रहस्यमयी है वृंदावन का निधिवन, जहां रात में रूकना मना है - Mystery About Nidhivan in Hindi | POPxo
Home
रहस्यमयी है वृंदावन का निधिवन, जिसने भी देखी यहां की रासलीला हो गया पागल - Mystery About Nidhivan in Hindi

रहस्यमयी है वृंदावन का निधिवन, जिसने भी देखी यहां की रासलीला हो गया पागल - Mystery About Nidhivan in Hindi

वृंदावन के निधिवन के बारे में तो आपने बहुत से लोगों से सुना ही होगा। फिजूल लगने वाले वृंदावन के निधिवन के बारे में कुछ भी कहा जाए, लेकिन यहां आज भी मौजूद है भगवान श्रीकृष्ण की रासलीला के सबूत। इस जगह को लेकर मान्यता है कि हर रात यहां भगवान श्रीकृष्ण आते हैं और गोपियों के साथ रास रचाते हैं। रात के समय इस परिसर में कोई भी इंसान नहीं रहता है और न ही कोई पशु- पक्षी। आज तक जिसने भी यहां रासलीला देखने का साहस किया है या तो वो सुध - बुध खो बैठा है या फिर इस दुनिया में ही नहीं रहा। यही वजह है कि निधिवन के आस- पास बने मकानों में भी खिड़कियां नहीं हैं। ताकि रात के इस रहस्यमयी दृश्य को कोई भी देख न सके। आपको बता दें कि निधिवन में तुलसी के जो पौधे हैं वो जोड़े में है और ये मान्यता है कि जब राधा- कृष्ण वन में रास रचाते हैं तो ये जोड़ेदार तुलसी के पौधे ही गोपियां बन जाते हैं और सुबह होते ही तुलसी के पौधे के रूप में बदल जाती है।


रंग महल में करते कान्हा, राधा संग विश्राम


निधिवन के अंदर ही एक छोटा सा महल भी है, वो भी किसी और का नहीं बल्कि देवी राधा का महल है जिसे रंग महल के नाम से जाना जाता है। जानकार बताते हैं कि हर रात कान्हा इस महल में आते हैं और देवी राधा के साथ आराम करते हैं। इसीलिए शाम होने से पहले ही मंदिर में पलंग, पानी से भरा एक लोटा और साथ ही सुहाग का पिटारा, पानी आदि रखा जाता है। अगले दिन सुबह 5 बजे पट खुलता है तो सारा सामान बिखरा नजर आता है। यही नहीं पान खाया हुआ और पानी का लोटा भी खाली मिलता है।


lal122-650x445


रहस्यमयी ढ़ग से बढ़ते हैं यहां के पेड़


निधिवन को एक नजर में देखने पर यही लगता है कि कुछ तो बात है यहां जो इसे दूसरी जगहों से एकदम अलग करती है। यहां के पेड़ों को जब आप करीब से देखेंगे तो आप भी यही कहेंगे कि आपने ऐसे पेड़ और कहीं नहीं देखे हैं। दरअसल, यहां हर जगह पेड़ की शाखाएं ऊपर की और बढ़ती हैं, लेकिन निधिवन के पेड़ों की शाखाएं नीचे की ओर बढ़ती हैं। जिसकी वजह से यहां के पेड़ इतने घने हो जाते हैं कि इनके बीच से निकलना भी मुश्किल होता है।


vishakha-kund


कान्हा ने अपनी वंशी से खोदा था यहां का कुंड


निधिवन में स्थित विशाखा कुंड के बारे में कहा जाता है कि जब भगवान श्रीकृष्ण सखियों के साथ रास रचा रहे थे, तभी एक सखी विशाखा को प्यास लगी। कोई व्यवस्था न देख कृष्ण ने अपनी वंशी से इस कुंड की खुदाई कर दी, जिसमें से निकले पानी को पीकर विशाखा सखी ने अपनी प्यास बुझाई और तभी से इस कुंड का नाम विशाखा कुंड पड़ गया।


यहां वंशी चोर राधा रानी का भी है मंदिर


राधा रानी के इस मंदिर के बारे में जानकार बताते हैं कि राधा जी को कान्हा की मुरली यानि वंशी से बहुत जलन होती थी। क्योंकि वो ज्यादातर समय अपनी वंशी ही बजाते थे और राधा जी की ओर ध्यान नहीं देते थे। इसी वजह से परेशान होकर राधा जी ने कान्हा की वंशी चुरा ली और जहां छुपाई वहीं आज राधा जी का मंदिर बना है। इसीलिए उन्हें वंशी चोर राधा रानी के नाम से जाना जाने लगा।


इन्हें भी पढ़ें -


1. इस जन्माष्टमी अपनी राशि के अनुसार लगाएं कान्हा को भोग और पाएं मनचाही मुराद
2. जानिए कैसे हुई थी भगवान श्रीकृष्ण की मृत्यु
3. इस गुफा में छुपा है दुनिया के खत्म होने का रहस्य
4. इस मंदिर में देवी मां को आता है पसीना, देख लेने से हो जाती है मुराद पूरी

प्रकाशित - अगस्त 31, 2018
Like button
2 लाइक्स
Save Button सेव करें
Share Button
शेयर
और भी पढ़ें
Trending Products

आपकी फीड