देसी शादियों में विदाई की रस्म और मां-बाप के साथ बेटी के इमोशनल पल..

देसी शादियों में विदाई की रस्म और मां-बाप के साथ बेटी के इमोशनल पल..

जब शादी की रस्में पूरी हो जाती हैं तो दुल्हन को अपने आधिकारिक पति के साथ अपने ससुराल जाना पड़ता है। ऐसे में एक पल ऐसा भी आता है, जो दुल्हन और उसके परिवार के लिए काफी इमोशनल हो जाता है। यही इमोशनल पल विदाई का सबसे अनमोल पल होता है। जब दुल्हन अपने परिवार से दूर होकर अपने पति के घर की तरफ बढ़ती है। यहां हम अपनी देसी भारतीय शादियों की कुछ इमोशनल और कुछ खुशी से भरपूर विदाई के पलों की कुछ तस्वीरें आपके साथ शेयर कर रहे हैं। 
 
पापा की लाडली
विदाई पर माता पिता के साथ- साथ उनकी बेटी यानि कि दुल्हन के बहते आंसू खुशी के साथ- साथ दुख को भी प्रदर्शित करते हैं कि वह अपने परिवार से दूर हो रही है। इन इमोशनल पलों के दौरान, यह बहुत जरूरी है कि उसका दूल्हा उसके साथ न केवल खड़ा है बल्कि उसके माता-पिता को वचन दे कि वह हमेशा उनकी बेटी यानि अपनी पत्नी का साथ देगा उसके पिता की तरह उसका ख्याल रखेगा।


Father daughter in vidai


पिता का आशीर्वाद


विदाई के वक्त में दुल्हन के माता- पिता खुशी और दुख के इमोशंस के बीच बहते हैं। वो दूल्हा और दुल्हन को अपने दिल और आत्मा से आशीर्वाद देते हैं। यहां एक शॉट है जिसमें पिता अपनी बेटी को कसकर गले लगाये हुए है।


सभी को अलविदा


भारतीय विवाह उन क्षणों से भरे हुए हैं जो सुंदर, महत्वपूर्ण और भावनात्मक भी हैं। विदाई समारोह के बाद उसकी कार में बैठे दुल्हन का एक शॉट यहां दिया गया है। वह अब अपने पति और उसके परिवार के साथ अपने नए घर की ओर बढ़ने के लिए तैयार है। वह सभी को अलविदा कह रही है!


पिता की राजकुमारी


Father- daughter moments


जब दुल्हन अपने दूल्हे के साथ अपने नए घर जाने के लिए अपने पिता के घर से निकलती है, उसके माता-पिता दूल्हे का हाथ पकड़ कर अपनी प्यारी बेटी का ख्याल रखने को कहते हैं। यह हर पिता की इच्छा है कि उसकी बेटी हमेशा राजकुमारी की तरह रहे। दुल्हन अपने प्यारे पिता का आशीर्वाद लेकर अपने नए घर की ओर चल देती है।


नए जीवन की शुरुआत


इसी विदाई के बाद दुल्हन अपने दूल्हे के साथ एक नए जीवन की शुरुआत करती है।


दुल्हन का अपने पीछे चावल फेंकना


Rice Ceremony in vidai


विदाई की रस्में यह भी दर्शाती हैं कि दुल्हन अपने माता-पिता को उनके पालन- पोषण की याद दिलाती है। जैसे ही दुल्हन अपने हाथ में चावल लेकर अपने पीछे की ओर फेंकती है, उसके माता-पिता और अन्य करीबी परिवार के सदस्य इसे अपने पल्लू में लेने के लिए तत्पर रहते हैं।


(फोटो और कंटेंट -कुणाल खन्ना, डायरेक्टर, व्हाइट फ्रॉग प्रोडक्शंस)


इन्हें भी देखें -