अंकुरित अनाज खाने के फायदे - Benefits Of Sprouts In Hindi, List of Sprouts in Hindi | POPxo

अंकुरित अनाज खाने के फायदे - Sprouts Benefits in Hindi

अंकुरित अनाज खाने के फायदे - Sprouts Benefits in Hindi

स्प्राउट्स (Sprouts) को अंकुरित अनाज के नाम से जाना जाता है। ये अनाज या फलियों के अंकुरित बीज होते हैं, जिन्हें पौष्टिक आहार में शामिल किया गया है। नैचुरोपैथी यानि कि प्राकृतिक चिकित्सा में अंकुरित अनाज को दवाओं के रूप में जाना जाता है। विशेषज्ञ भी मानते हैं कि सुबह- सुबह स्प्राउट्स खाने से शरीर में प्रोटीन की कमी नहीं होती और जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं। स्प्राउट्स पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। इनमें अधिक मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। यहां हम आपको अंकुरित अनाज ( sprouts in hindi) से संबंधित वह पूरी जानकारी दे रहे हैं, जिसे जानकर आप स्प्राउट्स को अपने आहार में शामिल कर खुद को हेल्दी रख सकते हैं।


अंकुरित अनाज के नाम - Sprouts Name in Hindi


अंकुरित अनाज खाने के फायदे - Sprouts Benefits in Hindi


डायबिटीज में स्प्राउट्स


स्किन और बालों के लिए स्प्राइट्स - Beauty Benefits of Sprouts in Hindi


अंकुरित अनाज खाते समय बरतें ये सावधानियां - How to Eat Sprouts in Hindi


अंकुरित अनाज खाने के नुकसान - Side Effects of Sprouts in Hindi


अंकुरित अनाज या स्प्राउट क्या होते हैं? - What are Sprouts in Hindi


अंकुरित अनाज यानि कि स्प्राउट्स ऐसे बीज होते हैं (what is sprouts in hindi) जिनसे छोटे- छोटे अंकुर निकलने शुरू हो जाते हैं। यह अंकुरण प्रक्रिया आमतौर पर कई घंटों तक अनाज या बीजों को भिगोने से शुरू होती है। अंकुरित होने पर अनाज में पाया जाने वाला स्टार्च- ग्लूकोज, फ्रक्टोज और माल्टोज शर्करा में बदल जाता है। इससे न केवल अनाज का स्वाद बढ़ता है, बल्कि इसके पोषक तत्वों और पाचक गुणों में भी वृद्धि होती है। यही कारण है कि साबुत अनाज की तुलना में अंकुरित अनाज ( sprouts in hindi) ज्यादा पौष्टिक माने जाते हैं।


अंकुरित अनाज में पाये जाने पोषक तत्व


अंकुरित आहार में क्लोरोफिल, विटामिन ए, बी, सी, डी और के, भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जोकि कैल्शियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम, मैगनीशियम, आयरन जैसे खनिजों लवणों का बेहतर स्त्रोत है। अंकुरित अनाज में फाइबर, फोलेट, ओमेगा- 3 फैटी एसिड भी पाया जाता है। इनमें खासतौर से विटामिन- सी, बी- कॉम्प्लेक्स, थायमिन, राइबोप्लेविन और नायसिन की मात्रा दोगुनी हो जाती है।


अंकुरित अनाज के नाम - Sprouts Name in Hindi


अंकुरित अनाज कोई अनाज नहीं होता है। इसकी कई किस्में उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग आप खुद को फिट और हेल्दी रखने के लिए कर सकते हैं। अंकुरित अनाज में कई तरह के अनाज, फलियां, सब्जियों के बीज, नट्स आदि प्रयोग किये जाते हैं। इन्हें आप अंकुरित होने के बाद कच्चा या फिर पकाकर भी खा सकते हैं। आइए जानते हैं अंकुरित अनाज की सूची के बारे में - (list of sprouts in hindi)


