नमक के पानी से नहाने के फायदे - Benefits Of Salt Water Bath In Hindi

नमक के पानी से नहाने के फायदे - Benefits Of Salt Water Bath In Hindi

नमक के बिना स्वाद कहां? कहते हैं कि नमक न हो तो खाने में तो मजा न आए। लेकिन क्या कभी आपने यह सोचा है कि नमक मुंह को संतुष्ट करने के साथ ही स्वास्थ्य के लिहाज से भी बढ़िया हो सकता है। यह सौ फीसदी सच है कि नमक युक्त पानी से नहाने (salt water bath in hindi) के कई फायदे हैं। यह न केवल कई तरह की बीमारियों से बचाता है बल्कि हमें पॉजिटिव यानि सकारात्मक बनाए रखने में भी मदद करता है।


नमक के पानी से नहाने के फायदे - Salt Water Bath Benefits In Hindi


नमक के पानी से नहाने के नुकसान - Side Effects Of Salt Water In Hindi


नमक का शरीर में योगदान - Contribution Of Salt In Body


सोडियम और क्लोराइड का कॉम्बिनेशन यह प्राकृतिक मिनरल सीधे धरती से क्रिस्टल के रूप में हमारे पास आता है। सुमद्री नमक में यह प्राकृतिक तौर पर पाया जाता है। नमक एक ऐसा प्राकृतिक खजाना है, जिसमें कई पोषक तत्व छिपे होते हैं जो हमारे जीवन के लिए बहुत जरूरी हैं। नमक हमें सल्फर, कैल्शियम, सोडियम, मैग्नीशियम, सिलिकन, बोरोन, पोटैशियम, ब्राोमाइन और स्ट्रोन्शियम जैसे जरूरी मिनरल्स प्रदान करता है। अपने बेहतरीन मिनरल कंटेंट के कारण नमक वजन कम करने, स्किन को खूबसूरत बनाने, अस्थमा के लक्षण कम करने, ब्लड शुगर स्तर दुरुस्त करने, शरीर के दर्द को कम करने और दिल को सेहतमंद रखने में भी मददगार है। नमक के पानी से नहाने के लिए आपका बीमार होना जरूरी नहीं है। यह क्लींजिंग और स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए भी बहुत अच्छा होता है।


नमक के पानी में नहाने का इतिहास - History Of Salt Bathing In Hindi


नमक के पानी में नहाने का पुराना इतिहास है। लगभग 500 साल पहले हिप्पोक्रेट्स, जो कि मेडिसिन के पितामह माने जाते हैं, ने देखा कि कुछ मछुआरे जिनके हाथ पर चोट लगी हुई थी, वे समुद्र के पानी में अपने हाथ को भिगो रहे थे। इसके बाद हिप्पोक्रेट्स ने अपने रोगियों को गरम समुद्री पानी में नहाने के लिए उत्साहित किया, जिसे उन्होंने थैलेसोथेरेपी का नाम दिया। ग्रीक में थैलेसा का मतलब समुद्र है। इस तरह के स्नान से रक्त और पाने के बीच टॉक्सिन बाहर निकलता है, साथ ही रक्त में मिनरल का संतुलन बना रहता है।


1982 में इजरायल में हुए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि नमक वाले पानी में नहाने से दर्द से राहत मिलती है और इलाज के बाद व्यक्ति जल्दी चल- फिर पाने में समर्थ हो जाता है। एक अन्य अध्ययन के अनुसार नमक वाले पानी में स्नान के बाद ऑस्टिआर्थराइटिस और टेंडॉन्टिस से राहत मिलती है। इसके साथ ही खुजली, अनिद्रा और स्किन संबंधी तमाम परेशानियों से भी राहत मिलती है। अध्ययन में यह भी पाया गया कि बार- बार होने वाले इंफेक्शन में भी नियमित तौर पर नमक वाले पानी से नहाने में स्वास्थ्य ठीक रहता है। यही नहीं, कीड़े के काटने और चोट में भी नमक के पानी से स्नान आराम प्रदान करता है।


Kiara Advani taking salt water bath


नहाने में प्रयोग किए जाने वाले नमक के प्रकार


नहाने में प्रयोग किए जाने वाले नमक साधारण नहीं बल्कि अलग तरह के होते हैं, जिनके कई चिकित्सकीय लाभ हैं। यह लाभ न केवल स्किन के लिए बढ़िया हैं बल्कि हमारे स्वास्थ्य को भी दुरुस्त करते हैं।


