नीम के फायदे, Neem ke Fayde, Neem ke Patte ke Fayde, नीम के औषधीय उपयोग | POPxo

नीम के फायदे, औषधीय गुण और नुकसान - Neem ke Patte ke Fayde

नीम के फायदे, औषधीय गुण और नुकसान - Neem ke Patte ke Fayde

आयुर्वेद में नीम के पत्तों को बहुत महत्व दिया गया है। नीम (Indian Lilac) के इस्तेमाल से बड़ी से बड़ी बीमारियां भी ठीक हो जाती हैं। पुराने समय से ही नीम को एक औषधि के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। भले ही नीम की पत्तियां खाने में बहुत कड़वी होती हैं लेकिन इनमें एंटीबैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटी पैरासिटिक जैसे गुण मौजूद होते हैं, जो इसे आम से खास बनाते हैं। भारत में नीम को आमतौर पर ''गांव की फार्मेसी'' कहा जाता है क्योंकि इसमें एक नहीं बल्कि अनगिनत गुण मौजूद होते हैं। यह एक ऐसा पेड़ है, जिसका हर हिस्सा किसी न किसी बीमारी के इलाज में कारगर है।


भारतीय वेदों में नीम का नाम सर्व रोग निवारणी रखा गया है, जिसका अर्थ होता है 'सभी बीमारियों को रोकने वाला'। नीम दो किस्म का होता है, मीठा नीम और कड़वा नीम । हालांकि दोनों में ही औषधीय गुण पाए जाते हैं लेकिन कड़वे नीम के फायदे बहुत है और इसका इस्तेमाल औषधि निर्माण में ज्यादा होता है। आधुनिक शोधों व अनुसंधानों ने सिद्ध कर दिया है कि नीम के औषधीय उपयोग और गुण हैं, जिनका कोई जवाब नहीं है।


स्किन के लिए नीम के फायदे


बालों के लिए नीम के फायदे


सेहत के लिए नीम के फायदे


नीम के नुकसान


नीम के औषधीय उपयोग - Neem ke Fayde


भारत में नीम का पेड़ घर के आस-पास होना शुभ माना जाता है ताकि लोग आसानी से इसका फायदा उठा सकें। नीम के पेड़ की हर एक चीज फायदेमंद होती है। आज यहां हम बात करेंगे नीम की पत्तियों के फायदे (neem ke patton ke fayde) के बारे में, जिससे आप अपनी सेहत के साथ- साथ अपने सौंदर्य में भी निखार ला सकते हैं -


  • स्किन के लिए नीम

  • बालों के लिए नीम

  • नीम के औषधीय उपयोग

  • नीम के अन्य फायदे


Benefits of neem leaves


स्किन के लिए नीम - Neem Benefits for Skin in Hindi


सेहत के साथ ही सौंदर्य के लिए भी नीम एक रामबाण की तरह काम करता है। दरअसल, नीम की पत्तियों में कई ऐसे एंटीऑक्सीडेंट्स पाये जाते हैं (neem ke fayde), जो आपकी स्किन की देखभाल करने के साथ ही उन्हें त्वचा संबंधी रोगों से भी दूर रखते हैं। बाजार में मिलने वाले लगभग सभी ब्यूटी प्रोडक्ट्स में नीम के पत्तों का पेस्ट जरूर मिलाया जाता है। आइए जानते हैं सौंदर्य के लिए नीम के फायदे-


एंटी एजिंग का काम करता है


लंबे समय तक जवां तो हर कोई दिखना चाहता है लेकिन आजकल के खराब लाइफस्टाइल की वजह से झुर्रियां समय से पहले ही चेहरे पर दस्तक दे देती हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि नीम की पत्तियां एंटी- एजिंग की समस्या के लिए औषधि का काम करती हैं? दरअसल, नीम की पत्तियां आपकी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देती हैं और उससे स्किन जवां की जवां बनी रहती है।  


ऑयली स्किन से छुटकारा


तापमान बढ़ने की वजह से शरीर से एक्सट्रा ऑयल निकलने लगता है, जो चेहरे पर जमा हो जाता है और जिससे स्किन ऑयली नजर आने लगती है। अगर आप इसे कंट्रोल करना चाहते हैं तो नीम का इस्तेमाल करें। ये चेहरे पर जमे एक्सट्रा ऑयल को कंट्रोल करता है। इसके लिए नीम की पत्तियों को पीसकर उनमें दही और नींबू का रस डालकर एक गाढ़ा पेस्ट तैयार करें और 20 मिनट तक चेहरे पर लगाकर छोड़ दें। फिर पानी से धो लें।


