Castor Oil Benefits In Hindi - अरंडी के तेल के फायदे, कैस्टर ऑयल के फायदे, Castor Oil in Hindi, Benefits of Castor Oil in Hindi, Arandi Oil Use in Hindi | POPxo

सौंदर्य व स्वास्थ्य के लिए जानें कैस्टर ऑयल के फायदे और नुकसान - Castor Oil Benefits in Hindi

सौंदर्य व स्वास्थ्य के लिए जानें कैस्टर ऑयल के फायदे और नुकसान - Castor Oil Benefits in Hindi

कैस्टर ऑयल (Castor Oil) यानी अरंडी का तेल सौंदर्य व स्वास्थ्य के लिहाज़ से काफी फायदेमंद माना जाता है। यह एक सुनहरे पीले रंग का तेल होता है। कैस्टर पौधे के बीज को दबाने से एक ठंडा व चिपचिपा पदार्थ निकलता है, जिससे इसका तेल बनाया जाता है। वैज्ञानिक भाषा में इसे रिसिनस कॉम्यूनिस (Risinus Communis) के तौर पर जाना जाता है। कैस्टर का पौधा सिर्फ भारत व अफ्रीका के कुछ खास जंगलों में ही पाया जाता है। कैस्टर ऑयल के इस्तेमाल से त्वचा व बालों की कई तरह की समस्याओं से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। यह स्वास्थ्य के लिए भी किसी जड़ी- बूटी से कम नहीं है।


अरंडी का तेल त्वचा को रखे स्वस्थ - Castor Oil for Health in Hindi


कैस्टर ऑयल में छिपा है स्वस्थ बालों का राज़ - Castor Oil for Hair in Hindi


सेहत के लिए वरदान है कैस्टर ऑयल - Castor oil Health Benefits in Hindi


कैस्टर ऑयल रखे बच्चों का ख्याल - Castor Oil for Babies in Hindi


कैस्टर ऑयल के साइड इफेक्ट्स - Side Effects of Castor Oil in Hindi


Castor oil benefits 


अरंडी का तेल त्वचा को रखे स्वस्थ - Castor Oil for Health in Hindi


कैस्टर ऑयल के साइड इफेक्ट्स (Side Effects of Castor Oil in Hindi)


कैस्टर ऑयल में एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं। इन गुणों के कारण इसका प्रयोग सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाने लगा है। केमिकल युक्त केमिकल उत्पादों का प्रयोग करने के बजाय नैचुरल कैस्टर ऑयल आपको त्वचा की कई समस्याओं से निजात दिला सकता है।


त्वचा का रूखापन हो दूर (Removes dryness) - त्वचा तीन प्रकार की होती है, रूखी, तैलीय और मिलीजुली। ड्राई स्किन वालों के लिए अरंडी का तेल किसी वरदान से कम नहीं है। अगर आप रूखी त्वचा से परेशान हैं तो कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करने से आपको काफी फायदा हो सकता है। इससे रूखी त्वचा में नमी की कमी नहीं रहती है।


टिप : रूई को कैस्टर ऑयल में भिगोकर अपने चेहरे पर लगाएं। 1 घंटे तक लगाए रखने के बाद चेहरा धो लें।


खत्म करे मुंहासों की समस्या (Castor oil for acne) - आमतौर पर ऑयली स्किन या मुंहासों की समस्या से परेशान लोगों को किसी भी तेल का इस्तेमाल करने से मना किया जाता है। मगर अरंडी का तेल मुंहासों को कम करने में लाभदायक हो सकता है। अगर आपकी स्किन भी एक्ने (Acne) प्रोन है तो कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करने से कोई नुकसान नहीं होगा।Castor oil beauty benefits


टिप : अपने चेहरे को गर्म पानी से धो लें, जिससे कि चेहरे के पोर्स खुल जाएं। फिर कैस्टर ऑयल को रात भर चेहरे पर लगाकर रखें और सुबह ठंडे पानी से चेहरा साफ कर लें।


ये भी पढ़ें : निखार के लिए अपनाएं ये ब्यूटी टिप्स


मिटाए बढ़ती उम्र के निशान (Fights signs of aging) - एंटी एजिंग तत्व के तौर पर भी अरंडी का तेल फायदेमंद माना जाता है। अगर इसका नियमित तौर पर प्रयोग किया जाए तो यह बढ़ती उम्र के निशानों को छिपाने में भी मदद करता है। यह स्किन को हाइड्रेट करता है, जिससे झुर्रियों (Wrinkles) की समस्या दूर होती है और त्वचा नरम, साफ व जवां नज़र आती है।


