सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा - वाइट डिस्चार्ज के कारण और घरेलू उपाय - Safed Pani ka ilaj

Safed Pani ka ilaj, वाइट डिस्चार्ज के कारण, सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा

आमतौर पर सभी महिलाएं व्हाइट डिस्चार्ज या वैजाइनल डिस्चार्ज का अनुभव करती हैं। महिलाओं में सफेद पानी यानि व्हाइट डिस्चार्ज आना (safed pani aana) एकदम सामान्य बात है। लेकिन कई बार जब हमें इस पर सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए, तभी नहीं दे पाते। ऐसा जानकारी के अभाव के कारण होता है। अब जिस चीज़ को आप लगभग रोज़ अनुभव करती हैं, उसके बारे में आपको सही जानकारी तो होनी ही चाहिए … हम यहां आपको व्हाइट डिस्चार्ज या वैजाइनल डिस्चार्ज (white discharge in hindi) के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं। साथ ही जानिए सफेद पानी के घरेलू नुस्खे व सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा के बारे में बात रहे हैं।


वाइट डिस्चार्ज क्यों होता है - White Discharge Kyu Hota Hai


व्हाइट डिस्चार्ज, जिसे सफेद पानी या श्वेत प्रदर भी कहते हैं, यह एक प्राकृतिक शारीरिक प्रक्रिया है जिसके परिणामस्वरूप योनि से स्राव होता है। यह आमतौर पर पतला और थोड़ा चिपचिपा होता है। अक्सर पीरियड से पहले या जब पीरियड अनियमित होता है, तब महिलाएं चिड़चिड़ी और तनावग्रस्त हो जाती हैं। इसके अलावा वे सेक्स लाइफ को लेकर तनाव में रहने लगती हैं। साथ ही उनके हॉर्मोन भी असंतुलित होने लगते हैं। परिणामस्वरूप महिलाओं को व्हाइट डिस्चार्ज (safed pani aana) होने लगता है। आमतौर पर यह पानी की तरह पारदर्शी होता है। हालांकि, कभी-कभी यह गाढ़ा, अजीब रंग का और गंधहीन भी हो जाता है, जिसे ल्यूकोरिया कहते हैं। ल्यूकोरिया या लिकोरिया (likoria ka ilaj) औरतों को होने वाला एक रोग है, जिसे श्वेत प्रदर भी कहते हैं। इस रोग से ग्रस्त महिला की योनि से बहुत ज्यादा मात्रा में सफेद बदबूदार पानी निकलता है, जिसे वेजाइनल डिस्चार्ज कहते हैं। 


वैजाइनल डिस्चार्ज कितने तरह का होता है - Types of Vaginal Discharge in Hindi


जैसा कि हमने पहले बताया, वैजाइनल डिस्चार्ज (safed pani aana) हल्का, गाढ़ा, पारदर्शी, गंधयुक्त, गंधहीन और अजीब रंग वाला भी हो जाता है। इसका मतलब ज्यादा कुछ नहीं, बस इतना होता है कि आपके शरीर में किसी तरह का इन्फेक्शन है। जानिए कितने तरह का होते हैं ये वैजाइनल डिस्चार्ज (Types of Vaginal Discharge) और क्या है इसका मतलब? आइए जानते हैं -


13014-Tips to Treat and Prevent Bacterial Vaginosis-732x549-Thumbnail13014-Tips to Treat and Prevent Bacterial Vaginosis-732x549-Thumbnail


 


गाढ़ा और सफेद डिस्चार्ज - White discharge


महिलाओं में होने वाला सफेद रंग का डिस्चार्ज (safed pani aana) नॉर्मल होता है। आमतौर पर पीरियड से पहले कई महिलाओं में श्वेत प्रदर (white discharge) होता है मगर डरने की कोई बात नहीं है। हालांकि, अगर यह जलन या खुजली और दुर्गंध पैदा करने वाला स्राव पैदा करता है, तो आपको पता होना चाहिए कि आपको ईस्ट इन्फेक्शन (likoria ka ilaj) है। अगर ऐसा है तो आपको निश्चित रूप से डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए।