समुद्री नमक - Sea Salt


प्राकृतिक सी सॉल्ट यानी समुद्री नमक के कई सारे फायदे हैं (sea salt benefits in hindi) और इसमें कई मिनरल्स होते हैं, जिनकी हमारे शरीर को आवश्यकता होती है। जैसे- मैग्नीशियम, कैल्शियम, सोडियम और पोटैशियम। ये सब हमारे स्किन के हेल्थ में अहम भूमिका निभाते हैं। इनके प्रयोग से सेल्स एक- दूसरे के संपर्क में आती हैं और हीलिंग की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। यदि आपको कोई मिनरल पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलता है तो आपकी स्किन रूखी, बेजान और इरिटेटेड दिखने लगती है। समुद्री नमक (sea salt in hindi) यहां लाभकारी साबित हुआ है, जो स्किन में हाइड्रेशन को प्राकृतिक तौर पर दुरुस्त करता है और स्किन की बाहरी सतह में कसाव भी लाता है। इसी का नतीजा है कि आप युवा दिखते हैं।


पिंक हिमालयन नमक - Pink Himalayan Salt


नाम से लगता है कि यह नमक हिमालय में पाया जाता होगा लेकिन हिमालय में नमक की कोई खदान नहीं है। पिंक सॉल्ट के स्लैब खेवरा नमक खदान से आते हैं, जो हिमालय के पश्चिम में करीब 300 माइल्स दूर है। यह विश्व का दूसरी सबसे बड़ी नमक की खदान है। इसमें 95 प्रतिशत सोडियम क्लोराइड होता है। बाकी पॉलीहैलाइट और अन्य मिनरल्स होते हैं, जो इस नमक को गुलाबी रंग का बनाते हैं। प्रोसेसिंग की कमी की वजह से इस नमक में कई लाभकारी मिनरल्स होते हैं।


एप्सम नमक - Epsom Salt


एप्सम सॉल्ट का नाम अपने केमिकल स्ट्रक्चर की वजह से पड़ा है। इंग्लैंड में एप्सम नाम की एक जगह है, जहां प्राकृतक झरने में यह पाया जाता है। यह आपको अधिकतर केमिस्ट स्टोर में मिल जाएगा। एप्सम सॉल्ट डिटॉक्स बेदिंग के लिए बढ़िया विकल्प है, जिसे शरीर केे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए सही माना जाता है। डिटॉक्स बाथ के लिए बालटी में चलते पानी की धार में 2 कप एप्सम सॉल्ट डालें। इस तरह से यह पानी में जल्दी घुल जाता है। चाहें तो इसमें लैवेंडर या पेपरमिंट ऑयल डालकर इसे एरोमाथेरेपी में भी तब्दील किया जा सकता है। एरोमाथेरेपी आपके मूड को दुरुस्त करने के साथ ही मानसिक शांति प्रदान करता है। यह डिटॉक्स बाथ कब्ज को भी दूर करने में मददगार है। आइये अब जानते हैं कि नमक के पानी से नहाने से क्या होता है?


नमक के पानी से नहाने के फायदे - Salt Water Bath Benefits In Hindi


नमक के बिना हमारा भोजन यानि खाना अधूरा रहता है। हम चाहे कितने भी मसाले क्यों न डाल लें, यदि उसमें नमक न हो तो इसके स्वाद का पता ही नहीं चलता। नमक का पानी इसी तरह से नहाने के लिहाज से भी बहुत फायदे वाला है (namak wale pani se nahane ke fayde)।


रखे स्किन को साफ - Keep Skin Clean


नमक में कई मिनरल और न्यूट्रिएंट्स होते हैं, जो आपकी स्किनके लिए फायदेमंद हैं। इसमें निहित मैग्नीशियम, कैल्शियम, ब्राोमाइड, सोडियम आदि स्किन के रोम छिद्रों में प्रवेश करके स्किन को साफ करके इसे शाइनी बनाते हैं।


स्किन में नमी - Moisturise Your Skin


नमक वाले पानी से नियमित स्नान स्किन को साफ करके नरम और कोमल भी बनाता है। नमक में निहित मैग्नीशियम स्किन में पानी को देर तक बनाए रखता है। इससे स्किन में नमी का संतुलन बना रहता है और स्किन में कसावट भी आती है।


 Girl relaxing after Salt Water bath


बढ़ाए डिटॉक्सिफिकेशन - Increases Detoxification


नमक के पानी से नहाने से शरीर में व्याप्त जहरीले तत्व और कीटाणु बाहर निकल जाते हैं। चूंकि नमक को गुनगुने या गरम पानी में डालकर नहाने की सलाह दी जाती है तो नमक युक्त गरम पानी स्किन के रोम छिद्रों को खोलकर अच्छी तरह से सफाई करता है। यह सफाई स्किन को युवा और चमकदार बनाने के लिए पर्याप्त है।