टिप : कैस्टर ऑयल की कुछ बूंदों से चेहरे की मालिश कर रात भर के लिए छोड़ दें और सुबह होते ही पानी से धो लें।


ये भी पढ़ें : चेहरे से झुर्रियां दूर करने के लिए बड़े काम के हैं ये आसान घरेलू उपाय


मॉइस्चराइज़र को कहें गुडबाय - कैस्टर ऑयल त्वचा को मॉइस्चराइज़ रखने में भी मददगार होता है। अगर आप त्वचा को मॉइस्चराइज रखने के लिए सस्ता व घरेलू उपाय तलाश रहे हैं तो कैस्टर ऑयल से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। इसका इस्तेमाल करने के बाद आप केमिकल युक्त मॉइस्चराइजर (Moisturizer) को अपने ड्रेसिंग टेबल से खुद ही हटा देंगे।


टिप : अपने चेहरे को अच्छी तरह से साफ कर लें, फिर कैस्टर ऑयल से धीरे- धीरे चेहरे की मालिश करें।


मालिश से मिटें स्ट्रेच मार्क्स (Castor oil for stretch marks) - गर्भावस्था के बाद अकसर मांओं को स्ट्रेच मार्क्स की समस्या हो जाती है। डिलिवरी के कुछ समय बाद तक पेट के निचले हिस्से की त्वचा में खिंचाव होता रहता है।आमतौर पर इलास्टिक यानी कि लचीली त्वचा पर स्ट्रेच मार्क्स कम पड़ते हैं। ऐसे में कैस्टर ऑयल से मालिश करने पर स्ट्रेच मार्क्स की समस्या से भी निजात पाया जा सकता है।


टिप : कैस्टर ऑयल से 15- 20 मिनट तक प्रभावित हिस्से पर मसाज करें। बेहतर रिज़ल्ट के लिए इस प्रक्रिया को रोज़ दोहराएं।


ये भी पढ़ें : स्ट्रेच मार्क्स हटाने के आसान घरेलू उपाय


दाग- धब्बों से पाएं निजात - अगर आपके चेहरे पर दाग- धब्बे (Face blemishes) या मुंहासों के निशान हैं तो कैस्टर ऑयल के इस्तेमाल से उनसे निजात पा सकते हैं। अरंडी के तेल में मौजूद फैटी एसिड चेहरे को साफ करता है। ये फैटी एसिड्स त्वचा के स्कार टिश्यू (Tissue) में प्रवेश करते हैं और इसके चारों तरफ स्वस्थ टिश्यू का विकास करते हुए उसे बाहर कर देते हैं।


टिप : यह धीरे- धीरे काम करता है, अच्छा परिणाम देखने के लिए नियमित तौर पर कैस्टर ऑयल का प्रयोग करें।


डार्क सर्कल्स (Dark circles) से पाएं छुटकारा - देर रात तक जगने या अत्यधिक तनाव लेने की स्थिति में अक्सर लोगों की आंखों के नीचे कालापन रहने लगता है, जिसे डार्क सर्कल भी कहते हैं। डार्क सर्कल्स देखने में तो अजीब लगते ही हैं, ये व्यक्ति की मानसिक स्थिति भी बयां कर देते हैं। अगर आप भी इस समस्या से परेशान हैं तो अरंडी का तेल आपके काम आ सकता है।


ये भी पढ़ें : आंखों के नीचे काले घेरे हटाने के आसान घरेलू उपाय


टिप : आंखों के नीचे यानी कि डार्क सर्कल्स वाली जगह पर कैस्टर ऑयल से मालिश करें। इससे इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।Castor oil benefits for facial treatment


होंठों (Lips) के लिए वरदान -  बहुत केयर करने के बावजूद कुछ लोगों के होंठ काले होने के साथ ही फटने भी लगते हैं। ऐसा अत्यधिक धूम्रपान (Smoking) या किसी लिप केयर प्रोडक्ट के नुकसान करने से होता है। अपने होंठों की गुलाबी रंगत को वापस पाने के लिए होंठों पर रोज़ाना कैस्टर ऑयल लगाएं। इससे फायदा ज़रूर मिलेगा।


