लड्डू बना पति-पत्नी के बीच तलाक का कारण, जानिए क्या है पूरा मामला

लड्डू बना पति-पत्नी के बीच तलाक का कारण, जानिए क्या है पूरा मामला

आजकल हमारे समाज में तलाक के केस बढ़ते जा रहे हैं। ज्यादातर मामलों में मुख्य कारण पति और पत्नी का आपस में सामंजस्य न बिठा पाना होता है लेकिन हाल ही में तलाक का एक ऐसा केस सामने आया है, जिसका मुख्य कारण लड्डू है। जी हां, पत्नी द्वारा सुबह-शाम खाने में लड्डू दिए जाने के कारण पति ने फैमिली कोर्ट में तलाक की अर्जी लगाई है।  
दरअसल, तलाक का यह दिलचस्प मामला उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले का है। यहां एक पति ने तलाक की अर्जी लगाते हुए कहा कि उसकी पत्नी खाने के लिए उसे सिर्फ लड्डू देती है। पति ने कोर्ट को बताया है कि उसकी पत्नी ये सब कुछ एक तांत्रिक बाबा के कहने पर कर रही है। आपको बता दें कि इस जोड़े की शादी को 10 साल पूरे हो चुके हैं और इनके तीन बच्चे भी हैं। 
 
shutterstock

जानकारी के मुताबिक, तलाक का यह अजीबोगरीब मामला फैमिली कोर्ट में पहुंच गया है। पति ने सबके सामने अपनी आपबीती सुनाई है। उसका कहना है कि वो कुछ समय पहले बीमार हुआ था। तभी से उसकी पत्नी एक तांत्रिक के संपर्क में आ गई थी। तांत्रिक ने पत्नी को सलाह दी है कि यदि उसे अपने पति से अपनी सारी बातें मनवानी हैं तो वह उसे रोज लड्‌डू खिलाए। इसी के चलते वो उसे सुबह और शाम सिर्फ चार-चार लड्डू खाने के लिए देती है। उसके बीच या बाद में पत्नी उसे कुछ और खाने के लिए नहीं देती है। अपनी पत्नी की इस हरकत से तंग आकर ही उसने तलाक लेने का फैसला कर लिया।
वहीं दूसरी तरफ इस मामले में मेरठ फैमिली कोर्ट का कहना है कि वो इस मामले को सुनकर काफी हैरान है। काउंसलर उन्हें काउंसिलिंग के लिए बुला सकते हैं लेकिन उनके अंधविश्वास का इलाज नहीं कर सकते। साथ ही ये भी कहा कि महिला यह मानकर बैठी है कि लड्‌डू खिलाने से न सिर्फ उसका पति ठीक हो जाएगा बल्कि उसकी सारी इच्छाएं भी पूरी हो जाएंगी। ऐसे में काउंसलिंग के बाद ही आगे कुछ बताया जा सकता है।

(आपके लिए खुशखबरी! POPxo शॉप आपके लिए लेकर आए हैं आकर्षक लैपटॉप कवर, कॉफी मग, बैग्स और होम डेकोर प्रोडक्ट्स और वो भी आपके बजट में! तो फिर देर किस बात की, शुरू कीजिए शॉपिंग हमारे साथ।) .. अब आयेगा अपना वाला खास फील क्योंकि Popxo आ गया है 6 भाषाओं में ... तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा - अंग्रेजीहिन्दीतमिलतेलुगूबांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।