जानिए डिटॉक्स वाटर के फायदे और इसे बनाने की विधि - Detox Water for Clear Skin in Hindi

डिटॉक्स वाटर के फायदे - Detox Water for Skin in Hindi,डिटॉक्स वाटर बनाने की विधि

आपकी फिटनेस इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप सुबह उठते ही क्या खाते या पीते हैं। आज की हमारी जीवनशैली और खान-पान पूरी तरह से बदल चुका है। लोग जंक फूड खाने के लिए मजबूर हैं। इस जंक फूड से होने वाले दुष्परिणामों की लिस्ट लंबी है। रोजमर्रा के काम-काज के दौरान अक्सर अतिरिक्त ऊर्जा की ज़रूरत महसूस होती है। हमें पता भी नहीं होता कि हमें जो यह थकान सी महसूस होती है, उसकी वजह शरीर में अत्यधिक टॉक्सिन जमा होना भी हो सकती है। इनके दुष्परिणामों से बचने के लिए नियमित रूप से शरीर को डिटॉक्सिफाई करने की जरूरत होती है। ऐसे में डिटॉक्स वॉटर बॉडी को डीटॉक्सीफाई करने में हमारी मदद करता है। डिटॉक्स वॉटर (detox water in hindi) से प्राकृतिक तौर पर जलन-सूजन कम करने, ऊर्जा बढ़ाने, पाचन शक्ति बेहतर बनाने, लीवर को साफ करने और त्वचा को स्वस्थ बनाने में मदद मिलती है।

Table of Contents

    डिटॉक्स वॉटर क्या होता है? - What is Detox Water in Hindi

    डिटॉक्स वॉटर का काम आपके शरीर को डिटॉक्सिफाई करना होता है। टॉक्सिक पदार्थ हमारे शरीर के लिए हानिकारक होते हैं। हमारी खाने-पीने, सोने और जागने की आदतों से हमारे शरीर में टॉक्सिक पदार्थ बनते हैं और इन्हें शरीर से बाहर निकालना बहुत जरूरी होता है। इसके लिए आप अपनी बॉडी को डिटॉक्स वॉटर से साफ कर सकते है। इसलिए आज हम आपको अलग-अलग तरह के डिटॉक्स वॉटर के बारे में बताने जा रहे हैं। फिर आप अपनी जरूरत के हिसाब से इन्हें अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। एक्सपर्ट का मानना है कि आप सिर्फ डिटॉक्स वॉटर की मदद से अपना वजन भी कम कर सकती हैं। बिना एक्सरसाइज किए अगर आसान तरीके से अपना वजन कम करना हो, त्वचा पर निखार लाना हो या एनर्जेटिक महसूस करना हो तो आपको डिटॉक्स वॉटर के बारे में ज़रूर जानना चाहिए।

    स्वास्थ्य के लिए डिटॉक्स वाटर के फायदे - Health Benefits of Detox Water in Hindi

    कई लोगों का ये सवाल भी रहता है कि डिटॉक्स वॉटर कब पीना चाहिए (detox water kab pina chahiye) तो इसका सही जवाब है सुबह क्योंकि हम रात में लगभग 8 घंटे सोते हैं और इस दौरान पानी की ज़रा सी भी मात्रा शरीर के अंदर नहीं जाती है। यही कारण है कि डॉक्टर और बुज़ुर्ग सलाह देते हैं कि सुबह उठते ही पानी पीना चाहिये। हालांकि अगर आप पानी की जगह डिटॉक्स वॉटर पीते हैं तो शरीर में उसकी पौष्टिकता कई गुना बढ़ जाती है। अक्सर हर दिन आठ गिलास पानी पीने की सलाह दी जाती है। डिटॉक्स वॉटर के सेवन से शरीर को विषैले पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। इससे आप ऊर्जावान महसूस करते हैं और साथ ही वजन कम करने में भी मदद मिलती है। तो आइये जानते हैं इसके फायदे।

    वजन कम करता है

    पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से आपको वजन कम करने में मदद मिलती है और यही बात डिटॉक्स वॉटर पर भी लागू होती है। यह पानी पूरी तौर से चयापचय की प्रक्रिया बढ़ाने में मदद करता है, जिससे कैलोरी कम होती है। डिटॉक्स पेय से ऊर्जा का स्तर बढ़ता है, जिससे आप सारा दिन ताज़ा और हल्का महसूस कर सकते हैं। अंगूर जैसे फलों में कुछ विशेष एंजाइम भी होते हैं जो शरीर को शर्करा का उपयोग करने में मदद करते हैं, जिससे चयापचय की प्रक्रिया बढ़ती है और वजन कम होता है।

