पार्टनर से छोटी हैं तो इन 10 टिप्स से कम करें उम्र का अंतर | POPxo Hindi | POPxo
Home  >;  Lifestyle  >;  Relationships
अगर पार्टनर से एज में छोटी हैं तो रिश्ता निभाने के लिए काम आएंगे ये 10 टिप्स

अगर पार्टनर से एज में छोटी हैं तो रिश्ता निभाने के लिए काम आएंगे ये 10 टिप्स

प्यार… यह सिर्फ एक शब्द नहीं, बल्कि भावना है। यह कभी भी, किसी से भी हो सकता है। इसमें न तो उम्र का कोई बंधन होता है, न ही धर्म या दूसरे पैरामीटर्स का। दोस्ती तो फिर भी सोच-समझकर की जा सकती है पर प्यार तो सिर्फ प्यार है, यह सोच-समझकर नहीं किया जाता है, बल्कि बस हो जाता है। कुछ कपल्स के बीच उम्र का काफी अंतर होता है। उम्र के अंतर का यह मतलब नहीं होता है कि उनके बीच में प्यार किन्हीं शर्तों पर है और न ही उनका यह प्यार दूसरों को उन पर उंगली उठाने का मौका देता है। अगर आपका पार्टनर भी उम्र में आपसे बड़ा है तो आपको ये बातें ज़रूर पता होनी चाहिए।


वह आपसे ज़्यादा स्टेबल है


अगर आपके बीच 5-10 साल का अंतर है तो वह हर लिहाज़ से आपसे ज़्यादा स्टेबल होगा। बात चाहे फाइनेंशियल मैटर की हो या पर्सनल, वह हर पहलू पर आपसे आगे ही होगा। उसके पास ज़्यादा सेविंग्स होंगी और वह रिश्तों को लेकर आपसे ज़्यादा मैच्योर भी होगा। आप चाहें तो उसे अपना फाइनेंशियल सलाहकार मान सकती हैं, उससे बेहतर सलाह आपको कोई नहीं दे सकेगा क्योंकि उसे आपके पैसों से नहीं, बल्कि सिर्फ आपसे मतलब है। ऐसे रिश्तों में कई बार लोग कमज़ोर पार्टनर को मनी डिगर समझने लगते हैं पर अगर आप दोनों एक-दूसरे से प्यार करते हैं तो आप इन बातों को आसानी से इग्नोर कर सकती हैं।


1


आपस में ईगो का इश्यू नहीं


जब पार्टनर्स हमउम्र या एक ही प्रोफेशनल रैंक वाले होते हैं तो उनके बीच अहं की भावना होने की आशंका रहती है पर जब उम्र का इतना अंतर होता है तो इस बात की कोई टेंशन ही नहीं रहती। अगर एक गलती करता है तो ऐसे केस में दूसरा सॉरी बोलने में हिचकिचाता नहीं है और ये एक-दूसरे को माफ भी जल्दी कर देते हैं। अगर आपका पार्टनर भी आपसे उम्र में बड़ा है तो ध्यान दीजिएगा कि वह हमेशा आपको करियर में आगे बढ़ते रहने के लिए प्रेरित करता रहेगा। ऐसा होने के पीछे वजह है कि दोनों के बीच किसी तरह का प्रोफेशनल मुकाबला नहीं होता है। एक ग्रो करता है तो दूसरा आसानी से उसकी खुशी में खुश हो जाता है।


no ego


उसने दुनिया देखी है


आपको पता होना चाहिए कि अगर आप अपनी दुनिया शुरू कर रही हैं तो वह अपनी ज़िंदगी के कई पड़ावों से गुज़र चुका होता है। आप दोनों के सपने और उन्हें पूरा करने की ललक भी अलग होगी। लाइफ के जिन गोल्डन ड्रीम्स को आप जीना चाहती हैं, उन्हें तो वह दरअसल जी चुका होता है। मान लीजिए कि आपको घूमना या शॉपिंग करना पसंद है तो यहां आपको यह पता होना चाहिए कि वह अपने हिस्से की दुनिया देख चुका है। हो सकता है कि उसे आपके साथ घूमना न पसंद हो या जिन जगहों पर आप जाना चाहती हैं, वहां वह पहले ही कई बार जा चुका हो। ऐसे में अपसेट होने के बजाय आप अपने दोस्तों के साथ घूमने जा सकती हैं। वैसे सोलो ट्रैवलिंग का आइडिया भी बुरा नहीं है!


