आखिर कैसे करें स्कूल और टीचर से ही अपने बच्चों की सुरक्षा | POPxo Hindi | POPxo
Home
आखिर कैसे करें स्कूल और टीचर से ही अपने बच्चों की सुरक्षा

आखिर कैसे करें स्कूल और टीचर से ही अपने बच्चों की सुरक्षा

सुना था कि प्रेमी से मिलकर प्रेमिका ने अपने घरवालों का कत्ल कर दिया। यह भी सुना था कि प्रेमी से मिलकर प्रेमिका ने अपने पति का कत्ल कर दिया। यहां तक कि बेटे ने बाप का या फिर मां का कत्ल कर दिया। फिर भी आज की इस खबर को सुनकर मन बहुत खराब हो गया। खबर यह है कि एक बेटी ने अपनी टीचर से मिलने के लिए मना करने की वजह से अपनी मां का कत्ल कर दिया। इसमें खास बात यह है कि इस टीचर के साथ उसके कुछ खास संबंध थे। 


टीचर के साथ मिलकर मां की हत्या


इस खबर के अनुसार गाजियाबाद निवासी 18 वर्षीय छात्रा रश्मि पर अपनी टीचर के साथ मिलकर मां की हत्या करने का मामला दर्ज किया गया है। रश्मि के पिता  सतीश का आरोप है कि उनकी बेटी रश्मि को उसके ही स्कूल की टीचर निशा गौतम ने अपने वश में कर लिया है। यहां तक कि रश्मि को अपनी इस टीचर से इतना प्यार हो गया था कि वह उसी के साथ ही रहने लगी थी। यूं ऐसी खबरें अखबार में या टीवी पर रोज ही देखने- सुनने को मिलती रहती हैं, लेकिन इन खबरों को देखने के बाद खासतौर पर अपने बच्चों के लिए चिंता बढ़ती ही जाती है।


student teacher


बच्ची के भविष्य के प्रति चिंता


अभी कुछ ही दिन पहले मैंने मेट्रो में सफर करते वक्त लेडीज़ कोच में एक 30-35 वर्षीय महिला को ऐसी ही 15-16 वर्षीय एक बच्ची के साथ देखा था। उनका साथ होना यूं कोई खास बात नहीं थी, लेकिन उनकी भाव भंगिमा ने मेरा ध्यान आकर्षित किया था। उनका एक- दूसरे को इतने प्यार से निहारना, चेहरे से इतना प्यार टपक रहा था जो किसी मां- बेटी के बीच भी नहीं दिखता। फिर उनका एकदम चिपक- चिपक कर खड़े होना और उनकी बातें। वो बच्ची काफी कुछ लड़कों की तरह दिख रही थी और लड़कों की ही तरह बात भी कर रही थी, मगर आवाज में लड़कियों वाली कोमलता थी। उनकी बातें सुनकर यह भी समझ आ गया था कि वह महिला उस बच्ची की टीचर है...। देखकर दुख भी हो रहा था और आश्चर्य भी.. फिर मेरा स्टॉप आ गया और मैं अपने घर के लिए मेट्रो से उतर गई। लेकिन मेरे जेहन में उन स्थितियों को इतने गहरे महसूस किया था कि समय- समय पर मुझे उस छोटी बच्ची के भविष्य के प्रति चिंता बनी रही। ऐसे में आज जब यह खबर पढ़ी तो लगा कि कहीं यह वही तो नहीं...।


महिला अध्यापिकाओं पर भी शक के बादल


इसके अलावा पिछले कुछ दिनों से स्कूल में बच्चों की हत्या या फिर लापरवारी की वजह से बच्चों की मौत की इतनी ज्यादा खबरें सुनाई देने लगी हैं कि अभिभावकों का स्कूलों पर से ही विश्वास उठता जा रहा है। ऐसे में अभिभावक अपने नन्हे- मुन्नों को स्कूल भी न भेज पाएं तो कहां भेजें। स्कूलों की लापरवाही के ऐसे मामले सामने आने अभी शुरू ही हुए थे कि अब ये इस तरह का एक नया ही मामला सामने आया है, जिसमें लड़कियों की महिला अध्यापिकाओं पर भी शक के बादल मंडराने लगे हैं।


क्या होगा शिक्षा व्यवस्था का


अपनी बच्ची या बच्चे को स्कूल भेजते वक्त हर अभिभावक चाहता है कि बच्चे को अपनी टीचर्स के साथ लगाव हो और टीचर को भी हमारा ही बच्चा पसंद आए, लेकिन अब इस मामले के बाद हर अभिभावक बच्चे और टीचर के बीच के प्यार को नये नजरिये से देखने के लिए बाध्य हो जाएगा। हर टीचर पर शक किया जाएगा और ऐसे में हमारी शिक्षा व्यवस्था का क्या होगा, भगवान ही जाने...। क्या आपके पास इसका कोई जवाब है?


इन्हें भी देखें -


क्या-क्या फेस किया इन गर्ल्स ने एग्जाम्स में... आप अपनी एंग्जाइटी को ऐसे करें कंट्रोल


प्रधानमंत्री मोदी ने परीक्षा देने वाले बच्चों को दिये ये 7 गुरुमंत्र 


यौन शोषण से अपने बच्चे की सुरक्षा चाहते हैं तो change.org के इस अभियान से जुड़ें


बाल विवाह को रोकना और बाल शिक्षा देश के विकास के लिए गेम चेंजर: प्रियंका चोपड़ा


 

प्रकाशित - मार्च 12, 2018
Like button
3 लाइक्स
Save Button सेव करें
Share Button
शेयर
और भी पढ़ें
Trending Products

आपकी फीड