10वीं और 12वीं बोर्ड की कुछ परीक्षाएं दोबारा देने की खबर से छात्रों में निराशा

10वीं और 12वीं बोर्ड की कुछ परीक्षाएं दोबारा देने की खबर से छात्रों में निराशा

सीबीएसई द्वारा कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं की बोर्ड की दो परीक्षाओं को दोबारा करवाने के फैसले से परीक्षा दे चुके छात्रों में भारी निराशा व्याप्त है। गौरतलब है कि सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन यानी सीबीएसई ने कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं के बोर्ड की दो परीक्षाओं को दोबारा करवाने का फैसला किया है। इनमें सीबीएसई बोर्ड की 12वीं क्लास की इकोनॉमिक्स यानी अर्थशास्त्र और 10वीं क्लास की गणित यानी मैथमैटिक्स की परीक्षाएं शामिल हैं, जिन्हें दोबारा कराने का फैसला किया गया  है। बताया जा रहा है कि इन दोनों परीक्षाओं के पेपर परीक्षा से पहले ही सोशल मीडिया पर लीक हो गए थे।


सुरक्षित सिस्टम लाने की कोशिश


कक्षा 10वीं के गणित की परीक्षा बुधवार को ही थी, जबकि 12वीं की इकोनॉमिक्स की परीक्षा सोमवार को हुई थी। हालांकि उस दिन सीबीएसई ने पेपर लीक होने की खबर को गलत बताते हुए जांच करवाने का आदेश दिया था। बताया जा रहा है कि मैथमैटिक्स यानि गणित के पेपर लीक से जुड़े गिरोह के बारे में पता लगा लिया गया है। सरकार दोबारा होने वाली परीक्षा में पेपर लीक से बचने के लिए एक सुरक्षित सिस्टम लाने की कोशिश कर रही है। फिलहाल दोबारा होने वाली इन दोनों परीक्षाओं के लिए तारीखों की घोषणा नहीं की गई है, लेकिन कहा जा रहा है कि एक हफ्ते में ही ये तारीखें बता दी जाएंगी।


 



परेशान न हों छात्र


केंद्रीय शिक्षा मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस मामले को लेकर कहा है कि छात्रों को परेशान होने की आवश्यकता नहीं है और छात्रों के हितों का पूरा ध्यान रखा जाएगा। सीबीएसई पेपर लीक रोकने के लिए सरकार ने कड़े कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा है 'इलेक्ट्रॉनिकली कोडेड पेपर एग्जामिनेशन सेंटर्स को भेजा जाएगा। आधा घंटे पहले सेंटर्स को इलेक्ट्रॉनिक पेपर भेजा जाएगा, जो पासवर्ड प्रूफ होगा। सीबीएसई सेंटर पर ही इसका प्रिंटआउट निकालकर छात्रों को एग्जाम पेपर बांटा जाएगा।'



छात्रों में भारी निराशा


इस बारे में छात्रों का कहना है कि बड़ी मुश्किल से उनकी परीक्षाएं जैसे- तैसे खत्म हुई थीं और उन्हें थोड़ा सुकून महसूस हो रहा था, लेकिन अब उनके ऊपर फिर से परीक्षा की तलवार लटक गई है। 10वीं कक्षा की एक छात्रा ने कहा कि गणित का पेपर बहुत अच्छा आया था, जिसे उसने पूरा मन लगाकर किया था, अब दोबारा से पता नहीं कैसा पेपर आएगा। इसी तरह से 12वीं के छात्रों का भी कहना यही है कि अगली बार पता नहीं कैसा  पेपर आएगा। छात्रों का कहना है कि पेपर लीक तो सिर्फ कुछ ही जगहों पर हुआ है, तो परीक्षा सभी सेंटर्स पर दोबारा क्यों करवाई जा रही है।



इन्हें भी देखें -