travel


उसकी मैच्योरिटी पर भरोसा करें


इसमें कोई दोराय नहीं है कि वह आपसे ज़्यादा मैच्योर है। आप अपने रिश्ते की शुरूआत कर रही हैं पर वह कई रिश्तों को जी चुका है। अगर वह आपकी ज़िंदगी से जुड़े किसी अहम फैसले पर अपनी राय देता है तो उस पर अमल ज़रूर करें। वह आपको कभी उन गलतियों को दोहराने नहीं देगा, जिनसे वह खुद सबक ले चुका है। मगर इसका यह मतलब नहीं है कि आप उसे कभी कोई सलाह नहीं दे सकती हैं। अगर वह आपसे अपनी प्रॉब्लम्स शेयर करने में कंफर्टेबल है तो आप अपने हिसाब से उसे राय भी दे सकती हैं। उम्र में बड़ा होने का यह मतलब नहीं है कि उसे कभी कोई समस्या नहीं हो सकती।


maturity


कम्युनिकेशन बहुत ज़रूरी है


रिश्तों में अगर कम्युनिकेशन गैप होगा तो एज गैप वाली मैच्योरिटी किसी काम नहीं आएगी। हो सकता है कि आप दोनों का घर, वर्क लोकेशन और शेड्यूल अलग-अलग हो पर फिर भी आपस में कनेक्टेड रहने की कोशिश करें। ज़्यादा बात करना पॉसिबल न हो तो एक मैसेज ही ड्रॉप कर दें। पार्टनर्स के बीच बातचीत के ये छोटे-छोटे जेस्चर्स रिश्ते में मैजिक वैंड का काम करते हैं। एज गैप का सबसे बड़ा फायदा होता है कि आप दोनों को बातें करने के लिए बहुत सारे टॉपिक्स मिल सकते हैं। अपनी हॉबीज़, इंटरेस्ट, दोस्तों के बारे में बातें करें। कुछ कॉमन इंटरेस्ट डेवलप करें। मूवीज़ या देश-दुनिया की खबरों पर भी बातें कर सकते हैं।


couple talking


लोगों की बातों को नज़रअंदाज़ करें


ऐसे रिश्तों में अकसर दोनों ही पार्टनर्स लोगों की बेकार बातों का शिकार बन जाते हैं। आपकी मैच्योरिटी इसी में है कि उन बातों या लोगों का बुरा मानने के बजाय एक-दूसरे पर पुख्ता भरोसा कर उन्हें करारा जवाब दें। हो सकता है कि वे आपको मनी डिगर मानते हों या आपके पार्टनर के बारे में कोई गलत राय रखते हों। इन बातों को लेकर बिलकुल भी अपसेट न हों क्योंकि ऐसी बातों से आपका प्यार कमज़ोर होने के बजाय और स्ट्रॉन्ग हो जाएगा। इन्हें हंसकर इग्नोर कर देने में ही आप दोनों की भलाई है। ध्यान रखें कि आपसी भरोसे से ज़्यादा ज़रूरी कुछ नहीं होता है। अपना रिश्ता निभाने के लिए आपको किसी और से सर्टिफिकेट लेने की कोई ज़रूरत नहीं है।


ignore


जब चलना हो उसके हिसाब से


वह अपनी ज़िंदगी को लेकर बहुत स्पष्ट है। उसे अच्छे से पता है कि वह क्या कर चुका है, कर रहा है या करने वाला है। हो सकता है कि उसने अपनी ज़िंदगी के कुछ पन्नों से आपको अनजान ही रखा हो! अगर वह अपने दोस्तों से मिलते समय या आउटिंग्स पर आपको साथ ले जाने में हिचकिचाता हो तो उसे एहसास दिलाएं कि वह गलत है। अगर उसे सिर्फ दुनिया के हिसाब से ही जीना है तो शायद आपका उसकी लाइफ में कोई महत्व नहीं है। बेहतर होगा कि चीज़ों को आपस में क्लियर कर लें। अगर आप हर कदम पर उसका साथ दे रही हैं तो उसे भी उसी तरह से रिएक्ट करने की ज़रूरत है।


