग पाउडर में कंफ्यूज़ न हों।
    सवाल - हाईलाइटर चुनते वक्त किन बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए?
    जवाब - कई लड़कियां हाईलाइटर का मतलब व्हाइट पाउडर समझ लेती हैं, जो कि पूरी तरह से गलत है। सही हाईलाइटर चुनते वक्त आप सिर्फ इस बात का ध्यान रखें कि आपको कितना नैचुरल लुक चाहिए। उसी हिसाब से अपने स्किन टोन से एक या दो शेड फेयर हाईलाइटर चुनें।

    आपके लिए खुशखबरी! नए साल के आने की खुशी में POPxo भी अपने चाहने वालों के लिए लाया है #POPxoLucky2020 की सौगात। POPxo Zodiac कलेक्शन से आप अपनी राशि के अनुसार खरीद सकते हैं कॉफी/चाय मैजिक मग, नोटबुक्स, मोबाइल कवर्स और भी बहुत कुछ ... और वो भी 20% की आकर्षक छूट के साथ। तो फिर देर किस बात की, popxo.com/shop/zodiac-collection पर जाकर शुरू कीजिए शॉपिंग!