लड़कियों को पता होने चाहिए उनसे जुड़े ये 7 स्पेशल राइट्स - Legal Rights That Every Women Should Know About

लड़कियों को पता होने चाहिए उनसे जुड़े ये 7 स्पेशल राइट्स - Legal Rights That Every Women Should Know About

जब से ये दुनिया अस्तित्व में आई है शायद तभी से हम लड़कियों को एक नाजुक कली की तरह समझते आए हैं, जिसका गहना शर्म और लज्जा है। अगर कोई महिला इससे परे गई है तो उसे इसी समाज के लोग मर्दाना औरत की उपाधि देने लगते हैं। और शायद इसी डर से हमारी आवाज दब जाती है। लेकिन अब समय बदल रहा और साथ ही महिलाओं की तस्वीर भी। ऐसे में ज़रूरी है कि महिलाएं खुद अपने अधिकारों के प्रति जागरूक हों और अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाएं। यहां हम आपको कुछ जरूरी राइट्स यानि कानूनी अधिकारों की जानकारी दे रहे हैं जिन्हें जानकर आप उनका वाजिब इस्तेमाल कर सकती हैं।


1 - गिरफ्तारी से संबंधित अधिकार


arrest


सुप्रीम कोर्ट के अनुसार किसी भी मामले में आरोपी साबित हुई महिला के गिरफ्तारी यानि की पुलिस हिरासत व कोर्ट में पेश करने के कई कानून बने हुए हैं। जिसका पालन करना जरूरी है। जैसे कि बिना महिला पुलिसकर्मी के लिए आरोपी महिला को हिरासत में नहीं लिया जा सकता है। साथ ही महिला के घरवालों को सूचित करना, लॉकअप में बंद करने से पहले उसके लिए अलग व्यवस्था करना जरूरी है।


2 - मुफ्त कानूनी मदद पाने अधिकार


aid


लीगल ऐड कमेटी के तहत रेप पीड़िता को मुफ्त कानूनी सलाह व सरकारी वकील मुहैया कराने की पूरी व्यवस्था है। ऐसे में वो अदालत से गुहार लगा सकती है। उसे किसी भी तरह का कोई भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। इसके लिए एस.एच.ओ स्वयं ही ऐड कमेटी से सरकारी वकील की व्यवस्था करने की मांग करेगा।


3 - संपत्ति का अधिकार (Property Rights)


sampati


हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम के तहत नए नियमों के आधार पर पुश्तैनी संपत्ति यानि पिता की संपत्ति पर अब जितना बेटे का हक है, उतना ही घर की बेटियों का भी। यहां तक कि ये अधिकार बेटियों के लिए उनकी शादी के बाद भी कायम रहेगा।


4 - मातृत्व लाभ का अधिकार (Maternity Benefits)


maternity leave


मातृत्व लाभ अधिनियम के तहत किसी भी पब्लिक व प्राइवेट सेक्टर की महिला कर्मचारी को प्रसव के बाद अब 12 नहीं बल्कि 24 हफ्ते यानि 6 महीने तक अवकाश मिलेगा। इस दौरान महिला के वेतन में कोई कटौती नहीं की जाएगी साथ ही अवकाश के बाद वो फिर से काम शुरू कर सकती है।


5 - घरेलू हिंसा से संबंधी अधिकार (Domestic Violence Rules)


domestic


किसी महिला के साथ मारपीट की गई हो या फिर उसे मानसिक प्रताड़ना दी गई हो जैसे कि ताने मारना या फिर गाली-गलौज या फिर किसी दूसरी तरह से इमोशनल हर्ट किया गया हो। तो वह घरेलू हिंसा कानून (डीवी ऐक्ट) के तहत मजिस्ट्रेट की कोर्ट में शिकायत कर सकती है।


6 - लिव-इन रिलेशन संबंधी अधिकार (Live-In-Relationship Act)


leav in


अगर कोई महिला लिव-इन रिलेशनशिप में है यानि बिना शादी किए किसी मेल पार्टनर के साथ एक छत के नीचे पति-पत्नी की तरह रहती है, तो उसे भी डोमेस्टिक वॉयलेंस ऐक्ट यानि घरेलू हिंसा के तहत प्रोटेक्शन और प्रताड़ित करने व जबरन घर से निकाले जाने के मामले में मुआवजा भी मिलता है। ऐसे संबंध में रहते हुए उसे राइट-टू-शेल्टर भी मिलता है। सुप्रीम कोर्ट का यह भी कहना है कि लंबे समय तक कायम रहने वाले लिव-इन रिलेशन से पैदा होने वाले बच्चे को नाजायज नहीं करार दिया जा सकता।


7 - भ्रूण हत्या संबंधी अधिकार


abortion


सभी अधिकारों के तहत ‘जीने का अधिकार’ सबसे अहम है जिसे किसी इंसान से नहीं छीना जा सकता है।  अगर किसी महिला की मर्जी के खिलाफ उसका अबॉर्शन कराया जाता है, तो ऐसे में दोषी पाए जाने पर उम्रकैद तक की सजा हो सकती है। हां अगर, गर्भ की वजह से महिला की जान जा सकती है या गर्भ में पल रहा बच्चा विकलांगता का शिकार हो तो अबॉर्शन कराया जा सकता है। इसके लिए 1971 में मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी ऐक्ट बनाया गया है।


इन्हें भी पढ़ें-