Flashback 2019: जानिए इस साल की 20 सबसे बड़ी वो घटनाएं, जो बन गईं सुर्खियां

Flashback 2019: जानिए इस साल की 20 सबसे बड़ी वो घटनाएं, जो बन गईं सुर्खियां

साल 2019 की शुरूआत हमारे देश के लिए काफी दशहत भरी रही। लेकिन हमारी भारतीय सेना ने जैसा को तैसा सबक सिखाया और कई आतंकी कैंप ढेर कर दिये। तो वहीं सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो ने एक शख्स को फर्श से अर्श तक पहु्ंचा दिया। साल के जाते-जाते देश ने कई दिग्गज शख्सियतों को खो दिया। साल 2019 अपने साथ ऐसे कई महत्वपूर्ण घटनाक्रम भी लेकर आया जिसे हम भारतीयों के लिए याद रखना बेहद जरूरी है।  

साल 2019 के 20 बड़ी घटनाएं flashback 2019 Top 20 Big News In Hindi

साल 2019 भारत के लिए ऐतिहासिक घटनाओं का साल रहा। इनमें से कुछ घटनाओं ने अपनी यादगार छाप छोड़ी तो कुछ ने लोगों के जहन को झकझोर कर रख दिया। ये साल पूरी दुनिया में अपने खट्टे-मीठे अनुभवों से समाचार देश-दुनिया में छाया रहा। तो आइए जानते हैं कि कौन-सी हैं वो साल 2019 की 20 सबसे बड़ी घटनाएं -

पुलवामा पर आतंकी हमला

14 फरवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने भारतीय सेना की एक बस को निशाना बनाकर उसे उड़ा दिया था जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इस घटना के बाद पूरे देश में उबाल आ गया। घटना की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। 

बालाकोट में एयर स्ट्राइक

26 फरवरी 2019 को, भारतीय वायु सेना के बारह मिराज 2000 जेट्स ने नियंत्रण रेखा पार की और पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद संचालित आतंकवादी शिविर पर हमला किया। इस दौरान 200 से भी ज्यादा आतंकी मारे गये। इस एयर स्ट्राइक के जरिए भारत ने पुलवामा में मारे गये भारतीय जवानों की शहादत का बदला लिया।

अभिनंदन की भारत वापसी

27 फरवरी की सुबह पाकिस्तान के लड़ाकू विमान को सीमा से खदेड़ते समय भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन का मिग- 21 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था और एलओसी क्रॉस करके पीओके (पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर) में गिर गया था, जहां उन्हें पाकिस्तान सेना ने हिरासत में ले लिया था। इसके बाद भारत की तरफ से लगातार पड़ रहे दबाव के चलते तीन दिन तक पाकिस्तान की हिरासत में रहने के बाद 1 मार्च को अभिनंदन को अटारी बॉर्डर के रास्ते सकुशल अपने देश भारत भेजा गया। 

 

अंबानी के बेटे की शादी

देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी और नीता अंबानी के बड़े बेटे आकाश अंबानी और श्लोका मेहता संग 9 मार्च को शादी के बंधन में बंधे। मुंबई में राजसी ठाठ- बाट और गुजराती रीति- रिवाज़ों के साथ दोनों ने सात फेरे लिए। इस शादी में बॉलीवुड सितारों समेत ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर सहित कई विदेशी राजनेता और दुनियाभर के जानेमाने सितारे शामिल हुए।

मनोहर पार्रिकर ने कहा दुनिया को अलविदा

पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का लंबी बीमारी के बाद 17 मार्च को देहांत हो गया। बीजेपी के वरिष्ठ नेता मनोहर पर्रिकर लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उन्होंने 63 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया। मनोहर पर्रिकर अपनी सादगी के लिए जाने जाते थे। मोदी सरकार में मनोहर पर्रिकर 2014 से 2017 तक देश के रक्षा मंत्री रहे। इसी दौरान सर्जिकल स्ट्राइक को भी अंजाम दिया गया था।

