याददाश्त बढ़ाने के टिप्स| how to improve memory recall in hindi | POPxo

भूलने की बीमारी से परेशान हैं तो अपनी याददाश्त बढ़ाने के लिए ट्राई करें ये टिप्स

भूलने की बीमारी से परेशान हैं तो अपनी याददाश्त बढ़ाने के लिए ट्राई करें ये टिप्स

जैसे- जैसे आपकी उम्र बढ़ती जाती है आपको लगता है कि आपकी याददाश्त कमजोर होती जा रही है। आप किसी का नाम भूल जाते हैं या फिर कोई चीज ऐसी जगह रख देते हैं जो आपको याद ही नहीं रहती। आजकल दौड़- भाग भरी इस खराब लाइफस्टाइल के कारण भी बहुत कम उम्र में लोगों को अक्सर भूल जाने की आदत का सामना करना पड़ता है।


छोटी- मोटे काम या चीजें भूल जाना एक आम बात है लेकिन ऐसा जब कई बार होने लगे तो ये सामान्य लक्षण नहीं रह जाता। क्योंकि यही समस्या आगे चलकर अल्जाइमर नाम की बीमारी का रूप ले लेती है। अल्जाइमर मस्तिष्क की ऐसी बीमारी है, जिसमें याद रखने की क्षमता, व्यवहार और सोच पर असर पड़ता है। इसके अलावा बीमेट्रिया नाम की बीमारी भी होने लगी है, जिसे सामान्य भाषा में लोग भूलने की आदत कहते हैं। आमतौर पर ये बीमारी 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में होती है लेकिन आजकल की बदलती लाइफस्टाइल के कारण बहुत कम उम्र के लोगों को यह बीमारी चपेट में लेने लगी है। इसीलिए समय रहते अलर्ट हो जाने में ज्यादा समझदारी है।


इस वजह से कमजोर होने लगती है याददाश्त


दरअसल होता ये है कि अगर हमारे दिमाग को कुछ जरूरी पोषक तत्व नहीं मिलते हैं तो वह कमजोर हो जाता है, जिसकी वजह से हमारी याददाश्त भी कमजोर होने लगती है। इसके लिए तनाव मुख्य कारण है, साथ ही इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स पर बढ़ती निर्भरता भी। हमारी लिखने की आदत, याद रखने की जरूरत सब कुछ गैजेट्स पूरी कर रहा है, इसीलिए हमारे दिमाग को उन चीजों को याद रखने की कोई जरूरत महसूस नहीं होती है ओर मेमोरी को सहेजकर रखने वाला लैम्बिक सिस्टम भी कमजोर होने लगता है, जिससे चीजें याद रखने में मुश्किल होती है।


download %281%29


महिलाएं हो रहीं हैं ज्यादा शिकार


चूंकि पुरुषों के मुकाबले महिलाएं एक समय में कई कामों पर फोकस करती हैं जैसे कि घर, ऑफिस, शॉपिंग, बच्चे और उनकी पढ़ाई, रिश्तेदारी और बहुत कुछ। इसीलिए उनके दिमाग में एक समय पर एक साथ कई चीजें चलती रहती हैं और इससे उनका दिमागी संतुलन भी गड़बड़ा जाता है और वो तनाव में आकर चीजें जल्दी भूल जाती हैं।


भूल जाने की आदत से बचने के उपाय


  • रोजाना सुबह सैर पर जाएं। इससे दिमाग की कोशिकाओं में शुद्ध हवा का प्रवाह होता है जोकि दिमाग के ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ता है।

  • मेमोरी पावर बढ़ाने वाले मोबाइल गेम्स या फिर दिमागी कसरत वाले खेल जैसे कि पजल, क्रॉस वर्ड सुडोको आदि को खेलें।

  • इधर- उधर की फालतू बातें अपने दिमाग में न लाएं।

  • मेडीटेशन और योग करें।

  • हर दिन कुछ नया सीखने की ललक मन में जगाएं।

  • भूलकर भी ब्रेकफास्ट करना न भूलें।

  • खाने में हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा करें।

  • नारियल के तेल में बना खाना खाएं। नारियल का तेल हमारे दिमाग के लिए ईंधन की तरह काम करता है।

  • रात में सोते समय हल्दी का दूध पीकर सोयें। इससे हेल्थ तो अच्छी रहेगी ही, साथ ही नींद बीच में टूटेगी भी नहीं।

  • पानी भरपूर मात्रा में पिएं, क्योंकि प्यासे रहने से शरीर में डीहाईड्रेशन होने लगता है और दिमाग कंफ्यूज हो जाता है।

  • कद्दू के बीज का सेवन करना भी फायदेमंद साबित होगा।

  • रात को 5 बादाम भिगोकर रख दें और सुबह उनका छिलका उतारकर दूध के साथ खाएं, इससे मेमोरी पावर बढ़ती है।

  • रोजाना 10 ग्राम अखरोट का सेवन करें। दिमाग के लिए अखरोट से अच्छा कोई टॉनिक नहीं होता।

  • तनाव से मुक्त रहें।

  • कम बोलें और गॉसिप से बचें।

  • किसी भी टास्क को दिये हुए समय में ही पूरा करने की कोशिश करें और काम टालने से बचें।


ये भी पढ़ें -


दिन भर नींद आती रहती है तो इससे बचने के लिए फॉलो करें ये टिप्स


तो इस वजह से महिलाओं को पुरुषों से ज्यादा नींद की है जरूरत


वास्तु टिप्स: भूलकर भी अपने बेड के पास न रखें ये चीजें, होता है भारी नुकसान


आधी रात में खुल जाए अगर नींद तो जानिए क्या होने वाला है आपके साथ