पीला वैजाइनल डिस्चार्ज - Yellow Discharge


कई महिलाओं के साथ ऐसा होता है कि उन्हें सफेद की जगह पीला डिस्चार्ज (yellow discharge) होता है। यह बिल्कुल भी सामान्य नहीं है। पीला डिस्चार्ज बैक्टीरिया से होने वाले किसी इन्फेक्शन का एक लक्षण है। ऐसे कई लोग हैं जिनके मल्टिपल सेक्सुअल पार्टनर होते हैं। उन्हें भी यह समस्या हो सकती है क्योंकि पीला डिस्चार्ज सेक्स से होने वाली बीमारियों का भी संकेत देता है। इसलिए अगर आप भी ऐसी किसी समस्या से दो-चार हो रही हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें और अपनी इस समस्या से उन्हें अवगत कराएं। 


भूरा वैजाइनल डिस्चार्ज - Brown Discharge


पीरियड आने से पहले और पीरियड खत्म होने के बाद कई लोगों को सफेद के बजाय भूरे रंग का डिस्चार्ज (brown vaginal discharge) होता है। यह आमतौर पर उन लोगों के साथ होता है, जिन्हें अनियमित पीरियड की समस्या होती है। मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं के लिए मेनोपॉज़ भी भूरे रंग के डिस्चार्ज का कारण बनता है। हालांकि अगर भूरे डिस्चार्ज की समस्या ज्यादा हो रही है तो यह खतरे का साइन भी हो सकता है। तब यह सर्वाइकल कैंसर के लक्षणों की ओर इशारा करता है। इस मामले में तुरंत किसी अच्छी स्त्री रोग विशेषज्ञ की सलाह (likoria ka ilaj) लेनी चाहिए।


हरा वैजाइनल डिस्चार्ज - Green Vaginal Discharge


ग्रीन डिस्चार्ज होना सामान्य बात नहीं है लेकिन कई महिलाओं को इस समस्या से गुजरना पड़ता है। ग्रीन डिस्चार्ज (green discharge) ज्यादा होने की स्थिति में महिलाओं की वैजाइना में बैक्टीरियल इन्फेक्शन और सेक्सुअल इन्फेक्शन जैसी समस्याएं हो सकती है। ट्रिचोमोनिएसिस (Trichomoniasis) एक प्रकार का संक्रमण है, जो इंटरकोर्स से उत्पन्न होता है और अगर आपको यह समस्या है तो तुरंत अपनी डॉक्टर से उचित सलाह लें। 


सफेद पानी या ल्यूकोरिया के लक्षण - Safed Pani ke Lakshan


महिलाओं में सफेद पानी की समस्या होना आम बात है। वैसे तो इससे डरने की काई ज़रूरत नहीं है, लेकिन ये कैसे पता चलेगा कि वैजाइनल डिस्चार्ज की वजह से अब आपको डॉक्टर की सलाह (safed pani ka ilaj) की ज़रूरत है। अगर आपको यहां बताए गए कुछ लक्षण अपने केस में नज़र आ रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेने में ज़रा भी देर न करें। 


unnamed %287%29


  • अगर बार-बार बुखार होता है और तापमान काफी बढ़ जाता है।

  • अगर पेट में कभी-कभी असहनीय दर्द होता है।

  • बहुत मेहनत न करने के बावजूद आपको थकान ज्यादा हो जाती है।

  • अगर बार-बार टॉयलेट जाना पड़ता है।

  • सफेद और गाढ़ा योनिस्त्राव यानि कि वाइट डिस्चार्ज होना।

  • अगर आपका वजन अचानक बिना किसी कारण कम होने लगे।

  • यदि दो पीरियड्स के बीच इंटरकोर्स के दौरान दर्द होता है और वैजाइना से रक्तस्राव होता है।