कैस्टर ऑयल का फेस पैक (Castor oil face pack) - ब्लेंडर में 2 टीस्पून कैस्टर ऑयल, 1 अंडे की सफेदी (Egg white), नींबू के रस (Lemon juice) की 5 बूंदों और जैस्मिन ऑयल (Jasmine Oil) की 2 बूंदों को मिला लें। फिर इसकी एक लेयर को साफ चेहरे पर लगाएं और 2-3 मिनट के अंतर पर दो लेयर और लगाएं। इस पैक को 15- 20 मिनट तक चेहरे पर लगाए रखने के बाद हल्के गुनगुने पानी से धो लें। इसको आईब्रो और होंठों पर भी लगा सकते हैं।


कैस्टर ऑयल में छिपा है स्वस्थ बालों का राज़ - Castor Oil for Hair in Hindi


काले, लंबे व घने बालों के लिए दादी मां के नुस्खों से लेकर डॉक्टर के परामर्श तक सब कुछ किया जाता है। बालों की अत्यधिक केयर करने के बावजूद बदलती जीवनशैली और प्रदूषण की वजह से बालों की समस्याओं से जूझना आम बात हो गई है। कैस्टर ऑयल से बालों को फिर से स्वस्थ किया जा सकता है।


ऑयल मसाज से बरकरार रहे चमक - बालों को लंबा, घना व उनकी कुदरती चमक को बरकरार रखने के लिए नियमित तौर पर कैस्टर ऑयल से सिर की मसाज करनी चाहिए। भारत में पाई जाने वाली बरडॉक की जड़ (Burdock plant) को अगर कैस्टर ऑयल के साथ मिलाकर बालों पर लगाया जाए तो बालों की खोई हुई चमक वापस आ सकती है।


कैस्टर ऑयल से रुके बालों का झड़ना - बालों का झड़ना (Hairfall) अब एक आम समस्या है। बालों को झड़ने से रोकने के लिए मेथी के बीज के पाउडर में कैस्टर ऑयल मिलाकर एक पैक तैयार करें और हफ्ते में एक बार बालों पर लगाएं। इससे बालों की जड़ें मज़बूत होती हैं और उनका गिरना कम हो जाता है।


डैंड्रफ को कहें गुडबाय - कुछ लोग स्कैल्प में इंफेक्शन की समस्या से ग्रस्त होते हैं, जिससे वे सिर में खुजली, गंजेपन व डैंड्रफ (Dandruff) जैसी परेशानियों से जूझने लगते हैं। हर बार बाल धोने से पहले अगर कैस्टर ऑयल से सिर की मालिश कर ली जाए तो बालों की इन समस्याओं से बचा जा सकता है। यह तेल बालों की अंदरूनी परत पर जाकर सूक्ष्मजीवों को बढ़ने से रोकता है।


हेयर कंडीशनर भी है अरंडी का तेल - बालों की सौम्यता बनाए रखने के लिए हेयर कंडीशनर्स का इस्तेमाल किया जाता है। बालों को उनकी जड़ों से कंडीशन करने में कैस्टर ऑयल भी सहायता करता है। कैस्टर ऑयल में विटामिन ई के तत्व पाए जाते हैं, जिनसे बालों को पोषण मिलता है। कैस्टर ऑयल से रूखे व बेजान बालों का इलाज भी किया जा सकता है।Castor oil benefits for hair


बाल होंगे लंबे व घने -  कैस्टर ऑयल से सिर की मालिश करने से बालों को लंबा और घना किया जा सकता है। इस तेल में मौजूद ओमेगा 9 (Omega 9) फैटी एसिड से बाल स्वस्थ होते हैं। बालों में खुजली व डैंड्रफ होने से भी बाल झड़ने लगते हैं, कैस्टर ऑयल इन सभी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित होता है।


रोके सफेद बालों को - कई लोगों के बाल असमय ही सफेद होने लगते हैं। बालों का प्राकृतिक रंग बचाए रखने के लिए भी कैस्टर ऑयल के फायदे को नकारा नहीं जा सकता है। अगर आपके बालों में भी सफेदी नजर आने लगी हो तो कैस्टर ऑयल के प्रयोग से पिगमेंट्स को खत्म होने से बचा सकते हैं।