पिगमेंटेशन से राहत


अगर पिगमेंटेशन की वजह से आपकी स्किन पर दाग- धब्बे और निशान उभर आते हैं, तो नीम के इस्तेमाल से उनका असर कम किया जा सकता है। इसके लिए नीम के पत्तों को सुखाकर उनका पाउडर बना लें और दो चम्मच बेसन में 1 चम्मच नीम पाउडर मिलाकर उसका पेस्ट बनाएं। अब इस पेस्ट को उस जगह लगाएं, जहां आपको पिगमेंटेशन की शिकायत है। 15 मिनट बाद इसे धो लें। ऐसा हफ्ते में कम से कम 2 बार करें, आपको जल्द ही फर्क नजर आने लगेगा।


चेहरे की रंगत निखारे


नीम का एक औषधीय गुण ये भी है कि यह आपकी स्किन को बेदाग रखने के साथ ही निखराती भी है। अगर आप चेहरे की रंगत को निखारना चाहती हैं तो कुछ नीम के पत्तों और गुलाब की पंखुडियों को गुलाब जल के साथ पीस लें। तैयार पेस्ट को 10 से 15 मिनट तक चेहरे पर लगाएं और सूखने के बाद उसे पानी से साफ कर लें। हफ्ते में 2 बार ऐसा करने से आपकी स्किन चमकदार होने के साथ बेदाग और मुलायम भी हो जायेगी।  


कील मुंहासे कम करें


स्किन को हेल्दी और कील- मुंहासों से दूर रखने के लिए नीम एक अच्छा विकल्प है। दरअसल, नीम में एंटी बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं, जो कील- मुंहासों और दाग- धब्बों जैसी समस्याओं से स्किन का बचाव करते हैं।


नीम का फेस पैक कैसे बनाएं? - How to Make Neem Face Pack in Hindi


Girl applying neem face pack


नीम का फेस पैक आप बहुत तरीकों से बना सकते हैं। यहां हम आपको दाग- धब्बों को कम करने और रंगत निखारने वाले नीम फेस पैक के बारे में बताने जा रहे हैं। इसके पैक को बनाने के लिए आपको चाहिए नीम की ताज़ी पत्तियां। इन पत्तियों को अच्छी तरह से धो कर मिक्सी में पीस लें। अब उनमें एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी का पाउडर और गुलाबजल मिलाएं। अब इस पैक को पूरे चेहरे पर लगाएं। पैक के सूखने पर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।


बालों के लिए नीम - Benefit of Neem for Hair in Hindi


नीम बहुत ही फायदेमंद औषधि है। इसकी भरपूर मात्रा में कुछ ऐसे पोषक तत्व पाये जाते  हैं, जो हमारे बालों की देखभाल करते हैं और उन्हें पोषण देते हैं। इसके साथ ही यह बालों की आम समस्याओं से भी छुटकारा दिलाता है। आइए जानते है कि नीम किस तरह हमारे बालों के लिए फायदेमंद है -


Neem is beneficial for hair


रूसी और जूं के लिए नीम 


नीम में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण मौजूद होते हैं, जिसकी वजह से आप स्कैल्प क्लीनर के तौर पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर आप सिर में जूं या रूसी यानि कि डैंड्रफ की समस्या से परेशान हैं तो नीम की पत्तियां उबाल लें और उस पानी से बाल धोयें। इसके अलावा नीम की पत्तियों को उबालकर उसमें शहद मिला लें और उसका गाढ़ा पेस्ट बनाकर बालों में लगाने से रूसी की समस्या जड़ से खत्म हो जायेगी। साथ ही इससे आपके बालों की चमक बढ़ेगी और वे मुलायम भी हो जायेंगे।