                                                                           मोटापा घटाने के लिए बेस्ट हैं ये बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे

    पाचन क्रिया बनेगी स्वस्थ

    पाचन को स्वस्थ रखने और पेट को नियमित तौर पर साफ रखने के लिए शरीर में पर्याप्त रूप से पानी का होना बहुत जरूरी है। लम्बे समय तक शरीर में पानी की कमी से कब्ज हो सकता है, जिससे पेट फूला हुआ और सुस्ती महसूस हो सकती है। ऐसे में डिटॉक्स पेय में मौजूद पोषक तत्व आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखते हैं। डिटॉक्स पेय लीवर की सक्रियता में भी मदद करता है। नींबू से तैयार डिटॉक्स पेय में एस्कॉर्बिक एसिड होता है जो पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है। भरपूर पानी पीने से भोजन या भोजन के अपशिष्ट को आंत से गुजरने में मदद मिलती है, जिससे कब्ज नहीं होता है।

    इम्यून सिस्टम होगा मजबूत

    अगर शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत है तो रोग आसानी से हमला नहीं कर पाते हैं इसलिए डिटॉक्स वॉटर से अपना इम्यून सिस्टम मजबूत बनाएं। दरअसल फल-सब्जियों से प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती मिलती है। विशेष रूप से अगर आप नियमित तौर पर विटामिन सी का सेवन करते हैं तो यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत कर सकता है। डिटॉक्स वॉटर विषाक्त पदार्थों, कचरे और मुक्त कणों से छुटकारा पाने में मदद करता है और साथ ही यह प्रतिरक्षा को भी मजबूत करता है।

    लीवर की रक्षा

    लीवर का एक मुख्य कार्य है शरीर की प्रणाली को साफ रखना। आज के दौर में हमारी जीवनशैली से जुड़ी कुछ खराब आदतें लीवर पर दबाव डाल रही हैं। ऐसे में नियमित रूप से लीवर को विषाक्तता मुक्त बनाना आवश्यक है ताकि यह ठीक से काम कर सके। डिटॉक्स पेय हमारे खाने में से टॉक्सिन को बाहर निकाल देते हैं। इसलिए अपने पीने के पानी में ताज़ा और रसेदार खीरे के कुछ टुकड़े मिलाएं और दिन भर उसकी चुस्की लें। रोज़ाना डिटॉक्स वॉटर पीने वाले लोगों का लीवर बाकी लोगों की अपेक्षा ज्यादा स्वस्थ रहता है।

    नहीं होगी एनर्जी की कमी

    शरीर में करीब एक प्रतिशत पानी की कमी मूड को उल्लेखनीय रूप से प्रभावित कर सकती है, एकाग्रता में कमी और सिरदर्द तक हो सकता है। कोई भी डिटॉक्स पेय जलन-सूजन कम करने, लीवर को साफ करने और स्वाभाविक रूप से ऊर्जावान बनाने में मदद करता है। जब विषाक्त पदार्थों से मुक्ति मिल जाती है तो शरीर में हल्कापन और ताज़गी महसूस होती है। इससे पूरा दिन काम करने की एनर्जी मिलती है।
                                                                            स्टैमिना बढ़ाने के लिए अपने खाने में शामिल करें ये आहार

    सौंदर्य के लिए डिटॉक्स वाटर के फायदे - Beauty Benefits of Detox Water in Hindi

    डिटॉक्स पेय से जलन-सूजन को कम करने और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है। इससे बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम किया जा सकता है। पर्यावरण प्रदूषक तत्वों और रासायनिक तत्वों के जमा होने के कारण त्वचा पर झुर्रियां और रूखापन आ जाता है। ऐसे में विटामिन सी युक्त डिटॉक्स पेय से त्वचा की कोशिकाएं साफ होती हैं और त्वचा जवान और चमकदार बनती है। (detox water for glowing skin in hindi) खट्टे फल विटामिन सी से परिपूर्ण होते हैं और ये फल त्वचा के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। 
    डिटॉक्स वॉटर से सौंदर्य संबंधी इन फायदों के लाभ उठाया जा सकता है : 
    • रंगत निखरना
    • मुंहासों से छुटकारा
    • झुर्रियों का कम होना
    • त्वचा चमकदार होना
    • उम्र का असर कम होना

    डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि - Detox Water banane ki Vidhi

