17 साल की उम्र में फिजिकल अब्यूज का शिकार हुई थी कंगना

17 साल की उम्र में फिजिकल अब्यूज का शिकार हुई थी कंगना

बॉलीवुड की क्वीन कंगना रणावत हमेशा से अपने बेबाक और बोल्ड अंदाज के लिए चर्चा में रहती हैं। इंडस्ट्री में उन्हें एक सेल्फमेड वुमन के तौर पर जाना जाता है। फिल्मों में उनका शुरुआती सफर इतना आसान नहीं रहा है। तमाम मुश्किलों से लड़कर उन्होंने बॉलीवुड में आज ये मुकाम पाया है। कंगना आज इंडस्ट्री में सबसे ज़्यादा फीस पानी वाली हीरोइनों में से एक हैं। कंगना फिल्म इंडस्ट्री की उन चुनिंदा कलाकारों में से हैं, जिन्होंने खुलकर अपने मन की बात कहने में कभी कोई परहेज नहीं किया। आइए उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनके जिंदगी से जुड़े कुछ राज -


17 साल की उम्र में फिजिकल अब्यूज का शिकार


pjimage %2812%29


एक बुक लांच के दौरान कंगना ने बताया कि वो भी फिजिकल अब्यूज का शिकार हो चुकी हैं। उन्होंने बताया, ‘मैं उस समय 17 साल की थी। मेरी पिता की उम्र का एक आदमी जो मेरे करियर के लिए खुद को गॉडफादर बताता था, उसी ने मुझे फिजिकली अब्यूज किया। मेरा पीछा करते हुए उसने मेरे सिर पर बहुत तेजी से मारा था कि मेरे सिर से खून निकलने लगा था। इसके बाद मैंने अपनी सैंडल उतारकर उसके सिर पर इतनी जोर से मारी कि उसके सिर से भी खून निकलने लगा। मैं किसी तरह से वहां खुद को बचाकर भागी।’ उन्होंने उसके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज करवाई थी। ऐसी हरकत करने वाला वो शख्स मुंबई फिल्म इंडस्ट्री से ही था। कंगना के अनुसार उस दिन उन्होंने अपने आप को समझा लिया था कि वह अकेले अपनी लड़ाई  खुद लड़ सकती हैं।


आसान नहीं था स्ट्रगलिंग पीरियड


pjimage %2815%29


एक इंटरव्यू के दौरान कंगना ने बताया कि जब उन्होंने करियर की शुरुआत की थी तो उनपर काफी लोगों ने लाइन मारने की कोशिश की। क्या शादीशुदा, क्या कुंवारे, बूढ़े, जवान हर तरह के लोग उनसे संबंध बनाना चाहते थे, क्योंकि वह उन दिनों स्ट्रगल कर रही थी। यहां लोग झूठे वायदे और काम देने के नाम पर ऐसी सभी लड़कियों का फायदा उठाना चाहते हैं जो स्ट्रगल कर रही हों।


परिवार ने नहीं किया एक्ट्रेस बनने में सपोर्ट


pjimage %2813%29


हिमाचल प्रदेश में जन्मी कंगना ने माता-पिता के खिलाफ जाकर दिल्ली में रहकर एक्टिंग सीखने का फैसला किया था। इसके लिए यहां उन्होंने थियेटर ज्वाइन किया और वहीं से मुंबई का रुख कर लिया। इस दौरान कंगना के परिवार ने उन्हें सपोर्ट नहीं किया और वो अकेले दम पर मुंबई में गुजारा किया और यही से शुरू हुआ उनके क्वीन बनने का सफर।


एक कॉफी शॉप में मिला टिकट टू बॉलीवुड


pjimage %2814%29


एक बार कंगना एक कॉफी शॉप में अपने दोस्तों के साथ बैठी थी। इसी दौरान वहां फिल्म डायरेक्टर अनुराग बसु ने उन्हें देखा और अपनी फिल्म गैंगस्टर (2006) के लिए उन्हें कास्ट कर लिया। इसके लिए उन्हें बेस्ट फीमेल डेब्यू का ग्लोबल इंडियन फिल्म अवार्ड भी मिला था। फिर क्या था, एक से बढ़कर एक फिल्में उन्हें ऑफर होने लगी। साल 2008 में निर्देशक मधुर भंडारकर की फिल्म फैशन में उन्हें एक चैलेंजिंग किरदार मिला, जिसके लिए कंगना की एक्टिंग की बहुत सराहना हुई। इसके लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का नेशनल अवॉर्ड मिला। इसके अलावा बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस के लिए फिल्मफेयर, गिल्ड, स्टारडस्ट और जी सिने अवॉर्ड्स भी दिये गये। इसके बाद कंगना ने क्वीन, कृष-3, तनु वेड्स मनु, वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई,  तनु वेड्स मनु रिटर्न्स, क्वीन, सिमरन, जैसी सुपहिट फिल्मों में काम किया।


इन्हें भी पढ़ें -