सीबीएसई पेपर लीक मामले में छात्रों में बढ़ा असमंजस और तनाव

सीबीएसई पेपर लीक मामले में छात्रों में बढ़ा असमंजस और तनाव

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेंकडरी एजुकेशन (सीबीएसई) बोर्ड के बारहवीं और दसवीं के दो पेपर लीक होने के बाद बारहवीं की इकोनॉमिक्स की परीक्षा 25 अप्रैल को होने की तो घोषणा हो गई है लेकिन दसवीं की मैथमैटिक्स की परीक्षा पर अभी असमंजस कायम है। इस बारे में शिक्षा सचिव अनिल स्वरूप का कहना है कि अगर जरूरत हुई तो दसवीं की गणित की परीक्षा दोबारा सिर्फ़ दिल्ली और हरियाणा में ही ली जाएगी। उन्होंने कहा कि इस बारे में हो रही जांच में ये पता लगा है कि मैथ्स का पेपर दिल्ली और हरियाणा में ही लीक हुआ था, इसलिए तय किया गया है कि यह परीक्षा दोबारा सिर्फ दिल्ली और हरियाणा के स्कूलों के बच्चों की ही जुलाई में होगी।"  


सीबीएसई बोर्ड पेपर लीक मामले की वजह से दसवीं और बारहवीं के सभी प्रभावित छात्र और उनके माता-पिता परेशान हैं, लेकिन खासतौर पर दसवीं के छात्रों में ज्यादा तनाव देखा जा रहा है।


असमंजस की स्थिति


उधर दिल्ली में कैंब्रिज स्कूल, श्रीनिवासपुरी में दसवीं क्लास के बोर्ड पेपर देने वाली छात्रा पाखी का कहना है कि उनका मैथ्स का पेपर तो इस बार बहुत ही अच्छा हुआ था, अब दोबारा पता नहीं कैसा पेपर आएगा। इसके अलावा आजकल न्यूज में कभी कुछ और कभी कुछ और कहा जा रहा है। समझ ही नहीं आ रहा है कि क्या सच है और क्या झूठ। कोई कह रहा है कि हमारा मैथ्स का एग्जाम होगा और कोई कह रहा है कि नहीं होगा। किसी का कहना है कि मैथ्स का पेपर जुलाई में होगा। ऐसे में अब न तो पढ़ने में मन लग रहा है और न ही कुछ और काम करने में। ऐसे में हमारी क्लास के सारे बच्चों का मन तो अजीब सा हो गया है कि करें तो क्या करें।


CBSE


कैसे होगी नुकसान की भरपाई


दिल्ली के एहलकॉन पब्लिक स्कूल की बारहवीं क्लास की इशिता का कहना है कि बोर्ड के एग्जाम वैसे भी छात्रों के लिए तनाव की वजह होते हैं, और फिर यह इतने लंबे समय तक चलते हैं। हमें तो पहले से ही लग रहा था कि कब ये एग्जाम खत्म हों और हमारी टेंशन खत्म हो, लेकिन अब यह एग्जाम दोबारा होगा। पहले ही जिस एग्जाम के लिए इतना ज्यादा पढ़ा था, अब फिर से इस बोरिंग सबजेक्ट को पढ़ना पड़ेगा। इशिता की मम्मी का कहना है कि हमने तो मनाली जाने के लिए टिकट भी बुक करवा लिये थे, अब तो वहां जाना संभव ही नहीं है। फ्लाइट टिकट और होटल बुकिंग के लिए हुए हमारे इस नुकसान की भरपाई कौन करेगा।


छुट्टियां हुईं प्रभावित


पेपर लीक के इस मामले से न सिर्फ बच्चे तनाव में हैं बल्कि उनकी छुट्टियां भी प्रभावित हुई हैं। दिल्ली के एहलकॉन स्कूल में दसवीं में पढ़ने वाली वैभवी शर्मा का कहना है कि आजकल रोज- रोज न्यूज में पेपर लीक करने वाले लोगों की गिरफ्तारी की खबरें आ रही हैं। कहीं कोई कोचिंग सेंटर वाला पकड़ा जाता है तो कहीं कोई प्रिंसीपल, लेकिन हम लोगों को बिना कोई गलती किये यह सजा क्यों मिल रही है। यह समस्या तो सीबीएसई की है, हमारी सारी छुट्टियां क्यों बर्बाद की जा रही हैं। अब कब अगला सेशन शुरू होगा और कैसे हम ग्यारहवीं की पढ़ाई कर पाएंगे।


 CBSE Board 2


पेपर लीक की खबरों से दहशत


इसके अलावा अखबारों में इन दो पेपरों के अलावा दूसरे भी कई पेपरों के लीक होने की भी खबरें आ रही हैं, जिससे छात्र और उनके अभिभावक बेहद दहशत में हैं। उन्हें डर है कि कहीं दूसरे विषयों के पेपर लीक होने की खबरें भी सच न साबित हों और उन्हें और भी पेपर दोबारा देने पड़ जाएं। यह मामला अब सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंच गया है और अब इंतजार है इस मामले में किसी अच्छी खबर का… जिससे छात्रों की निराशा, तनाव और असमंजस खुशी में बदल सके।


इन्हें भी देखें -