  • सेम

  • मटर

  • बादाम

  • मूली के बीज

  • अल्फाल्फा के बीज

  • कद्दू के बीज

  • तिल के बीज

  • सूरजमुखी के बीज

  • ब्रसेल्स

  • मूंग दाल

  • चना

  • मेथी

  • सोयाबीन

  • क्विनोआ


अंकुरित अनाज खाने के फायदे - Sprouts Benefits in Hindi


अंकुरित अनाज हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। (benefits of sprouts in hindi) इसका उपयोग हमें कई तरह की बीमारियों से बचाता है। आइए जानते हैं अंकुरित अनाज को अपने आहार में शामिल करने के अनगिनत फायदों के बारे में -


मोटापे के लिए अंकुरित अनाज


अगर आप अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो अपने आहार में अंकुरित आहार जरूर शामिल करें। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जिसे खाने के बाद हमारा पेट काफी देर तक भरा रहता है और हम अतिरिक्त कैलोरी लेने से बच जाते हैं। अंकुरित अनाज में कैलोरी की मात्रा बहुत ही कम होती है, इसीलिए यह वजन घटाने में कारगर साबित होता है।


मोटापा घटाने के लिए बेस्ट हैं ये बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे


स्टैमिना बढ़ाने के लिए


स्टैमिना बढ़ाने का मतलब है शरीर में कमजोरी दूर करना, शारीरिक और मानसिक दोनों ही रूप से खुद को स्ट्रॉन्ग करना ताकि आप जो भी काम करें, बिना रुके और बिना थकावट के पूरा कर सकें। अंकुरित आहार एनर्जी का भंडार है। यही कारण है कि इसे सुबह के नाश्ते के अलावा कई लोग भोजन में भी नियमित तौर पर शामिल करते हैं, जिससे उनका स्टैमिना बना रहे।


स्टैमिना बढ़ाने के लिए अपने खाने में शामिल करें ये आहार


आंखों के लिए


आंखों के लिए अंकुरित अनाज बहुत लाभदायक होते हैं। इसका सेवन करने से हमारी दृष्टि यानि कि देखने की क्षमता बेहतर होती है। आंखों से संबंधित रोगों से लड़ने के लिए स्प्राउट्स काफी मददगार साबित होते हैं।


बेहतर पाचन तंत्र


अंकुरित अनाज पाचन शक्ति बढ़ाने और उसे दुरस्त रखने का काम करते हैं। अंकुरण की प्रक्रिया के बाद अनाज में पाये जाने वाले कार्बोहाइड्रेट व प्रोटीन और भी ज्यादा पाचक व पौष्टिक हो जाते हैं। इससे आपका पाचन तंत्र भी सुचारु रूप से कार्य करता है।


इम्युनिटी पावर बढ़ाए


अंकुरित आहार को नियमित तौर पर लेने से रोगप्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है और शरीर के हानिकारक तत्वों को बाहर निकालने में मदद मिलती है।


डायबिटीज में स्प्राउट्स


अगर आपको डायबिटीज यानि कि मधुमेह रोग है तो अंकुरित आहार ( sprouts in hindi) लेना शुरू कर दें। कुछ अध्ययन बताते हैं कि अंकुरित अनाज कार्बोस की कुल मात्रा को कम करने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें एमिलेज एंजाइम होता है जोकि ग्लूकोज को तोड़ने और पचाने में मदद करता है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि डायबिटीज में मेथी को अंकुरित करके खाना अधिक फायदेमंद होता है (benefits of sprouts in hindi) इससे बीमारी को कंट्रोल किया जा सकता है।


डायबिटीज कंट्रोल करने के आसान और सरल उपाय


स्किन और बालों के लिए स्प्राइट्स


स्प्राउट्स में ढेरों विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं, जोकि हमारी स्किन और बालों को हेल्दी रखने का काम करते हैं। स्प्राउट्स एक तरह से ब्लड प्यूरीफिकेशन का काम करते हैं, जिससे हमारी स्किन बेदाग और निखरी नजर आती है। इसके सेवन से आप के बाल घने होंगे और उनका झड़ना भी कम हो जायेगा।


