‘कल हो न हो’ फिल्म को पूरे हुए 14 साल, जानिए फिल्म से जुड़ी 14 खास बातें

‘कल हो न हो’ फिल्म को पूरे हुए 14 साल, जानिए फिल्म से जुड़ी 14 खास बातें

2003 में रिलीज़ हुई शाह रुख खान, प्रीति ज़िंटा और सैफ अली खान स्टारर फिल्म ‘कल हो न हो’ को 14 साल बीत चुके हैं। इस फिल्म ने कामयाबी के नए रिकॉर्ड्स स्थापित किए थे। कहना गलत नहीं होगा कि दर्शकों की पसंदीदा फिल्मों में से एक ‘कल हो न हो’ के साथ आज भी लोगों के इमोशंस जुड़े हुए हैं। इस फिल्म के 14 साल के जश्न के मौके पर धर्मा प्रोडक्शंस ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर एक वीडियो शेयर करते हुए फैंस के लिए एनिवर्सरी स्पेशल रैपिड फायर राउंड का आयोजन किया।





‘आज एक हंसी और बांट लो, आज एक दुआ और मांग लो, आज एक आंसू और पी लो, आज एक ज़िंदगी और जी लो, आज एक सपना और देख लो… क्या पता कल हो न हो...’


कभी अलविदा न कहना


इस फिल्म का टाइटल पहले ‘कभी अलविदा न कहना’ रखा जाना निश्चित हुआ था। अचानक से फिल्म के निर्माता करन जौहर का मूड बदला और उन्होंने ‘कभी अलविदा न कहना’ को अपनी अगली फिल्म के लिए रिज़र्व करवा लिया।


जया बनीं जेनिफर


जया बच्चन वाला रोल पहले अभिनेत्री नीतू सिंह को ऑफर किया गया था और इस फिल्म को उनकी कमबैक मूवी माना जा रहा था। नीतू सिंह के मना करने के बाद जेनिफर का किरदार जया बच्चन को सौंपा गया।


Screenshot %2856%29


करीना थीं पहली पसंद


प्रीति ज़िंटा का किरदार करीना कपूर को ध्यान में रख कर लिखा गया था। उनकी फीस की डिमांड हाई होने के कारण यह रोल प्रीति ज़िंटा को मिल गया। इस फिल्म को उनकी सबसे बेहतरीन फिल्मों में से एक माना जाता है।


Screenshot %2854%29


सैफ की भी एक कहानी


सैफ अली खान द्वारा निभाया गया किरदार उनसे पहले सलमान खान, अभिषेक बच्चन और विवेक ओबरॉय को ऑफर किया गया था। उन तीनों के रिजेक्शन के बाद सैफ अली खान इस फिल्म का अहम हिस्सा बन सके।


Screenshot %2855%29


घायल हो गईं थीं प्रीति


इस फिल्म में बॉडी डबल का भी इस्तेमाल किया गया था। फिल्म की शूटिंग के दौरान प्रीति ज़िंटा गिर गईं थीं, जिससे उन्हें चोट भी लग गई थी। इस कारण फिल्म की शुरुआत में प्रीति के दौड़ने वाला सीन निर्देशक निखिल आडवाणी को एक मॉडल से शूट करवाना पड़ा था।


करन का पूरा हुआ था सपना


इंटरनेशनल कॉपीराइट लॉ का पालन करते हुए करन जौहर ने इस फिल्म के लिए रॉय ऑर्बिसन के ‘प्रिटी वुमन’ के राइट्स का लाइसेंस खरीद लिया था। इस फिल्म में उसे अभिनेता शाह रुख खान के साथ फीचर किया गया था।


Screenshot %2852%29


कैमियो में फराह


इस फिल्म के एक सीन में फराह खान का कैमियो भी है। जब अमन जेनिफर को अपना कैफे रेनोवेट कर उसे ‘कैफे नई दिल्ली’ करने का सुझाव देता है सो कैफे में अचानक से ग्राहकों की संख्या बढ़ जाती है। उसी सीन में फराह खान भी एक ग्राहक बन कर आईं थीं।


प्रीति बनीं डिज़ाइनर


फिल्म में जिया की डॉल्स का भी सीन है। उस सीन को शूट करने के एक दिन पहले ही प्रीति ज़िंटा ने डॉल्स की ड्रेसेज़ और लुक्स में बदलाव किया था। बॉलीवुड फिल्म होने के चलते उन्होंने उन डॉल्स के लुक को भारतीय टच दिया था।


Screenshot %2859%29


बदली थी शूटिंग की लोकेशन


फिल्म की प्रोडक्शन कॉस्ट को कम करने के लिए इस फिल्म के कुछ सीन न्यू यॉर्क के बजाय टोरंटो में शूट किए गए थे। इस फिल्म की पूरी शूटिंग पहले वहीं की जानी थी पर सीवियर अक्यूट रेस्पिरेट्री सिंड्रोम के खतरे के चलते लोकेशन को बदल दिया गया था।


Screenshot %2860%29


बन गया रीमेक भी


तेलुगु के डायरेक्टर कृष्णा वामसी इस फिल्म से बहुत प्रभावित थे, जिसकी वजह से उन्होंने इसका रीमेक ‘चकराम’ बनाया था। इसमें मुख्य भूमिका में अभिनेता प्रभास नज़र आए थे।


यश जौहर की आखिरी फिल्म


इस फिल्म की रिलीज़ के कुछ समय बाद ही करन जौहर के पिता यश जौहर की मौत हो गई थी। धर्मा प्रोडक्शंस की यह फिल्म उनके सामने बनी आखिरी फिल्म थी। वे इसके निर्माता थे।


yash


नैना की फेमस क्लासमेट


इस फिल्म में फैशन डायरेक्टर एंड मैगज़ीन एडिटर अनाइता श्रॉफ अदजानिया का भी कैमियो था। वे ‘गीता’ के किरदार में रोहित और नैना के एमबीए कोर्स में उनकी क्लासमेट के तौर पर फिल्म में नज़र आईं थीं।


सिनेमैटोग्राफर बने पिता


इस फिल्म में एक और कैमियो था। फिल्म की शुरुआत में नैना के पिता का भी छोटा सा किरदार था। उस किरदार को दरअसल फिल्म के सिनेमैटोग्राफर अनिल मेहता ने निभाया था।


आनंद से मिली प्रेरणा


इस फिल्म को ‘आनंद’ का रीमेक भी माना जा रहा था। कहा गया था कि यह ‘आनंद’ का मॉडर्नाइज़्ड वर्ज़न थी और शाह रुख खान और सैफ अली खान ने राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन के किरदारों को निभाया था।


anand