दूसरी बार पीएम बने मोदी

साल 2019 में एक बार फिर नरेंद्र मोदी का जादू लोगों के सिर चढ़कर बोला। बीजेपी ने भारी बहुमत हासिल कर कांग्रेस को धूल चटा दी और ऐतिहासिक जीत दर्ज की। 30 मई को मोदी ने दूसरी बार भारत के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। 

गोल्डन गर्ल ने बनाया रिकॉर्ड

भारत की युवा एथलीट हिमा दास, साल 2019 जुलाई के महीने में यूरोप में हुई अंडर-20 वर्ल्ड चैंपियनशिप में 5 गोल्ड जीत सुर्खियों में छाईं रहीं। हिमा ने 2 जुलाई को पोलैंड में, सात जुलाई को पोलैंड में ही कुंटो एथलेटिक्स मीट में, 13 जुलाई को क्लाइनो (चेक गणराज्य में), 17 जुलाई को चेक रिपब्लिक में टाबोर ग्रां प्री में और 21 जुलाई को चेकगणराज्य में ही नोवे मेस्टो नाड मेटुजी ग्रां प्री में गोल्ड जीत विश्व में भारत का परचम लहराया।

दुनिया को अलविदा कह गईं शीला दीक्षित

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 20 जुलाई  को 81 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। वो लंबे समय से बीमार थीं और उनका एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था। बता दें कि वो दिल्ली की लगातार 15 साल तक मुख्यमंत्री बनकर रिकॉर्ड बनाने वाली पहली कांग्रेस नेता थीं।

 

इसरो मिशन 2019

चंद्रयान 2 से लेकर PSLV तक इसरो ने अंतरिक्ष की दुनिया में भारत का नाम रौशन किया। 22 जुलाई 2019 का दिन भारत के लिए सबसे बड़ा दिन था जब भारत में चांद पर पहुंच बनाने की पहल कदम आगे बढ़ाया। चंद्रयान-2 की सफलता पर भारत ही नहीं, पूरी दुनिया की निगाहें टिकी थीं। ये एक भारतीय चंद्र मिशन है जो पूरी हिम्‍मत से चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरेगा जहां अभी तक कोई देश नहीं पहुंचा है। 

रानू मंडल का वायरल वीडियो

इस साल की सोशल मीडिया सेंसेशन बनीं रानू मंडल को कौन नहीं जानता। बंगाल के बारपेटा टाउन के रानाघाट स्टेशन पर गाना गाकर अपनी रोज़ी-रोटी कमाती थीं। एक युवक ने उनकी इस प्रतिभा से प्रभावित होकर उनका वीडियो रिकॉर्ड किया, जोकि सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो गया। फिर क्या था,  वे देखते ही देखते इंटरनेट की सुपरस्टार बन गईं। रानू की गायकी ने उन्हें फ़र्श से अर्श तक पहुंचा दिया है। यही नहीं उन्होंने इसी अपना बॉलीवुड डेब्यू भी कर लिया।

क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019

जहां क्रिकेट है, वहां भारतीय प्रशंसक है। इसलिए, यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि गूगल पर साल 2019 की टॉप सर्चिंग में आईसीसी क्रिकेट विश्व कप रहा है। भले ही भारत ने विश्व कप फाइनल में जगह नहीं बनाई, लेकिन दुनिया भर में प्रशंसा बटोरी। स्कोर, टीम अपडेट और वर्ल्ड कप से जुड़ी जानकारी जानने के लिए हजारों भारतीय गूगल पर गए।

अनुच्छेद 370

भारतीय संविधान का अनुच्छेद 370 एक ऐसा लेख था जो जम्मू और कश्मीर को स्वायत्तता का दर्जा देता था।  5 अगस्त 2019 को गृहमंत्री अमित शाह द्वारा राज्यसभा में पेश किए गए संकल्प प्रस्ताव के अनुसार, आर्टिकल 370 का सिर्फ एक खंड लागू रहेगा और बाकी सभी खंड समाप्त कर दिये गये। सरकार के ऐलान के अनुसार जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में बांट दिया गया। इसमें जम्मू-कश्मीर एक केंद्र शासित प्रदेश होगा, वहीं लद्दाख को दूसरा केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया। 

