दोस्त से अगर हो जाए प्यार तो उससे ऐसे करें इज़हार

दोस्त से अगर हो जाए प्यार तो उससे ऐसे करें इज़हार

सलमान खान और भाग्यश्री की साल 1989 में फिल्म आई थी 'मैंने प्यार किया'। इस फिल्म का एक बेहद ही पॉपुलर डायलॉग है, जो आज तक बोला जाता है कि 'एक लड़का और लड़की कभी दोस्त नहीं हो सकते'। फिल्म में ये लाइन एक्टर मोहनीश बहल (जीवन) ने सलमान (प्रेम) और भाग्यश्री (सुमन) के लिए कही थी, जब वे दोस्त थे। फिर दोनों को एक-दूसरे के लिए प्यार महसूस हुआ और दोनों दुनिया से लड़ गए। 30 साल पुराने इस डायलॉग से लोग कितने सहमत हैं, ये तो डिबेट का टॉपिक हमेशा से रहा है, लेकिन इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि दो दोस्त अगर जीवन साथी बन जाएं तो उससे बेस्ट जोड़ी और कोई हो ही नहीं सकती।

Table of Contents

    अगर जीवन साथी थोड़ा ज्यादा हो जाए तो बॉयफ्रेंड (boyfriend) बनाने के बारे में तो सोचा ही जा सकता है। अब देखिए, एक लड़का, जिसे आपके बारे में अच्छी से लेकर बुरी चीज़ें कर मालूम हों और वह आपको उसी रूप में ही अपनाने को तैयार हो, जैसे कि आप हैं तो ऐसे दोस्त को लाइफ पार्टनर बनाने में हर्ज ही क्या है? अगर आप भी अपने दोस्त को दोस्ती से ज्यादा वाले रिलेशन में लाने के बारे में सोच रही हैं तो पहले यहां दी जा रही कुछ बातों पर गौर कर लें, फिर आगे बढ़ें।

    सबसे पहले अपनी फीलिंग्स को जानें

    दोस्ती को आगे बढ़ाने से पहले आपको कुछ बातों के बारे में गौर करना होगा, तभी आप आगे कुछ फैसला लाने में सक्षम हो पाएंगी। इसमें सबसे जरूरी है आपकी फीलिंग्स।

    जी हां, सबसे पहले ये समझिए कि आप क्या महसूस करती हैं और इसके लिए खुद से यहां दिए गए कुछ सवाल पूछिए:-

    1. जब वह किसी और लड़की से बात करता है तो क्या आपको बुरा लगता है?
    ये लड़की आपके ग्रुप या कोई बाहर की हो सकती है। आपके दोस्त (friend) का किसी और लड़की से बात करना या आपका टाइम उसे देना या फिर आपके जितनी ही इम्पॉर्टेंस किसी और लड़की को देने से आपको जलन होती है? अगर ये सब है तो आपके लिए ये रिश्ता दोस्ती से थोड़ा ज्यादा है। आप उसे बॉयफ्रेंड बनाने के बारे में सोच सकती हैं।

    2. क्या आप दूसरे लड़कों के साथ होते हुए उसे याद करती हैं?
    दोस्त एक नहीं बहुत होते हैं, लेकिन उस एक दोस्त की कमी कोई और पूरी न कर पाए तो ये रिश्ता कुछ और ही कहलाता है! जी हां, अब आप किसी और दोस्त के साथ हों और आपको उसके साथ होते हुए भी अपने उस स्पेशल दोस्त की याद आए तो आपकी फीलिंग्स दोस्ती से आगे बढ़कर वाली ही हैं।

    3. जब आप दोनों नहीं मिलते तो क्या आपको उसकी याद आती है?
    जिस दिन आप दोनों नहीं मिले तो आप उसे बार-बार कॉल करती हैं? पूछती हैं कि वह क्या कर रहा है और क्या नहीं या फिर खाना खाने, मूवी देखने और बार-बार हाल-चाल पूछने जैसे सवाल करती रहती हैं? अगर वह फोन न उठाए, तब भी क्या आपके दिमाग में यही कुछ चलता रहता है? अगर ये सब आपके साथ होता है तो आप इस रिश्ते को दोस्ती से आगे ले जा सकती हैं।