2


कुछ वक्त हो सिर्फ अपना


आप दोनों के करियर गोल्स, प्राथमिकताएं, फैमिली इश्यूज़… सब अलग हैं। इतनी भिन्नताओं के बावज़ूद अगर आप दोनों एक होना चाहते हैं तो एक-दूसरे के लिए समय निकालना ज़रूरी है। घूमें-फिरें और इस दौरान सिर्फ अपने आज की बात करें क्योंकि यही वह लम्हा है, जब आप साथ हैं। कुछ ऐसा करें, जो आप दोनों को पसंद हो। दिन का एक समय अपने लिए निश्चित करें, जिसमें कोई भी टेंशन वाली बात न हो। इस समय आप सिर्फ हंसें और बेफिक्री के धुएं में दिन की सारी नेगेटिविटी को उड़ा दें। आप चाहें तो आपस में अपने रोल्स भी एक्सचेंज कर सकते हैं। क्यों न वह थोड़ा आप और आप थोड़ी सी वह बन जाएं!


communication


साथ निभाएं हमेशा


जब इतना एज गैप होता है तो एक-दूसरे को ज़्यादा अच्छे तरीके से समझने की ज़रूरत होती है। हर परिस्थिति में एक-दूसरे को समझने और संभालने के लिए उसके बड़प्पन और आपके बचपने का बैलेंस बनना बहुत ज़रूरी है। आप उस पर डिपेंड हो सकती हैं तो खुद को ऐसा बनाएं कि वह भी चीज़ों को आप पर छोड़ कर बेफिक्र हो सके। आप उम्र में छोटी हैं पर उसका साथ निभाने के लिए आपको भी अपनी सोच में थोड़ी मैच्योरिटी लानी होगी। एक-दूसरे को पैंपर करने के लिए एक साल काफी होता है, उसके बाद रिश्ते के व्यावहारिक पक्ष को भी समझना ज़रूरी हो जाता है। दुनिया भले ही आपके खिलाफ हो पर आप दोनों के लिए एक-दूसरे का साथ ही महत्वपूर्ण होना चाहिए।


together


फिज़िकल नीड्स भी होंगी अलग


यहां फिज़िकल नीड का मतलब सिर्फ सेक्स नहीं है, बल्कि एक-दूसरे को गले लगाना या किस करना भी है। किसी भी रिश्ते में गहराई के लिए टच इफेक्ट बहुत ज़रूरी होता है। इसके महत्व को समझें। गाहे-बगाहे यूं ही बातें करते-करते एक-दूसरे को अचानक से बांहों में भर लें या माथे पर किस कर लें। अगर सेक्स की बात करें तो हो सकता है कि जिस पोज़िशन में आप कंफर्टेबल फील करती हैं, उसमें वह उतना रिलैक्स न हो पाता है। ऐसे में बेहिचक अपनी ये नीड्स भी एक-दूसरे से शेयर करें। कभी-कभी कुछ नया ट्राई करने में भी न हिचकिचाएं। आपके पार्टनर को भी यह समझना चाहिए कि भले ही वह इस दौर से गुज़र चुका है पर आपके लिए यह सब अभी भी नया है।


touch therapy


GIFs : GIPHY


IMAGES : PEXELS


ये भी पढ़ें :


सेक्स लाइफ और पार्टनर के साथ आपका रिश्ता बेहतर बनाएंगे ये खास टिप्स


प्यार भरी इन 10 बातों के लिए पार्टनर को जरूर कहें थैंक्स!


पार्टनर के साथ पॉर्न देखते हैं तो ध्यान में रखें ये बातें


हर कपल के बीच ज़रूर होनी चाहिए ये लड़ाइयां

प्रकाशित - दिसम्बर 29, 2017
4 लाइक्स
सेव करें
शेयर
और भी पढ़ें
Trending Products

आपकी फीड