बालों को रखे कुदरती काला


ज्यादातर लोग अपने बालों को काला करने के लिए हेयर कलर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि स्किन को बिना किसी तरह का नुकसान पहुंचाये आप नीम से भी बालों को लंबे समय तक काला बनाये रख सकते हैं? इसके लिए नीम के पाउडर में नारियल का तेल डालकर 5 मिनट तक पकाएं। अब इसे ठंडा करके एक बोलत में भर लें। नियमित तौर पर रात में सोने से पहले इस तेल को अपने बालों में लगाएं और सुबह नहाते समय धो लें। 10 ही दिनों में आपको असर दिखने लगेगा।


बालों का झड़ना रोके


आजकल ज्यादातर लोगों को बाल झड़ने और टूटने की समस्या का सामना करना पड़ता है। अगर आपको भी ये दिक्कत है तो एक बार नीम का तेल इस्तेमाल करके देखें। नीम का तेल आपके स्कैल्प पर हो रहे इंफेक्शन को खत्म कर देता है, जिससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है। नीम के तेल का नियमित तौर पर प्रयोग करने से बाल जल्दी बढ़ते हैं।


सेहत के लिए नीम के फायदे - Benefit of Neem for Health in Hindi


Neem ke patton ke fayde


रक्त को शुद्ध करने के लिए


खराब लाइफस्टाइल के चलते आये दिन बीमार रहना आम बात है। कुछ बीमारियों में रक्त की विषात्कता होने लगती है यानि कि खून धीरे- धीरे खराब होने लगता है, जो आगे चलकर कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है। इसका लक्षण है चेहरे पर दाग- धब्बे, ऐक्ने, त्वचा रोग आदि। नीम एक शक्तिशाली रक्त रोधक है। ये शरीर के सभी अंगों में आवश्यक पोषक तत्व और ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है, जिससे शरीर को हानिकारक दूषित पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। ऐसे में नीम के कैप्सूल के फायदे आपको पता होने चाहिए।इसके लिए डॉक्टर की सलाह लेकर रोजाना भोजन के साथ नीम कैप्सूल का सेवन कर सकते हैं।


डायबिटीज में नीम


डायबिटीज को रोकने और शुगर कंट्रोल करने को लेकर हुये कई अध्ययनों में सामने आया है कि नीम के पत्ते डायबिटीज के लिए फायदेमंद होते हैं। जिन लोगों को भी मधुमेह की शिकायत है, अगर वो नियमित तौर पर नीम के पत्ते खाली पेट खायें तो जल्द ही वो इस बीमारी से राहत पा सकते हैं।


कैंसर और नीम


नीम में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स फ्री रैडिकल के हानिकारक प्रभाव को रोकते हैं, जिससे शरीर में कैंसर का खतरा कम हो जाता है। इसके अलावा नीम हृदय रोगों के लिए भी रामबाण औषधि है।


मलेरिया में नीम


मलेरिया के इलाज के दौरान नीम का इस्तेमाल भी दवा के रूप में किया जाता है। नीम के पत्तों में गेडुनिन (Gedunin) तत्व पाया जाता है, जो इस बीमारी के इलाज में मददगार साबित होता है। डॉक्टर भी मलेरिया के मरीज को नीम के पत्ते खाने की राय देते हैं।


यूरिन इंफेक्शन को दूर करें


एक्सपर्ट्स का मानना है कि यूरिन इंफेक्शन होने पर अगर नीम का सेवन किया जाये तो जल्द ही उससे राहत पाई जा सकती है। इसके लिए रोज सुबह उठकर नीम के 4 से 5 पत्ते चबाएं, आराम मिलेगा।


गर्भनिरोधक के रूप में नीम


वैज्ञानिकों का मानना है कि नीम गर्भ निरोधक का एक प्राकृतिक और आसानी से उपलब्ध होने वाला विकल्प है। इस विषय पर हुई कई रिसर्च में भी ये सामने आया है कि नीम में एंटी फर्टिलिटी तत्व विद्यमान होते हैं। जब नीम के तेल का उपयोग(neem ke upyog) यौन संबंध बनाने से पहले किया जाता है तो औरतों में यह प्रेंगनेसी को रोक सकता है।  


नीम के अन्य फायदे - Other Benefits of Neem in Hindi


  • नीम दांतों और मसूड़ों की बीमारियों को दूर रखने में मदद करता है।

  • नीम में एंटीफंगल घटक होते हैं, जिससे फंगल इंफेक्शन ठीक हो सकता है।

  • नीम का सेवन करने से अल्सर और कब्ज, पेट में मरोड़े और सूजन जैसी समस्याएं नहीं होती हैं।