    4. जब वह है आपकी लाइफ में तो कोई टेंशन नहीं?
    क्या आपको ऐसा महसूस होता है कि जब वह आपके साथ होता है तो आपकी लाइफ में और कोई टेंशन नहीं रहती। वह आपकी सारी मुश्किलें चुटकियों में (मतलब सच में) सॉल्व कर देता है और ये बात आपको उसके और करीब ले जाती है तो आप इस रिश्ते को आगे बढ़ा सकती हैं।

    5. जब वह नहीं तो आपकी लाइफ में क्या कमी है?
    इस बात का अनालिसिज़ जरूर करें कि अगर वह नहीं तो फिर क्या, क्योंकि अगर आप ये समझ जाएंगी तो आपको फैसला लेने में आसानी होगी।

    जानें कि अट्रैक्शन एक तरफा है या दोनों तरफ

    ये बात सच है कि प्यार जबरदस्ती नहीं होता। फीलिंग्स दोनों तरफ से होनी चाहिए और ये समझने के लिए दोस्ती से आगे एक कदम ये होना चाहिए। जिस बारे में आप समझ रही हैं, क्या वह उसके मन में भी है या नहीं, इसके लिए इन पॉइंट्स पर गौर करें:-

    1. क्या वह भी आपको अपने दिल की बात बताता है?
    जैसे आप उसे अपने दिल की बात बताना चाहती हैं, क्या ठीक वैसे ही आपका ये दोस्त भी आपसे अपने दिल की बात शेयर करता है। पहले इस बात को जान लें, क्योंकि तभी आप समझ पाएंगी कि दोनों तरफ फीलिंग एक जैसी है या नहीं।

    2. क्या वह आपसे सब-कुछ कहता है या फिर कुछ छिपाता भी है?
    कई बार कुछ बातें ऐसी होती हैं, जिन्हें सबसे शेयर नहीं किया जाता। क्या ऐसी बातों को भी आपका ये दोस्त आपसे शेयर करता है? जैसे लाइफ के कुछ पुराने सीक्रेट्स या फिर आपकी दोस्ती की दुनिया से अलग कई और बातें। अगर वह आपके साथ सब-कुछ शेयर करता है तो आप अपने सपने को सच करने के बारे में कुछ सोच सकती हैं।

    3. वह आपको देखता कैसे है?
    हां, ये सबसे जरूरी सवाल है कि वह आपको देखता कैसे है? क्या बाकी दोस्तों की तरह ही या फिर कुछ स्पेशल नज़रें। इस बात को आप अभी तक नहीं जान पाई हैं तो बॉलीवुड का ये फॉर्मूला ट्राय करें। आप अपना मेकओवर करें या फिर उसके सामने स्पेशल बनकर जाएं। फिर देखें कि उसकी नज़रें आपके बारे में क्या कहती हैं। इससे आपको उसकी फीलिंग्स का थोड़ा क्लू तो मिल ही जाएगा।

    4. उसका रवैया आपके लिए दूसरों के सामने कैसा है?
    इस बात पर भी गौर करें कि आपके लिए उसका रवैया दूसरे दोस्तों के सामने दोस्तों वाला है या फिर बाकियों से थोड़ा ज्यादा स्पेशल है। इससे भी आप समझ पाएंगी कि ये अट्रैक्शन एक तरफा है या दोनों तरफ।

    5. क्या कभी उसने फ्लर्ट किया है?
    खैर, इसमें कुछ नया नहीं। लड़के फ्लर्ट करते ही हैं, लेकिन अगर ये दोस्त फ्लर्ट सिर्फ आपके साथ ही कर रहा है तो उसके मन में भी आपके लिए कुछ फीलिंग्स हो सकती हैं। हां अगर वह हर लड़की के साथ फ्लर्ट करे तो वहीं रुक जाएं और उसे अपने दिमाग से बाहर कर दें।