गुड़हल का फूल के फायदे


दिल के रोगों के लिए रामबाण


आपको शायद यह बात जानकर हैरानी होगी कि अंकुरित अनाज का सेवन करना दिल के लिए बहुत फ़ायदेमंद साबित होता है। (benefits of sprouts in hindi) जो लोग रोजाना अपने आहार में अंकुरित अनाज शामिल करते हैं, उन्हें अन्य लोगों के मुकाबले में हार्ट अटैक पड़ने की आशंका बहुत कम होती है। दरअसल, अंकुरित अनाज में मौजूद पोषक तत्व आपके रक्त में उपस्थित हाई कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर देता है, जिससे दिल से संबंधित रोग होने की आंशका कम हो सकती हैं।


अंकुरित अनाज कैंसर में फायदेमंद


स्प्राउट्स में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स फ्री रैडिकल्स को नष्ट करते हैं ताकि त्वचा को किसी तरह का नुकसान न पहुंचे और त्वचा कैंसर की आशंका खत्म हो सके।


यौन स्वास्थ्य के लिए स्प्राउट्स


अंकुरित अनाज का नियमित सेवन करने से आपकी यौन समस्याओं को भी ठीक करने में मदद मिलती है। दरअसल, अंकुरित अनाज आपके जननांगों में रक्त प्रवाह में वृद्धि करने में मदद करते हैं।


सेक्स में रुचि बढ़ाने के लिए जायफल का ऐसे करें इस्तेमाल


प्रेगनेंट महिला के लिए अंकुरित अनाज के फायदे


प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिलाओं को अंकुरित अनाज अपने आहार में शामिल करने का सुझाव दिया जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे नवजात शिशु की मानसिक और शारीरिक कमजोरियों को दूर करने में लाभ मिलता है। इसका उपयोग करने से शिशु के विकास में भी मदद मिलती है।


प्रेगनेंसी के दौरान हर कामकाजी महिला को पता होनी चाहिए ध्यान में रखने वाली ये बातें


अनाज को अंकुरित करने का तरीका - How to make Sprouts in Hindi


how-to-make-sprouts-2


अंकुरित अनाज यानि कि स्प्राउट्स सबसे सस्ता और पौष्टिक आहार होता है। स्प्राउट्स बनाने की विधि (how to make sprouts in hindi) में किसी तरह की कोई रॉकेट साइंस नहीं लगती है और न ही ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। बस आप जिस अनाज को अंकुरित करना चाहते हैं, उसे रात भर पानी में भिगोकर रख दें। अगले दिन उसे चार- पांच बार पानी से अच्छी तरह धो लें और किसी गीले कपड़े में अच्छी तरह से लपेट कर रख दें। ध्यान रहे कि कपड़े में नमी बरकार रहे, अगर ऐसा नहीं है तो समय- समय पर पानी का छिड़काव करते रहें। अगले दिन ही आपके द्वारा गीले किये गये अनाज अंकुरित हो जायेंगे। सर्दियों के मौसम की अपेक्षा गर्मी के मौसम में बीजों को अंकुरित करना ज्यादा आसान होता है। इस प्रक्रिया से आप अपने लिए प्रतिदिन अंकुरित आहार तैयार कर सकते हैं।


अंजीर के स्वास्थ्य लाभ


अंकुरित अनाज खाते समय बरतें ये सावधानियां - How to Eat Sprouts in Hindi


  • स्प्राउट्स भिगोते समय यह ध्यान रखें कि अनाज में कहीं किसी तरह का घुन तो नहीं लगा है।

  • खाने से पहले स्प्राउट्स को पानी से अच्छी तरह धो लें, इससे अनाज पर लगे फंगस या पेस्टीसाइड के कण साफ हो जायेंगे।

  • स्प्राउट्स को तेल में भूनने से उनकी पौष्टिकता नष्ट हो जाती है, इसलिए अगर इसे आप पका कर ही खाना चाहते हैं तो भाप पर पका कर लें।


iStock-504102317-e1509728042406


  • ज्यादा दिनों के अंकुरित अनाज खाने से आमतौर पर दो प्रकार के जीवाणु ई. कोलाई और साल्‍मोनेला के फैलने की आशंका होती है।