  • अगर वैजाइना हमेशा गीली रहती है और उसमें खुजली महसूस होती है।

  • इंटरकोर्स के दौरान योनि में दर्द या जलन होना।

  • वैजाइना से अत्यधिक बदबू का आना।


इस तरह रखें अपने प्राइवेट पार्ट की हाईजीन का ख्याल


वाइट डिस्चार्ज के कारण - White Discharge Reasons in Hindi


वैसे यह योनि से सफेद पानी का आना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। लेकिन जब ये पानी गाढ़ा व बदबूदार होने लगे तो सफेद पानी की समस्या को इग्नोर करना सही नहीं है। क्योंकि प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई न रखने और यौन मार्ग में संक्रमण आदि की वजह से योनि से सफेद पानी आने (safed pani aana) लगता है। सफेद पानी की समस्या होने के कई कारण होते हैं, जो ज्यादतर लोगों को पता ही नहीं होते हैं। तो आइए जानते हैं इनके बारे में -


creamy white discharge


  • बैक्टीरियल इन्फेक्शन इसका एक बड़ा कारण है। महिलाओं में वैजाइनल इन्फेक्शन के कई कारण होते हैं। जैसे- असुरक्षित सेक्स, यूरिन के लिए पब्लिक टॉयलेट का इस्तेमाल, स्वच्छता की कमी, एनल इन्फेक्शन (गुदा संक्रमण) आदि। इन सभी कारणों से वैजाइनल डिस्चार्ज या ल्यूकोरिया (safed pani aana) जैसी समस्या होती है।  

  • सफेद पानी की समस्या का एक कारण गोनोरिया (सूजाक) रोग भी है। यह आमतौर पर सेक्स से होने वाली बीमारी है। कभी-कभी आपके पुरुष साथी से ये रोगाणु आपके शरीर में बन सकते हैं। जो लोग अधिक असुरक्षित सेक्स संबंध बनाते हैं, उनमें यह समस्या होने की आशंका भी ज्यादा होती है।

  • कई महिलाएं अलग-अलग बीमारियों के लिए अलग-अलग एंटीबायोटिक्स खाने को मजबूर होती हैं। एंटीबायोटिक्स का ज्यादा सेवन हॉर्मोन्स पर कई तरह के असर डाल सकता है और वैजाइनल डिस्चार्ज का कारण भी बन सकता है।

  • कई महिलाएं खुद को अनचाही प्रेगनेंसी से बचाने के लिए रोज़ गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करती हैं। नियमित रूप से इस गोली को खाने से हॉर्मोन असंतुलित होने लगते हैं और कई तरह की शारीरिक समस्याएं भी हो जाती हैं, जैसे कि बेहोशी। इससे भी सफेद पानी की समस्या हो सकती है।  

  • कई महिलाएं अपनी वैजाइना को साफ करने के लिए साबुन का इस्तेमाल करती हैं। दरअसल साबुन में कई तरह के केमिकल्स होते हैं, जो कोमल त्वचा के लिए हानिकारक होते हैं। वैजाइना में साबुन का इस्तेमाल भी वेजाइनल डिस्चार्ज (safed pani aana) का एक कारण है।

  • मल्टिपल सेक्स पार्टनर भी वैजाइनल डिस्चार्ज होने का मुख्य कारण है।    

  • अन्य कारण - जैसे ज्यादा डायटिंग करना, अश्लील बात-चीत, रोगग्रस्त पुरुष से संबंध बनाने, इंटरकोर्स के बाद योनि को साफ न करना, अंडरग्रामैंट गंदे व रोज न बदलने, यूरीन के बाद योनि को पानी से न धोने या बार-बार गर्भपात करवाना भी सफेद पानी की समस्या के लिए जिम्मेदार हैं। 


सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा - Safed Pani ka Ilaj


आयुर्वेद में ल्यूकोरिया या सफेद पानी की समस्या को एक रोग के रूप में वर्गीकृत नहीं किया गया है। ये एक तरह का योनि रोग है, जिसे श्वेत प्रदर कहते हैं। इसीलिए सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा (safed pani ka ilaj) कहीं मिलती नहीं है। मगर कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का इस्‍तेमाल योनि रोग या ल्यूकोरिया के इलाज में किया जाता है। 