  • अगर आपके कान में दर्द रहता है तो नीम के तेल का इस्तेमाल करना काफी फायदेमंद रहेगा।

  • जले, कटे घाव को भरने के लिए नीम की पत्ती को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाने से फायदा होगा।


Neem for use at home


  • नीम के पत्तों को उबालकर इसकी भाप लेने से भी कई रोगों से छुटकारा मिलता है।

  • बरसात के समय अकसर शरीर में फोड़े- फुंसी हो जाती हैं, इससे बचने के लिए नहाने वाले पानी में नीम की पत्तियां डालकर नहाएं।

  • बालों में चमक लाने के लिए शैंपू में थोड़ा सा नीम का तेल मिला लें और इससे बाल धोएं। देखिएगा कि बाल कैसे मुलायम और चमकदार हो जायेंगे।

  • अगर बालों में खुजली हो रही है या फिर जूं हो गई है तो कंघी पर नीम का तेल लगाकर बाल झाड़ें।

  • नीम के डंठल से रोजाना दातून करने से दांतों में कीड़े नहीं लगते हैं और वो मजबूत बने रहते हैं।

  • गुर्दे में पथरी होने की स्थिति में नीम के पत्ते फायदेमंद साबित होते हैं। रोजाना नीम पाउडर को पानी के साथ लेने से पथरी गलने लगती है और पेशाब के जरिये बाहर निकल जाती है।

  • मोटापे से निजात पाने के लिए नीम के पत्तों को घी में पकाकर चबाना चाहिए।

  • पेट दर्द होने पर मीठी नीम की पत्तियों का सेवन करना चाहिए।

  • मुंह में छाले हो जाने पर व्यक्ति बुरी तरह परेशान रहता है। लेकिन परेशान मत होइए। सिर्फ 4-5 नीम की पत्तियां दिन में 2-3 बर खायें, छाले ठीक हो जाएंगे।

  • दस्त की शिकायत होने पर नीम की पत्तियों का रस पीने से लाभ होता है।

  • नीम की पत्तियां जलाने से मच्छर भाग जाते हैं।

  • यदि गले में खराश हो तो मीठी नीम के साथ मिश्री चबाने से राहत मिलती है।

  • सांप के काटने पर नीम की पत्तियों का रस पिलाने से लाभ होता है।

  • नीम की चाय पीने से पेट के कीड़ों से छुटकारा पाया जा सकता है।


नीम के नुकसान - Neem ke Nuksan


जैसा कि आपको पता है कि किसी भी चीज की अति नुकसानदेह साबित होती है, वैसा ही नीम के साथ भी है। नीम की तासीर क्या होती है?दरअसल, नीम की तासीर ठंडी होती है तो इसे गर्मियों में तो खूब इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन सर्दियों में इसका सीमित मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए, नहीं तो ये नुकासनदेह साबित हो सकती है। अगर आप गर्भवती हैं या फिर गर्भधारण करने वाली हैं तो आपको किसी भी रूप में नीम का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि ये नुकासनदेह साबित हो सकता है। वहीं कई बार नीम का अधिक सेवन करने से पेट में जलन जैसी समस्या भी हो सकती है। साथ ही नीम को छोटे बच्चों की पहुंच से दूर रखना चाहिए क्योंकि इसके सेवन से उनकी किडनी और लीवर प्रभावित हो सकता है।


ये भी पढ़ें -


करीना की तरह ब्यूटीफुल एंड फिट बनने के लिए फॉलो करें उनका डाइट- फिटनेस प्लान और ब्यूटी मंत्रा
मोटापा घटाने के लिए बेस्ट हैं ये बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे
कम समय में पाना चाहते हैं दमकती त्वचा तो ऐसे करें चेहरे पर बादाम रोगन तेल का इस्तेमाल
मोटापा घटाने से लेकर बालों के झड़ने तक में फायदेमंद है गुड़हल का फूल
कमाल का सुपरफूड है क्विनोआ, हेल्थ के साथ- साथ आपकी सुंदरता का भी रखता है ध्यान 
स्वाद और सेहत दोनों का ही खजाना है जायफल, जानिए इससे जुड़े फायदे और नुकसान 

Read More from Lifestyle
Load More Lifestyle Stories