    घर पर डिटॉक्स वॉटर बनाना बहुत आसान होता है। इसके लिए आपको केवल पानी, फलों, सब्जियों और कुछ जड़ी-बूटियों की जरूरत होती है। आज हम आपको बता रहे हैं कि कैसे आप अपने लिए घर पर ही डिटॉक्स वॉटर बना सकते हैं।

    स्टेप 1— सबसे पहले यह तय कर लें कि आपको किस फल का डिटॉक्स वॉटर बनाना है। उसके बाद उसे साफ करके रख लें।
    स्टेप 2— सभी सामग्रियों को काट कर उन्हें गर्म या ठंडे पानी में मिला लें।
    स्टेप 3— अब उस पानी को कुछ देर तक एक जग में डालकर रखें। ध्यान रखें कि जितनी ज्यादा सामग्रियों का उपयोग करेंगे, आपका डिटॉक्स जल उतना ही स्वादिष्ट बनेगा। अगर आप ठंडा पेय बनाना चाहते हैं तो डिटॉक्स जल को 1-12 घंटे के लिए फ्रिज में रख सकते हैं ताकि इसमें डली सामग्रियों का जायका अच्छी तरह मिल जाए। हालांकि उक्त अवधि के बाद इन सामग्रियों को फेंक दें ताकि वे खराब न होने लगें और पानी को दूषित न कर दें।

    साफ, निखरी और चमकदार त्वचा के लिए डिटॉक्स वॉटर कैसे बनाएं

    नींबू में भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है, जिसके एंटीऑक्सीडेंट गुण आपकी त्वचा का निखार बढ़ाकर उसे चमकदार बनाते हैं। ये मुक्त कणों से लड़ते हैं। शरीर को डिटॉक्स करने का यह सबसे साधारण, आसान और प्रभावी तरीका है। इसके लिए आप इस तरह से डिटॉक्स वॉटर बना सकते हैं।

    स्टेप 1— सबसे पहले एक नींबू को दो भागों में काट लें।
    स्टेप 2— अब उसे पानी में निचोड़कर एक बड़े गिलास में रख दें।
    स्टेप 3— आप चाहें तो गिलास में कुछ पत्ते मिंट के भी डाल सकते हैं। इससे मुंहासों में कमी आएगी। रोज़ाना इसे पीने से न सिर्फ शरीर से विषाक्त पदार्थ दूर होते हैं, बल्कि शरीर दिन भर तरोताज़ा भी रहता है। लेकिन यह ध्यान रखें कि इसमें कभी नमक या चीनी न मिलाएं।

    गुलाब की पंखुड़ियों और सौंफ का डिटॉक्स वॉटर

    गुलाब की पंखुडियां तनाव से छुटकारा पाने, अपनी मनोदशा को ऊपर उठाने और पाचन समस्‍याओं का इलाज करने में मदद करती है। सौंफ के बीज पाचन में सुधार करने, डीएनए अत्‍परिवर्तन को रोकने में मदद करते हैं। इसमें एंटी-इन्फ्लेमेट्री, कार्डियो प्रोटेक्टिव और एंटी-कैंसर गुण होते हैं जो आपके लिए फ़ायदेमंद हो सकते हैं।
    डिटॉक्स वॉटर बनाने की सामग्री 
    • गुलाब की 20 पंखुडियां
    • 2 चम्‍मच सौंफ के बीज
    • 1 लीटर पानी
    डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि -  How to Make Detox Water in Hindi
    पानी के 1 लीटर जार में गुलाब की पंखुडियां और सौंफ के बीज डालें। इसके बाद फ्रिज में चार घंटे तक रखें ।

    संतरे और अदरक का डिटॉक्स वॉटर

    संतरे एंटीआक्‍सीडेंट और विटामिन सी से समृद्ध होते हैं जो डीएनए क्षति को रोककर दिल की रक्षा करते हैं। इसलिए इसका डिटॉक्स वॉटर काफी अच्छा होता है। इस डिटॉक्स वॉटर को पोषक तत्वों से समृद्ध बनाने और विभिन्न बीमारियों और लक्षणों से लड़ने में आपकी सहायता करने के लिए घर में बनाना बहुत ही आसान है।

    डिटॉक्स वॉटर बनाने की सामग्री :

    • 1 अदरक
    • संतरे के 15 टुकड़े
    • 1 लीटर पानी

    डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि - 

    • ओखली की सहायता से अदरक पीस लें।
    • छिलके के साथ संतरे को बीच से पतला-पतला काट लें।
    • इन दोनों को 1 लीटर पानी में डालें।
    • इसे फ्रिज में 2 घंटे तक रखें।