आईब्रो (Eyebrow) के लिए भी फायदेमंद - कुछ लड़कियों की आईब्रो की ग्रोथ काफी कम होती है। इसके लिए हर रोज़ कैस्टर ऑयल से आईब्रो की मालिश करें। अगर भौंहों में रूसी की समस्या से परेशान हैं तो सोने से पहले इस तेल की कुछ बूंदों से भौंहों की मालिश करें। एक हफ्ते के अंदर ही बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे।


कैस्टर ऑयल का हेयर पैक - 2 टेबलस्पून कैस्टर ऑयल (अरंडी का तेल), 2 टेबलस्पून कोकोनट ऑयल (नारियल का तेल, Coconut oil) और 2 टेबलस्पून ऑलिव ऑयल (Olive oil) को एक साथ मिला लें। फिर इससे हफ्ते में एक बार बालों की मसाज करें।


सेहत के लिए वरदान है कैस्टर ऑयल - Castor oil Health Benefits in Hindi


कैस्टर ऑयल प्राकृतिक औषधीय गुणों से भरपूर होता है, जो कि अच्छी सेहत के लिए किसी वरदान से कम नहीं होते। इसके एंटी इन्फ्लामेट्री और एंटी बैक्टीरियल गुण चमत्कार की तरह काम करते हैं। स्वास्थ्य की कई समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए कैस्टर ऑयल का प्रयोग कर सकते हैं।


ये भी पढ़ें : इन 5 डाइट टिप्स से रहें स्वस्थ


कब्ज को करे दूर - कैस्टर ऑयल में वसा युक्त फैटी एसिड पाया जाता है, जिससे आंतों (Intestines) की दीवारों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। कब्ज (Constipation) की समस्या से निजात पाने के लिए दिन के समय में कैस्टर ऑयल की 15 मिलीलीटर की खुराक ली जा सकती है। हालांकि, गर्भवती महिलाओं व छोटे बच्चों को इसे पीने से बचना चाहिए।


गठिया में फायदेमंद - अरंडी का तेल गठिया (Arthritis) के रोग में राहत पहुंचाता है। कैस्टर ऑयल से जोड़ों (Joints) और ऊतकों (Tissues) के दर्द को कम किया जा सकता है। एक कपड़े को अरंडी के तेल में डुबोएं, फिर दर्द वाली जगह पर लगाएं। इसमें सूजन को कम करने वाले गुण भी पाए जाते हैं।


घावों को भरने में प्रभावी - अरंडी का तेल कट्स (Cuts) और खरोंच पर एक अच्छे एंटीसेप्टिक (Antiseptic) के तौर पर काम करता है। अध्ययनों के मुताबिक, जिस मरहम में कैस्टर ऑयल मौजूद होता है, वे विशेष रूप से अल्सर (Ulcer) को ठीक करने में सहायक होते हैं। घाव भरने के साथ ही यह दर्द को भी कम करता है।Castor oil beauty and hair benefits


दाद का मुमकिन है इलाज - दाद (Ringworm) एक ऐसी आम और जिद्दी समस्या है, जो किसी भी आयु वर्ग के व्यक्ति को हो सकती है। 2 चम्मच अरंडी के तेल में 4 चम्मच नारियल तेल मिलाकर दाद वाली जगह पर लगाएं। दाद के उपचार के लिए कैस्टर ऑयल को काफी प्रभावी माना जाता है।


इम्यून सिस्टम होगा मजबूत - नेचुरोपैथी (Naturopathy) के चिकित्सकों की मानें तो कैस्टर ऑयल से रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immune system) मजबूत होती है। दरअसल, बाहरी तौर पर कैस्टर ऑयल का प्रयोग करने से टी- 11 कोशिकाओं की संख्या बढ़ जाती है, जिससे स्वास्थ्य बेहतर होता है। टी- 11 कोशिकाएं एंटीबॉडी की तरह काम करती हैं।


पीठ दर्द से निजात - पीठ दर्द के इलाज के लिए कैस्टर ऑयल काफी प्रभावी माना जाता है। अगर पीठ में दर्द हो रहा हो तो वहां अरंडी का तेल लगाएं और साफ व मुलायम कपड़े से उस जगह को ढक दें। फिर पीठ पर गर्म पानी की थैली रखें और तीन दिनों तक इसी प्रक्रिया को दोहराएं। इससे दर्द में राहत ज़रूर मिलेगी।