सुषमा स्वराज का निधन

6 अगस्त को दिल का दौरा पड़ने से 67 साल की उम्र में पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन हो गया। सुषमा स्वराज के आकस्मिक निधन से देश में ही नहीं, दुनिया भर में शोक की लहर थी। वह न सिर्फ एक अच्छी नेता थीं बल्कि बेहतरीन प्रवक्ता भी थीं। 

 

भाजपा के एक और दिग्गज नेता की मौत

बीजेपी के कद्दावर नेता अरुण जेटली ने 24 अगस्त को दुनिया को अलविदा कह दिया। जेटली साहब लंबे समय से बीमार चल रहे थे। वो 66 वर्ष के थे। मोदी कैबिनेट का वे एक महत्वपूर्ण चेहरे थे साथ ही उन्होंने बीजेपी सरकार का सकंटमोचन भी कहा जाता था।

सिंगल यूज प्लास्टिक हुई बैन

सरकार ने 2022 तक देश को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने का लक्ष्य रखा है। इसके चलते 2 अक्टूबर से क्रेंद सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर हर शहर में किसी भी तरह के सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी। ये इस साल का एक बेहद बड़ा फैसला था।

अयोध्या केस सुनवाई

9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट में प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ ने अयोध्या में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले  पर अपना अंतिम फैसला सुनाते हुए राम मंदिर निर्माण के लिए आज्ञा दे दी। कोर्ट ने 2.77 एकड़ की विवादित ज़मीन रामलला विराजमान को देने का आदेश दिया और साथ ही सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ की ज़मीन देने का फैसला सुनाया। 

प्रियंका रेड्डी गैंगरेप मर्डर केस

27 नवंबर साल 2019 एक ऐसी तारीख बन गई, जिसे भारत में अब से काले दिन के रूप में याद किया जाएगा। क्योंकि इसी दिन हैदराबाद में एक महिला पशु चिकित्सक के साथ सामूहिक बलात्कार कर हैवानियत की हदें पार करते हुए चार दरिंदों ने उसे आग के हवाले कर दिया। इस खबर के आते ही देश में गुस्सा भड़क गया और लोग सड़कों पर उतर आए। हालांकि पुलिस ने उन हैवानों का एकाउंटर कर प्रियंका रेड्डी के साथ इंसाफ किया।

महाराष्ट्र में हुआ सियासी उलटफेर

साल 2019 को महाराष्ट्र में एक बड़ी सियासी घटना हुई। भाजपा ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजित पवार के साथ मिलकर रातोंरात सरकार बना ली। इस दौरान देवेंद्र फडणवीस सिर्फ साढे तीन दिन ही सीएम के पद पर टिक पाये। भाजपा-शिवसेना की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई और 28 नंवबर को उद्धव ठाकरे ने सीएम की कुर्सी संभाली। 

नहीं रहे राम जेठमलानी

भारत के वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में 8 सितंबर के दिन निधन हो गया। वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे। जेठमलानी की गिनती देश के मशहूर वकीलों में होती थी। वे आपराधिक मामलों के बड़े गहरे जानकार थे। इनसे ज्यादा हाई-प्रोफाइल केसेस भारत में शायद ही किसी और वकील के पास रहे होंगे।

नागरिकता संशोधन बिल (CAB)

साल 2019 का समापन उपद्रव और प्रदर्शन से हुआ। 11 दिसंबर को नागरिकता संशोधन बिल के राज्यसभा में भी पास हो जाने से देश में धर्म के नाम पर सियासत शुरू हो गई। अब नए कानून के हिसाब से कानून के मुताबिक, अफगानिस्तान-बांग्लादेश-पाकिस्तान से आया हुआ कोई भी हिंदू, जैन, सिख, बौद्ध, ईसाई नागरिक जो कि 31 दिसंबर, 2014 से पहले भारत में आया हो उसे अवैध नागरिक नहीं माना जाएगा। इस कानून के विरोध में देश के कई हिस्सों में विरोध-प्रदर्शन भी हुए।