    अंगूर और नींबू का डिटॉक्स वॉटर

    पानी मे नींबू का उपयोग हम शीतल पेय के रूप में करते हैं लेकिन अगर इसमें काले अंगूर को भी शामिल कर लिया जाए तो यह अधिक फ़ायदेमंद हो सकता है। काले अंगूर कैंसर कोशिका प्रसार, निचले कोलेस्ट्रॉल और प्‍लेटलेट एकत्रीकरण को रोकते हैं। नींबू विटामिन सी का एक बड़ा स्रोत है। यह गठिया से छुटकारा पाने, पाचन को उत्‍तेजित करने, बालों को गिरने से रोकने, सर्दी और खांसी से लड़ने में मदद करता है।

    डिटॉक्स वॉटर बनाने की सामग्री -

    • 10-15 काले अंगूर
    • 1 नींबू
    • 1 लीटर पानी

    डिटॉक्स वॉटर तैयार करने की विधि - 

    • नींबू को छिल्‍के सहित और अंगूरों को बीच से पतला पतला काट लें।
    • एक लीटर पानी से भरे जार में दोनों को डालें।
    • इन दोनों को पानी में 20 मिनट तक रहने दें।
    • अब आप इस ड्रिंक का इस्तेमाल कर सकते हैं।

    आम और तुलसी के पत्तों का डिटॉक्स वॉटर

    आम पाचन, चयापचय को मजबूत, रक्‍तचाप को नियंत्रित, खराब कोलेस्‍ट्रॉल को कम और इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने में मदद करता है। तुलसी के पत्‍ते एंटीआक्‍सीडेंट्स से भरे होते हैं और विषाक्‍त पदार्थों को दूर करने व कैंसर कोशिका प्रसार को रोकने में मदद करते हैं।
    डिटॉक्स वॉटर बनाने की सामग्री -
    • पके आम के 10 पतले टुकड़े
    • 10 तुलसी के पत्‍ते
    • 1 लीटर पानी
    डिटॉक्स वॉटर बनाने की विधि -
    • आम के टुकड़ों और तुलसी के पत्‍तों को एक जार में एक लीटर पानी के साथ मिलाएं।
    • इस पानी को 1 घंटे कि लिए रेफ्रिजरेटर में रखें

    जानिए डिटॉक्स वॉटर से जुड़े कुछ अहम सवालों के जवाब - FAQ's

    वजन कम करने के लिए कौन सा डिटॉक्स वॉटर पीना चाहिए?

    नींबू विटामिन सी में समृद्ध है, जो विषाक्‍त पदार्थों को दूर करने, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने और वजन घटाने में मदद करता है। इसके अलावा कीवी और स्ट्राबेरी में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। इनसे बने ​डिटॉक्स वॉटर को पीने से भी आपका वजन कम होता है। ये आपके शरीर को डिटॉक्स करने के साथ-साथ आपके मेटाबोलिज्म को भी बढ़ाते हैं, जिस वजह से आपका वजन कंट्रोल में रहता है।

    शरीर की सूजन कम करने के लिए कौन से फल का डिटॉक्स वॉटर बनाना चाहिए?

    जिन लोगों को वॉटर रेनटेशन की समस्या होती है यानि जिनके पैर सूज जाते हैं, उन्हें खीरे और स्ट्रॉबेरी से बना डिटॉक्स वॉटर लेना चाहिए। इससे उन्हें बहुत फायदा मिलता है। (detox water benefits in hindi) उनके शरीर से टॉक्सिन निकल जाते हैं और उनका शरीर डिटॉक्स हो जाता है, जिस वजह से उन्हें आराम महसूस होता है।

    डिटॉक्स वॉटर से क्या शरीर की प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है?

    संतरे और स्ट्रॉबेरी से बने डिटॉक्स वॉटर को पीने से आपकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, जिस वजह से आपके शरीर की बीमारियों से लड़ने की ताकत भी बढ़ती है। अगर आप दिन में एक बार यह डिटॉक्स वॉटर पिएं तो आपको बहुत फायदा मिल सकता है। (detox water ke fayde) ये फाइबर से भरपूर और एंटीऑक्सीडेंट डिटॉक्स वॉटर है, जिसे कुछ दिनों तक लगातार पीने के बाद आप अपने अंदर अच्छा बदलाव महसूस कर सकते हैं।

    अब आयेगा अपना वाला खास फील क्योंकि Popxo आ गया है 6 भाषाओं में ... तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा - अंग्रेजीहिन्दीतमिलतेलुगूबांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है।

    कैसे करें नमक के पानी का इस्तेमाल