471666-4120-ayurvedic-medicine


सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा बनाने की विधि -


सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा आप अपने घर में ही कुछ औषधि मिलाकर बना सकते है। इसके लिए मुलेठी 10 ग्राम, मिश्री 20 ग्राम, जीरा 5 ग्राम, अशोक की छाल 10 ग्राम- इन सभी का चूरन बनाकर रख लें। दिन में तीन बार 3 से 4 ग्राम चूरन खाने से सफेद पानी की समस्या (safed pani ka ilaj) में आराम मिलता है।


वेजाइना के बारे में ये बातें आपको पता होनी ही चाहिए


सफेद पानी को रोकने के घरेलू उपाय


इन दिनों लगभग सभी उम्र की लड़कियां सफेद पानी की समस्या को झेल रहीं है। एक्सपर्ट का कहना है कि व्हाइट डिस्चार्ज या श्वेत प्रदर की दिक्कत को साफ सफाई रखने, हेल्दी डाइट और कुछ घरेलू नुस्खों (safed pani ka ilaj) द्वारा कंट्रोल किया जा सकता है। तो आइए जानते हैं सफेद पानी की समस्या को दूर करने के आसान घरेलू उपाय के बारे में, जिनको महिलाएं आसानी से घर में कर सकती हैं -


what-is-vaginal-discharge-types-causes-and-treatments %285%29


गूलर का फूल


गूलर का फूल पीसकर उसमें मिश्री व शहद मिलाकर दो-तीन बार सेवन करने से वैजाइनल डिस्चार्ज की समस्या (likoria ka ilaj) से छुटकारा मिलता है।


कच्चा केला


कच्चे केले को सुखाकर उसका चूरन बना लें। अब उसमें समान मात्रा में गुड़ मिलाकर दिन में तीन बार कुछ दिन तक लेने से वैजाइनल डिस्चार्ज में आराम मिलता है।


फालसे का शर्बत


आप चाहें तो फालसे का शर्बत भी पी सकती हैं, हालांकि यह फल सीज़नल होता है। इसलिए जितने समय यह मिलता है, आप इसका फायदा उठा सकती हैं। 


maxresdefault %2820%29


आंवला और शहद


हरे आंवले को पीस कर उसे जौ के आटे में मिलाकर उसकी रोटी एक महीने तक खाने से व्हाइट डिस्चार्ज से आराम मिलता है। इसके अलावा 3 ग्राम आंवले का पाउडर शहद के साथ दिन में तीन बार चाटने से भी इस समस्या से छुटकारा मिलता है। 


भिंडी


भिंडी को उबालकर आप इसका सेवन कर सकती हैं। कुछ लोग दही में भिंडी को मिलाकर इसका सेवन करते हैं। इससे वैजाइनल इन्फेक्शन दूर होता है।


धनिया के बीज


धनिया के बीज को रातभर भिगोकर रखें। इसके बाद अगली सुबह इसका सेवन खाली पेट करें। इसका सेवन करके आप आसानी से सफेद पानी की समस्या से छुटकारा (likoria ka ilaj) पा सकती हैं।


तुलसी


तुलसी की पत्तियों का जूस बनाकर उसमें शहद मिला लें। इसका सेवन करके भी यह समस्या दूर होती है।


अमरूद की पत्तियां


15 से 20 अमरूद की पत्तियों को तब तक उबालें, जब तक कि पानी आधा न हो जाए। अब इस पानी को छान लें और ठंडा होने के बाद इसका सेवन करें।


rice-in-pressure-cooker-3-jpg-jpg


चावल का स्टार्च


चावल को पकाते समय चावल के स्टार्च को अलग निकाल लें। इसके बाद इसका सेवन करें। इससे भी आपकी परेशानी दूर हो जाएगी।