    इन 6 स्टेप्स को फॉलो करें

    दोस्त को बॉयफ्रेंड बनाने से पहले आप यहां दिए जा रहे 7 स्टेप्स के बारे में जानें और उन पर ध्यान से सोंचे:-

    परिस्थिति को समझें - Understand the Situation

    दोस्ती के कई पहलू या कहें चेहरे होते हैं। जैसे हर शख्स में कुछ बातें अच्छी तो कुछ बातें बुरी होती हैं, इसी तरह दोस्ती में अप्स एंड डाउन होते हैं, इसलिए सबसे पहले आप परिस्थिति को समझें कि आप अपनी दोस्ती के कौन से स्टेप में हैं। आप उनके साथ कितनी कफर्टेबल हैं या फिर फिलहाल आप एक-दूसरे को कितना समझते हैं कि दोस्ती को आगे बढ़ाने के बारे में सोचा जा सकता है। क्या आप एक-दूसरे के लिए काफी हैं...जैसी तमाम बातों पर गौर करें और समझें।

    जानें कि वह आपके बारे में क्या महसूस करता है

    जब आप पूरी सिचुएशन को समझ जाएं तो फिर इस बात पर गौर करें कि वह लड़का आपके बारे में क्या महसूस करता है। क्या वह आपको सिर्फ एक अच्छा दोस्त समझता है, क्या वह दोस्ती से आगे जाने के लिए कंफर्टेबल है या नहीं, क्योंकि ये दिमाग में बिल्कुल न लाएं कि आप जो उसके बारे में सोच रही हैं, वह भी आपके बारे में वही सोच रहा होगा।

    अपने दोस्तों से सलाह लें

    परिस्थिति और अपने दोस्त की फीलिंग्स को समझने के बाद दोस्तों से सलाह लें। दोनों के कॉमन दोस्तों से ही नहीं, बल्कि अपने बाकी दोस्तों से भी एक बार सलाह लें। ध्यान रखें कि सलाह उन्हीं दोस्तों से लें, जिन पर आपको पूरा भरोसा हो कि वे आपको सही-गलत अच्छे से समझाएं। कभी भी ऐसे दोस्त से सलाह न लें, जिसकी इंटेंशन पर आपको शक हो।

    उससे हमेशा सच कहें - Say Truth to Him

    ये बात याद दिलाना इसलिए जरूरी है कि जहां सच है, वहां रिश्ते सुलझे हुए रहते हैं। फिजूल में रिश्तों की मिस्ट्री नहीं बनती। एक झूठ सौ झूठ को जन्म देता है, यानी आपको एक बात छिपाने के लिए कई सारी झूठी बातें बनानी पड़ेंगी, इसलिए हमेशा उससे सच कहें, चाहे वह मीठा सच हो या कड़वा।

    अपने दिल की बात खुलकर कहें

    कहते हैं कि दिल की बात करने से मन का बोझ हल्का हो जाता है, इसलिए अपने दिल में बातों को छिपाना नहीं चाहिए। सब-कुछ बोल देना चाहिए और इन बातों के लिए आपके इस स्पेशल दोस्त से बेहतर और कौन हो सकता है भला! इससे दो फायदे होंगे - पहला, आपको सही सलाह मिलेगी और दूसरा अगर आप इसी दोस्त को बॉयफ्रेंड बनाने के बारे में सोच रही हैं तो आपको खुद को बहुत अच्छा दिखाने या शो ऑफ करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

    उसके जवाब के लिए तैयार रहें

    हां, थोड़ा हर्ट होगा, लेकिन आप खुद से प्रॉमिस कीजिए कि आप दोस्ती खराब नहीं होने देंगी। ये सब इसलिए कि अगर आपके दोस्त के दिल में वही फीलिंग्स नहीं हुईं, जो आपके मन में उसके लिए है तो आप बिना ओवर रिएक्ट किए दोस्ती को न खराब करते हुए पहले जैसी ही रहेंगी, क्योंकि इसी में समझदारी है। अगर आपको जवाब में हां में मिला तो फिर तो आपकी बल्ले-बल्ले है ही।