एक्ने- पिंपल्स का खात्मा - Removes Acne-Pimples


आप अपने स्किन पर आए एक्ने और पिंपल्स को लेकर परेशान हैं। आखिरकार ये आपकी खूबसूरती को कम जो करते हैं। इसे ठीक करने के लिए आप चाहें तो नमक युक्त पानी में स्नान करें। या फिर चाहें तो एक कप पानी में एक चम्मच समुद्री नमक डालकर रुई की मदद से चेहरे के प्रभावित हिस्से पर लगाएं। लेकिन साथ ही अपनी डाइट पर भी ध्यान रखना जरूरी है।


झुर्रियां करे दूर - Remove Wrinkles


नमक वाले पानी में व्याप्त मिनरल्स इतने गुणवान हैं कि ये स्किन पर आने वाली झुर्रियों को रोकने में सहायक है। यही नहीं स्किन के दाग- धब्बे भी धीरे- धीरे कम होते जाते हैं।


सौंदर्य ही नहीं, सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद है नारियल का तेल


खुजली से दूरी - No To Itching


मौसम ठंडा हो या गरम, शरीर पर कई बार खुजली हो ही जाती है। यह खुजली शरीर पर लाल चकत्ते जैसे निशान का कारण भी बनती है। ऐसी स्थिति में नमक वाले पानी में नहाने से खुजली दूर हो जाती है।


एसिडिटी करे दूर - Helps In Acidity


आज हर दूसरा व्यक्ति एसिडिटी से परेशान है। इसे दूरी पाने के लिए लोग कई तरह की दवाइयों का सेवन तक करते हैं। जबकि इसका प्राकृतिक इलाज नमक वाले पानी के स्नान में छिपा है। अपनी क्षारीय प्रवृत्ति के कारण नमक का पानी अम्ल की मात्रा को कम करने में सहायक साबित हुआ है।


Salt Water bath in hindi


सकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य - Positive Mental Health


नमक युक्त पानी का स्नान केवल शरीर के लिए ही नहीं, मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बढ़िया है। इस पानी से नहाने के बाद आपको शांति और रिलैक्सेशन महसूस होगा। इसलिए नमक युक्त पानी से स्नान को तनाव दूर करने वाला भी बताया गया है। एप्सम और समुद्री नमक (sea salt in hindi) से स्नान के कई रिलैक्सेशन थेरेप्यूटिक लाभ हैं।


जानें कि सिर्फ 10 मिनट में आप कैसे बदल सकते हैं अपनी जिंदगी...


बढ़ाए एनर्जी - Enhances Energy


जब हमारे शरीर को जरूरी मिनरल्स नहीं मिलते हैं तो थकान आनी शुरू हो जाती है। हमारे तनाव के प्रबंधन में मैग्नीशियम का बड़ी भूमिका रहती है। लेकिन दुखद यह है कि करीब 57 फीसद वयस्क अपनी जरूरत के लायक मैग्नीशियम इनटेक नहीं लेते हैं। यह डेफिशियंसी कम एनर्जी का कारण बनता है। ऐसे में पानी में नमक डालकर नहाने के फायदे (namak ke pani se nahane ke fayde) का लाभ उठाएं। यह आपके शरीर के सेल्स में एनर्जी रीस्टोर करता है और आप रीवाइटेलाइज्ड महसूस करते हैं।


अनिद्रा का इलाज - Insomnia Treatment


नमक युक्त पानी से नहाने से शरीर को आराम मिलता है, दर्द दूर होता है और थकान एवं तनाव भी दूर भाग जाता है। इसके बाद शरीर के साथ दिमाग को भी शांति का अहसास होता है और नींद अच्छी आती है। जब आप नमक वाले गुनगुने पानी से नहाते हैं तो शरीर का तापमान बदलता है, जो अच्छी नींद लाने में सहायक है। साथ ही नमक और पानी का सही संतुलन रात में पेशाब जाने की क्षमता को कम करता है, जिससे भी नींद टूटती नहीं है। यदि इस पानी में आप लैवेंडर या कैमोमाइल ऑयल मिला दें तो बेहतर नींद आने से कोई नहीं रोक सकता।


पार्टनर के साथ अच्छी नींद लेना चाहते हैं तो फॉलो करने होंगे सिर्फ 5 टिप्स


मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन के लिए फायदेमंद - Beneficial For Muscular Pain And Cramps