वजन कम करने में सहायक - जीवनशैली (Lifestyle) में बदलाव की वजह से आजकल ज्यादातर लोग मोटापे व बढ़ते वजन की समस्या से परेशान हैं। वजन कम करने के लिए (Weight loss) वे हर तरह के उपायों को अपनाते रहते हैं। अगर आप भी वजन कम करना चाहते हैं तो सुबह खाली पेट एक चम्मच कैस्टर ऑयल का सेवन करें।


ये भी पढ़ें : वेटलॉस के लिए बेस्ट हैं ये 5 योगासन


दांत भी हों चमकदार - कई लोग अपने डेंटिस्ट के सुझाव के अनुसार अपने दांतों का ख्याल (Dental care) रखते हैं तो वहीं काफी लोग ऐसे भी हैं जो डेंटिस्ट के पास जाने में हिचकिचाते हैं। अगर आप भी दांतों की चमक को बरकरार रखने के लिए घरेलू उपाय तलाश रहे हैं तो अरंडी के तेल का प्रयोग करें। यह मुंह के बैक्टीरिया और दुर्गंध को दूर करता है।


आंखों को रखे साफ - कैस्टर ऑयल में विटामिन ई के साथ फैटी एसिड और रिसिनोलिक एसिड पाया जाता है, जिनसे आंखों के अंदर की गंदगी को बाहर निकालने में मदद मिलती है। यह तेल आंखों की सफाई के लिए सबसे अच्छे एजेंट के तौर पर काम करता है। यह आंखों के नीचे पड़ने वाली लाइनों को भी हटाता है।


कैस्टर ऑयल रखे बच्चों का ख्याल - Castor Oil for Babies in Hindi


अरंडी के तेल में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी बैक्टीरिय गुण बच्चों की त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद माने जाते हैं। लंबे समय से बड़े- बुज़ुर्ग बच्चों की अच्छी सेहत के लिए कैस्टर ऑयल का प्रयोग करते आ रहे हैं। जानें इसके फायदे।


त्वचा में नमी के लिए - छोटे बच्चों की त्वचा बहुत ही शुष्क होती है, ऐसे में अरंडी के तेल से मालिश करने से शुष्क त्वचा पोषित, खूबसूरत और मुलायम हो जाती है। यह शिशुओं को चकत्ते (Rashes), खुजली व बेजान त्वचा से होने वाली समस्या से भी निजात दिलाता है। बच्चे को नहलाने के बाद अरंडी के तेल की कुछ बूंदों से उसकी मालिश करें।


घने व सुंदर बालों के लिए - अरंडी के तेल से बच्चों के स्कैल्प पर मसाज करना सुरक्षित व फायदेमंद होता है। इससे बच्चे के बाल घने व चमकदार हो जाते हैं। हालांकि, अरंडी के तेल को बच्चे के शरीर पर लगाते समय सावधानी भी बरतनी चाहिए। अपने बच्चे की आंखों, गुप्तांगों और होंठों पर इसे लगाने से बचें।


रैशेज़ से बचने के लिए - डायपर (Diaper) का इस्तेमाल करना बेहद आम है पर यह बच्चों की त्वचा को नुकसान पहुंचाता है। डायपर के अत्यधिक इस्तेमाल से बच्चों में रैशेज़ की समस्या होने लगती है। अरंडी के तेल की कुछ बूंदों का इस्तेमाल कर आप बच्चे को रैशेज़ से होने वाली खुजली से राहत दिला सकती हैं।


दर्द से आराम के लिए - कोई भी मां अपने बच्चे को दर्द में नहीं देख सकती है मगर ग्रोइंग एज में बच्चोंं को कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ता है। बच्चों के लगातार विकसित होने से उनकी मांसपेशियों में दर्द रहने लगता है। अरंडी के तेल से मालिश करने पर मांसपेशियों में होने वाले दर्द से बच्चे को राहत मिलती है।Baby using castor oil