    इन टिप्स को ध्यान में रखें - Tips to Remember

    जब सभी बातों पर आप गौर करने के बाद तो आखिर में इन बातों को भी एक बार पढ़ लें :-

    1. कभी भी पोज़ेसिव न हों - रिश्ते में एक-दूसरे को लेकर थोड़ी-बहुत पोज़ेसिवनेस ठीक है, लेकिन जब ये सब लिमिट से ज्यादा हों तो रिश्ता खत्म ही करती हैं। इससे सामने वाला शख्स बंधा हुआ महसूस करता है और फिर आती है मी टाइम की बहस, जो कि फीलिंग्स को धीरे-धीरे खत्म करने का काम करती है।

    2. जिंदगी सिर्फ प्यार से नहीं चलती - ये बात आपको आपकी फैमिली सिखाएगी या फिर समझाएगी, इसलिए प्यार की काली पट्टी आंखों पर न बांध कर प्रैक्टिकल होकर सोचें। एक ऐसा जीवन साथी चुनें और आप खुद भी ऐसी बनें कि दोनों एक-दूसरे के साथ एक अच्छा भविष्य बिता सकें।

    3. प्यार से पहले रिस्पेक्ट - जिस भी रिश्ते में प्यार से पहले एक-दूसरे के लिए रिस्पेक्ट होगी तो उस रिश्ते को कोई तोड़ नहीं सकता। इस बात का आप ध्यान रखें कि आपका ये दोस्त सिर्फ आपकी ही नहीं, बल्कि आपसे जुड़े लोगों की भी रिस्पेक्ट करे और आप भी उसकी और उससे जुड़े लोगों की इज्ज़त पूरी शिद्दत से करें।

    4. एक डिसिज़न लें - माना कि लाइफ बैलेंस करके चलानी पड़ती है, लेकिन जहां चुनने की बात हो, वहां आपको एक डिसिज़न लेना ही पड़ता है। इसे आप ऐसे समझें कि आप पूरी तरह से सोच-समझकर अपने दोस्त को बॉयफ्रेंड बनाने का फैसला लें। साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि कोई भी तीसरा आपके इस डिसिज़न को कमज़ोर न कर पाए।

    5. भरोसा - प्यार और रिस्पेक्ट के साथ भरोसे को भी अपने रिश्ते की नींव बनाएं, क्योंकि जहां ये तीनों चीज़ें होंगी, वहां आपका ये जीवन सफल है। जब ये तीनों चीज़ें आपको उस दोस्त में दिख जाएं तो फिर देरी न करें।

    6. रिश्ते को समझें - दोस्त को बॉयफ्रेंड बनाने से पहले इस बात को समझ लें कि अब आप दोनों का एक-दूसरे के प्रति रिश्ता या नज़रिया बदल रहा है। पहले आपको उसका किसी और के साथ ज्यादा वक्त बिताना शायद न खटकता हो, लेकिन रिलेशनशिप में आने के बाद अब ये बातें गौर करने लायक हो जाएंगी। इन बातों पर कोई तीसरा नहीं, बल्कि आप दोनों ही गौर करेंगे, इसलिए हर तरह से एक-दूसरे के लिए जिम्मेदार होने के लिए तैयार रहें।

    7. गैप दें - साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि रिलेशनशिप में आने के बाद अब आपके पार्टनर के चौबीस घंटे सिर्फ आपके ही नही हैं। बॉयफ्रेंड-गर्लफ्रेंड वाले रिश्ते के अलावा एक-दूसरे को अपनी-अपनी लाइफ की और बाकी जिम्मेदारियों का भी ध्यान रखना होगा। तभी आप बेस्ट कपल साबित हो सकेंगे।

    अब आएगा अपना वाला खास फील क्योंकि POPxo आ गया है 6 भाषाओं में ... तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा - अंग्रेजी, हिन्दी, तमिल, तेलुगू, बांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।