यदि आपकी मांसपेशियों में अकसर दर्द और ऐंठन रहती है तो आप आज से ही नमक के पानी से नहाना (bath salt in hindi) शुरू कर दें। इससे मांसपेशियां मुलायम होने के साथ ही रिलैक्स भी होती हैं। साथ ही नमक के पानी से नहाने से शरीर की बदबू भी दूर होती है। किसी सर्जरी या चोट के बाद भी नमक युक्त पानी का स्नान शरीर को तेजी से ठीक होने में मदद करता है। गुनगुने पानी में मैग्नीशियम युक्त नमक मिलाकर नहाने से मसल स्पैस्म्स और पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से भी काफी राहत मिलती है। दिन भर की थकान के बाद होने वाले शारीरिक दर्द से भी यह छुटकारा दिलाता है।


sea salt benefits in hindi


हड्डियों के दर्द में आराम - Ease In Bone Pain


जिस तरह नमक युक्त पानी का स्नान मांसपेशियों से दर्द को गायब करता है, ठीक उसी तरह से यह हड्डियों के दर्द में भी लाभ पहुंचाता है। ऑस्टियाआर्थराइटिस और टेंडीनिटिस जैसे जोड़ों के दर्द में नमक पानी का स्नान जादू की तरह काम करता है। लोअर बैक पेन से राहत दिलाने में गुनगुने नमक वाले पानी से स्नान को बेहद प्रभावशाली माना जाता है।


बुखार से राहत


आपको यह जानकर जरूर आश्चर्य होगा लेकिन सच तो यह है बुखार और सदी- खांसी में नमक वाले गुनगुने पानी का स्नान बहुत राहत पहुंचाता है। तेज बुखार की स्थिति में गुनगुने पानी में दो चम्मच नमक और एक- दो चम्मच नारियल तेल डालकर नहा लें। इससे बुखार भी उतरेगा और सदी- खांसी से भी राहत मिलेगी। चाहें तो इस पानी में यूकेलिप्टस ऑयल मिला सकती हैं, जो रिस्पिरेटरी सिस्टम को खोलने में बेहतरीन तरीके से काम करता है।


बढ़ाए इम्यूनिटी - Improves Immunity


नियमित तौर पर नमक युक्त पानी से नहाने से हम खुद को उन मिनरल्स के लिए एक्सपोज करते हैं, जो हमें बीमारी से दूर रखने में मदद करते हैं। शारीरिक गतिविधि की तरह ही नमक वाला पानी एंटी- इंफ्लेमेटरी होता है, जो हमारे शरीर को ताकत प्रदान करता है कि वह बीमारियों को दूर रखे। नमक वाले पानी में मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण खतरनाक माइक्रोब्स को भी दूर करते हैं।


टेंशन भगाकर मूड अच्छा बनाएगी डार्क चॉकलेट, जानिए सभी फायदे और नुकसान


नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए नमक के पानी का इस्तेमाल - Salt Water Removes Negative Energy


नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए नमक बहुत ही फायदेमंद चीज़ है। जब भी आपको महसूस हो कि आप नकारात्मक महसूस कर रहे हैं तो आप सॉल्ट वॉटर थेरेपी का प्रयोग करके पॉजिटिव महसूस कर सकते हैं। यह तुरंत काम करता है और परिणाम भी तुरंत सामने आता है। नमक वाले पानी में यह गुण होता है कि यह तुरंत ही नकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित कर लेता है। नमक वाले पानी से स्नान आपके ऑरा से निगेटिव एनर्जी को दूर करता है। जब भी आपको लगे कि आप किसी नकारात्मक स्थान आ गए या फिर नकारात्मक लोगों के समीप हैं तो घर आकर सबसे पहले नमक वाले पानी से स्नान करें।


आप रोजाना अपने घर में फिनायल डालकर पोंछा लगवाती हैं। अगली बार पानी में समुद्री नमक डालकर पोंछा लगवाएं। यह आपके घर से नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है और घर में सकारात्मक ऊर्जा का स्वागत करता है। आप स्वयं इस अंतर को महसूस कर सकती हैं। चाहें तो घर से निगेटिव एनर्जी को दूर करने के लिए कमरे के कोनों में नमक युक्त पानी को कटोरे में डालकर कुछ घंटों के लिए रखें। इसके बाद पानी को वॉश बेसिन में फेंक दें।


नमक के पानी से नहाने के नुकसान - Side Effects Of Salt Water In Hindi


नमक युक्त पानी से नहाने से व्यक्ति को रिलैक्स जरूर महसूस होता है और नमक के पानी से नहाना (bath salt in hindi) पूरी तरह से सुरक्षित भी है, लेकिन यदि आपको दिल का रोग या डायबिटीज़ है तो बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से इस बारे में बात कर लें। इसके अलावा अपने बालों को कभी भी नमक वाले पानी से नहीं धोना चाहिए। इससे बाल रूखे और कमजोर हो जाते हैं।


OMG! तेजी से चलने वाले पंखे के आगे सोना हेल्थ के लिए है खतरनाक !!


बबल बाथ क्या है, कब लेना चाहिए और क्यों लेना चाहिए


जानिए क्या है डिटॉक्स वॉटर, फायदे और इसे बनाने की विधि