अनार का जूस


आप अनार के बीज या जूस का सेवन करके भी वैजाइनल डिस्चार्ज की समस्या (likoria ka ilaj) को दूर कर सकती हैं। अनार की पत्तियां भी इस समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार होती हैं। आप अनार के पत्तों का पेस्ट बनाकर इसका सेवन सुबह खाली पेट कर सकती हैं।


क्या आप जानते हैं अपनी सेक्सुअल हेल्थ के बारे में ये 8 बातें


सफेद पानी की रामबाण दवा


सफ़ेद पानी की समस्या (safed pani aana) को दूर करने के लिए न जाने हमने कितने उपाय करते हैं, लेकिन फायदा नहीं मिलता है। लेकिन मेथी सफेद पानी की रामबाण दवा है। जी हां इन सब में मेथी एक ऐसी दवा है जो इस समस्या से छुटकारा दिलाने में बहुत सहायक है। इसके लिए हरी मेथी के पत्तो को साफ़ पानी मे धोकर एक किलो पानी मे उबाल लें। इस पानी को छानकर ठंडा करके इसमें थोड़ा सी हल्दी मिलाकर इसका सेवन रोजाना सुबह सुबह करें। सफेद पानी की रामबाण दवा (safed pani ka ilaj) अपना असर दिखाती है। 


वाइट डिस्चार्ज FAQS


what-is-vaginal-discharge-types-causes-and-treatments %286%29


क्या ज्यादा वाइट डिस्चार्ज का मतलब प्रेगनेंसी होती है?


अगर किसी महिला को बहुत ज्यादा वाइट डिस्चार्ज हो रहा है तो ये गर्भावस्था का संकेत हो सकता है विशेषकर यदि इसकी स्थिरता काफी गाढ़ी है। प्रेगनेंसी के दौरान होने वाला वाइट डिस्चार्ज गंधमुक्त या हल्की गंध लिए हुए होता है। 


योनि स्त्राव का उपचार क्या है?


अपने प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई और खूब पानी पीना ही योनि से आने वाले सफेद पानी की रामबाण दवा है। अगर आपको ये सफेद पानी गाढ़ा और बदबूदार होता नजर आये तो शर्म और हिचकिचाहट को छोड़कर इसके बारे में डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।


क्या ल्यूकोरिया कोई बीमारी है ?


ल्यूकोरिया या लिकोरिया कोई बीमारी नहीं है बल्कि एक तरह का वेजाइनल इंफेक्शन हैं। इसमें महिलाओं की योनि से बहुत ज्यादा मात्रा में सफेद बदबूदार पानी निकलता है, जिसे वेजाइनल डिस्चार्ज कहते हैं। इस परेशानी की वजह से महिला का शरीर दिन-ब-दिन कमजोर होने लगता है। अगर ल्यूकोरिया में परहेज (safed pani ka ilaj) नहीं किया गया तो ये इंफेक्शन बढ़ सकता है और प्रजनन अंगों में सूजन आने के साथ अन्य कई रोगों को भी न्योता दे सकता है। 


सफेद पानी की रामबाण दवा पतंजलि में है क्या ?


पतंजलि सफेद पानी की दवा नहीं बनाता है। लेकिन योनि संक्रमण से जुड़े कई आयुर्वेदिक इलाज है। सफेद पानी की आयुर्वेदिक दवा (safed pani ka ilaj) के तौर पर आंवले का चूर्ण, गिलोय, सतावर, शहद और सौंफ के सेवन की सलाह दी जाती है।  


सफेद पानी क्यों आता है?


ज्यादातर महिलाओं में मासिक धर्म आने से कुछ दिन पहले योनी से सफेद पानी आता है। क्योंकि इस दौरान गर्भाशय ग्रीवा और गर्भाशय में मासिक धर्म से पहले योनि को साफ करने के लिए अधिक द्रव का उत्पादन होता है, जोकि हमें सफेद पानी के तौर पर नजर आता है।