कैस्टर ऑयल का दूसरे तेलों के साथ कॉम्बिनेशन


आमतौर पर अरंडी का तेल उसके शुद्ध रूप में ही इस्तेमाल किया जाता है। मगर ऐसा नहीं है कि इसे दूसरे तेलों के साथ मिलाने से कोई नुकसान होता हो। ऐसे कई तेल हैं, जिनके साथ कैस्टर ऑयल को आसानी से मिक्स किया जा सकता है।


हेयर सीरम : कैस्टर ऑयल + जोजोबा ऑयल - हेयर सीरम बनाने के लिए 3 चम्मच कैस्टर ऑयल और 1 चम्मच जोजोबा ऑयल (Jojoba oil) या आर्गन ऑयल (Argan oil) को मिलाएं। इस मिश्रण से 5 मिनट तक बालों की मसाज करें।


एंटी एजिंग ऑयल : कैस्टर ऑयल + ऑलिव ऑयल - अरंडी के तेल और ऑलिव ऑयल को 1:3 के अनुपात (Ratio) में मिला लें। फिर इससे चेहरे की मसाज करें। त्वचा तैलीय हो तो ऑलिव ऑयल के बजाय जोजोबा ऑयल का प्रयोग करें।


हैंड क्रीम : कैस्टर ऑयल + सीसम ऑयल - हैंड क्रीम बनाने के लिए कैस्टर ऑयल और सीसम ऑयल (Sesame oil) यानी कि तिल के तेल को 1:1 के अनुपात में मिला लें। हाथों पर इस मिश्रण को लगाने से हाथ कोमल महसूस होने लगेंगे।Castor oil


हेयर ग्रोथ : कैस्टर ऑयल + आमंड ऑयल - बालों की अच्छी ग्रोथ के लिए कैस्टर ऑयल और आमंड ऑयल (Almond oil) यानी कि बादाम के तेल को बराबर मात्रा में मिलाकर स्कैल्प की मसाज करें। इसके बाद सिर को ढक लें और सुबह बालों को धो लें।


ड्राई स्किन : कैस्टर ऑयल + कोकोनट ऑयल - लंबे समय से त्वचा के रूखेपन से परेशान हैं तो कैस्टर ऑयल और कोकोनट ऑयल (Coconut oil) यानी कि नारियल के तेल को 1:1 के अनुपात में मिला लें। इस समस्या को दूर करने के लिए दिन में दो बार इससे चेहरा साफ करें।


कैस्टर ऑयल के साइड इफेक्ट्स - Side Effects of Castor Oil in Hindi


जैसे हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, उसी तरह हर चीज़ के भी फायदे और नुकसान, दोनों होते हैं। माना कि कैस्टर ऑयल के बहुत फायदे हैं पर इसके साइड इफेक्ट्स को भी नकारा नहीं जा सकता है। अरंडी के तेल का इस्तेमाल करने से पहले उससे होने वाले नुकसान के बारे में भी जान लें।


1. त्वचा, आंखों या बालों पर कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करने से पहले इसका पैच टेस्ट ज़रूर कर लें। कुछ लोगों को इसके इस्तेमाल से रैशेज़ या एलर्जी भी हो जाती है।
2. कैस्टर ऑयल काफी गर्म होता है, इसके ज्यादा सेवन से दस्त की समस्या हो सकती है। इसका इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक की राय ज़रूर लें।
3. कैस्टर ऑयल का बहुत ज्यादा सेवन से पेट में ऐंठन, उल्टी, कमजोरी व चक्कर आने जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।
4. गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन से बचना चाहिए। स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को भी चिकित्सीय परामर्श के बाद ही इसका सेवन करना चाहिए।
5. कई ब्रांड्स लिपस्टिक (Lipstick) में कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल करती हैं। अगर आपको कैस्टर ऑयल से एलर्जी हो तो लिपस्टिक का प्रयोग न करें।
अरंडी का तेल इस्तेमाल करने के बाद अगर सांस लेने में दिक्कत हो, त्वचा पर लाल चकत्ते, खुजली या सूजन जैसी दिक्कत महसूस हो रही हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।


इनपुट्स : स्टार सलॉन अकैडमी की सेलिब्रिटी मेकअप आर्टिस्ट आशमीन मुंजाल, वीएलसीसी की वाइस प्रेसिडेंट (ब्यूटी) सत्या शर्मा, सीनियर कंसल्टेंट फिजीशियन डॉ. रतन कुमार वैश्य