  • अगर अंकुरित अनाज कई दिनों से रखे हैं तो उसे खाने से पहले जांच लें, पीले और बदबूदार होने पर उन्हें भूलकर भी न खाएं, आप बीमार पड़ सकते हैं।

  • बाजार में मिल रहे अंकुरित अनाज खरीदने से बेहतर है कि घर पर ही अनाज को अंकुरित करें।


अंकुरित अनाज खाने के नुकसान - Side Effects of Sprouts in Hindi


वैसे तो अंकुरित अनाज हमारी सेहत के बहुत फायदेमंद होता है (ankurit anaj ke fayde) लेकिन अति हर चीज की बुरी होती है। अधिक मात्रा में स्प्राउट्स का सेवन करने पर कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। ज्यादा स्प्राउट्स खा लेने से पेट में ऐंठन और दस्त जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अगर आप गैसट्रिटाइटिस,डायरिया,गैस्ट्रिक अल्सर या पैंक्रियाटाइटिस के पेशेंट हैं तो स्प्राउट्स का सेवन न करें।


sprouting


अंकुरित अनाज के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले आम सवाल और उनके जवाब FAQ'S


स्प्राउट्स खाने का सबसे अच्छा समय कौन सा है?


रात के खाने से पहले या दूसरे शब्दों में, शाम के नाश्ते के समय और रात के खाने के समय के बीच स्प्राउट्स का सेवन करना बेहतर होता है। वैसे स्प्राउट्स लेने का सबसे बेहतर समय सुबह का ही माना गया है।


कैसे पता चलेगा कि स्प्राउट्स खराब हो गये हैं?


ताजा बीन स्प्राउट्स फर्म, कुरकुरे और सफेद होते हैं। जब वे खराब होने लगते हैं तो पीले, मुलायम और अंततः पतले हो जाते हैं। उनमें गंदी से बदबू भी आने लगती है। लेकिन अगर बदबू नहीं आ रही तो उन्हें खाया जा सकता है।


सबसे फायदेमंद स्प्राउट्स किसका होता है?


वैसे स्प्राउट्स हर दाल और अनाज का अच्छा होता है लेकिन शरीर के लिए सबसे फायदेमंद और लाभकारी (ankurit anaj ke fayde) स्प्राउट्स, मूंग की दाल का होता है। अगर आप वजन कम करने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको फाइबर से भरपूर अंकुरित मूंग दाल खानी चाहिये। यह शरीर से विषैले तत्‍वों को बाहर निकाल मोटापा कम करने में भी सहायक होती है।


स्प्राउट्स साबुत अनाज से क्यों बेहतर हैं ?


एक्सपर्ट बताते हैं कि कच्चे फल और सब्जियों से 100 गुना ज्यादा एन्जाइम्स अनाज को अंकुरित करने पर होते हैं। एन्जाइम्स वे प्रोटीन होते हैं, जो शरीर को सही तरह से कार्य करने के लिए जरूरी होते हैं। अनाज को भिगोने और अंकुरण की प्रक्रिया के दौरान उनमें मौजूद प्रोटीन की गुणवत्ता बढ़ जाती है।


(आपके लिए खुशखबरी! POPxo शॉप आपके लिए लेकर आए हैं आकर्षक लैपटॉप कवर, कॉफी मग, बैग्स और होम डेकोर प्रोडक्ट्स और वो भी आपके बजट में! तो फिर देर किस बात की, शुरू कीजिए शॉपिंग हमारे साथ।)


.. अब आयेगा अपना वाला खास फील क्योंकि Popxo आ गया है 6 भाषाओं में ... तो फिर देर किस बात की! चुनें अपनी भाषा - अंग्रेजीहिन्दीतमिल, तेलुगूबांग्ला और मराठी.. क्योंकि अपनी भाषा की बात अलग ही होती है। 

Read More from Wellness
Load More Wellness Stories